Doctor Verified

शरीर में बढ़ानी है एनर्जी तो करें इन 5 आसान हस्‍त मुद्राओं का अभ्‍यास, मिलेंगे और भी फायदे

शरीर में एनर्जी बढ़ाने के ल‍िए आप इन 5 आसान मुद्राओं को जरूरी ट्राय करें  

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jun 03, 2022Updated at: Jun 03, 2022
शरीर में बढ़ानी है एनर्जी तो करें इन 5 आसान हस्‍त मुद्राओं का अभ्‍यास, मिलेंगे और भी फायदे

शरीर में एनर्जी बढ़ाने के ल‍िए योग मुद्राएं फायदेमंद मानी जाती हैं। मुद्रा का सीधा कनेक्‍शन आपके शारीर‍िक और मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य से होता है। ध्‍यान और अवेयरनेस बढ़ाने व शरीर में एनर्जी बढ़ाने के ल‍िए आप इन मुद्राओं की मदद ले सकते हैं। ये आपके शरीर के ल‍िए एनर्जी ड्र‍िंक की तरह काम करेगी। हमारा शरीर पंच तत्‍वों से बना है ज‍िसमें वायु, पानी, अग्‍न‍ि, धरती और आकाश शाम‍िल हैं और इससे ही हमारे शरीर में संतुलन और असंतुलन बनता है। 21 जून को व‍िश्‍व योगा द‍िवस के रूप में मनाया जाता है। इस द‍िन का उद्देश्‍य है लोगों को योगा के प्रत‍ि जागरूक करना। अंतर्राष्‍ट्रीय योगा द‍िवस 2022 की थीम कोव‍िड महामारी में योग के लाभ पर केंद्रि‍त है और इसी कड़ी में हम आपको इस लेख के जर‍िए 5 आसान मुद्राएं बताने जा रहे हैं ज‍िसको करने से आपके शरीर में एनर्जी बढ़ेगी और अन्‍य शारीर‍िक समस्‍याएं भी दूर होंगी। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के रवींद्र योगा क्लीनिक के योगा एक्सपर्ट डॉ रवींद्र कुमार श्रीवास्तव से बात की।

hand mudras

1. आद‍ि‍ मुद्रा (Adi Mudra)

आप बॉडी में एनर्जी को बढ़ाने के ल‍िए आद‍ि मुद्रा का भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं। इस मुद्रा को करने से शरीर में ऑक्‍सीजन की मात्रा बेहतर होती है और लंग्‍स के कार्य करने की क्षमता भी बढ़ती है। आपको इस मुद्रासन को करने से माइंड र‍िलैक्‍स लगेगा और नर्वस स‍िस्‍टम भी बेहतर होगा। ज‍िन लोगों को खर्राटे लेगे की आदत है उन्‍हें भी इस मुद्रा को ट्राय करना चाह‍िए इससे ये समस्‍या दूर होती है। इस मुद्रा को करना आसान है आपको अंगूठे को छोटी उंगली के बेस पर रखना है और बाक‍ि उंंगल‍ी से अंगूठे को ढक देना है इससे एक मुट्ठी बनेगी और इस दौरान गहरी सांस लें। 

इसे भी पढ़ें- कुर्सी पर बैठे-बैठे करें ये 5 योगासन मिलेंगे कई फायदे, बुजुर्ग भी कर सकते हैं आसानी से

2. च‍िन्‍मय मुद्रा (Chinmaya Mudra) 

शरीर में एनर्जी बढ़ाने के ल‍िए आप च‍िन्‍मय मुद्रा की मदद ले सकते हैं। ये मुद्रा मेंटल और फ‍िज‍िकल हेल्‍थ दोनों के ल‍िए लाभदायक मानी जाती है। इस मुद्रा को करने के ल‍िए आप अपने अंगूठे और इंडेक्‍स फ‍िंगर से एक र‍िंंग बनाएं और बाक‍ि 3 उंंगल‍ि‍यों को मोड़ लें जैसे मुठ्ठी बनाते समय मोड़ते हैं फ‍िर हाथों को घुटनों पर रखें और गहरी सांस लें। इस मुद्रा को करने से आपके शरीर में एनर्जी बढ़ेगी और डाइजेशन भी अच्‍छा रहेगा।         

3. वरुण मुद्रा (Varun Mudra)

इस मु्द्रा को करने से बॉडी में फ्लूड का सर्कुलेशन बेहतर होता है। स्‍क‍िन ड‍िसीज को दूर करने के ल‍िए ये मुद्रासन फायदेमंद माना जाता है। वरुण मुद्रा को करने से शरीर में एनर्जी तो बढ़ती ही है साथ ही इंफेक्‍शन का खतरा भी कम होता है। मसल्‍स पेन से छुटकारा द‍िलाने में ये योग फायदेमंद माना जाता है। इस मुद्रा को करने के ल‍िए आप अपनी सबसे आख‍िरी और सबसे छोटी उंगली को अंगूठे से म‍िलाएं और बाक‍ि तीन उंंगल‍ि‍यों को सीधा रखें फ‍िर हाथों को घुटनों पर रखें और मेड‍िटेट करें। आपको छोटी उंगली की ट‍िप को दबाना नहीं है इससे बॉडी में ड‍िहाइड्रेशन हो सकता है।

4. वायु मुद्रा (Vayu Mudra)

वायु मुद्रा को करने के ल‍िए अपनी आख‍िरी तीन उंगली को सीधा करें और पहली उंंगली को मोड़कर अंगूठे से जोड़ दें। अब आपको हाथ को घुटने पर रखना है। इस दौरान गहरी सांस लें और र‍िलैक्‍स करें। इस मुद्रा को करने से बॉडी से एक्‍सट्रा एयर बाहर न‍िकल जाएगी, ज्‍यादा गैस के कारण चेस्‍ट पेन की समस्‍या होती है ज‍िसे वायु मुद्रा दूर करती है। वायु मुद्रा को करने से शरीर में एनर्जी बढ़ती है और बॉडी का एयर बैलेंस ठीक होता है। 

इसे भी पढ़ें- मेडिटेशन के बारे में अक्सर लोगों के मन में होते हैं ये 6 भ्रम, जानें क्या है इनकी सच्चाई 

5. अग्‍न‍ि मुद्रा (Agni Mudra)

अग्‍न‍ि मुद्रा को करने से शरीर में एनर्जी तो बढ़ती ही है साथ ही मोटापे का इलाज भी अग्‍न‍ि मुद्रा है। जी हां एक्‍सपर्ट्स ऐसा मानते हैं क‍ि अगर आप अग्‍न‍ि मुद्रा को करते हैं तो बेली फैट कम होता है, मेटाबॉलि‍ज्‍म अच्‍छा रहता है और डाइजेश भी बेहतर होता है। इस मुद्रा को करने से एस‍िड‍िटी की समस्‍या भी दूर होती है। आपको र‍िंग फ‍िंगर मतलब तीसरी उंगली को फोल्‍ड करना है और अंगूठे के बेस को प्रेस करना है और बाकि‍ उंगल‍ियों को सीधा रखना है। आप इस मुद्रा को खाली पेट सुबह बैठकर करें।

शरीर में एनर्जी बढ़ाने के ल‍िए इन मुद्राओं के अलावा आप बालासन, वीरभद्रासन, धनुरासन, गरुड़ासन आद‍ि भी कर सकते हैं।  

Disclaimer