घर में हार्ट के मरीज हैं तो जानें बढ़ती उम्र में कैसे रखें उनके दिल की सेहत का खयाल, ये 6 टिप्स आएंगे काम

हार्ट के मरीजों को सही डाइट, एक्‍सरसाइज और स्‍ट्रेस फ्री लाइफस्‍टाइल की जरूरत होती है। घर में कोई मरीज है तो आप इन ट‍िप्‍स की मदद से उनका खयाल रखें

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Sep 21, 2021
घर में हार्ट के मरीज हैं तो जानें बढ़ती उम्र में कैसे रखें उनके दिल की सेहत का खयाल, ये 6 टिप्स आएंगे काम

 हार्ट को हेल्‍दी रखने के लि‍ए आपको सही डाइट, एक्‍सरसाइज, स्‍ट्रेस फ्री लाइफ को चुनना चाह‍िए। अगर आपके घर पर कोई हार्ट का मरीज है तो उसकी सेहत का खास खयाल रखें। द‍िल की बीमार‍ी एक गंभीर स्‍थ‍ित‍ि है ज‍िसमें मरीज को हर द‍िन हेल्‍दी द‍िनचर्या का पालन करना चाह‍िए। जो लोग तेल, म‍िर्च मसाले का ज्‍यादा सेवन करते हैं उनका कोलेस्‍ट्रॉल मेनटेन नहीं होता और द‍िल से जुड़ी समस्‍याएं शुरू हो जाती हैं। कोलेस्‍ट्रॉल को कंट्रोल रखने के लि‍ए आपको डाइट में फाइबर एड करना चाह‍िए। केवल डाइट में बदलाव करके आप हार्ट को हेल्‍दी नहीं रख सकते। स्‍ट्रेस कम करना, पूरी नींद लेना और मेड‍िटेशन करने जैसी अच्‍छी आदतों को हार्ट पेशेंट के रूटीन में जरूर एड करें। इस लेख में हम ऐसे 6 ट‍िप्‍स जानेंगे जो आपको हार्ट मरीज का खयाल रखने में मदद कर सकते हैं। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के पल्‍स हॉर्ट सेंटर के कॉर्ड‍ियोलॉज‍िस्‍ट डॉ अभ‍िषेक शुक्‍ला से बात की।

exercise for heart

(image source:abcnews.com)

1. हार्ट के मरीज को रेगुलर एक्‍सरसाइज करवाएं (Opt for regular exercise for heart patient)

आपके घर में कोई हार्ट का मरीज है तो उसे कम से कम द‍िन में 30 म‍िनट वॉक करना चाह‍िए। हर द‍िन चलने के फायदे अनेक है, रोजाना चलेंगे तो फैट बर्न होगा और हार्ट के पंप करने की कैप‍िस‍िटी बढ़ेगी। डॉक्‍टर के मुताब‍िक, जो लोग ज्‍यादातर बैठे रहते हैं उन्‍हें हार्ट ड‍िसीज का खतरा ज्‍यादा होता है। हार्ट के मरीजों को वजन कंट्रोल रखने के तरीके को आजमाना चाह‍िए। कद और उम्र के मुताब‍िक आपको हार्ट मरीज का वजन चेक करवाना चाह‍िए। डॉ सीमा के मुताब‍िक हार्ट के मरीज को कार्ड‍ियो एक्‍सरसाइज से ज्‍यादा योगा करना फायदेमंद होता है। योगा करने से हार्ट के साथ-साथ शरीर भी हेल्‍दी रहता है। 

इसे भी पढ़ें- मिनी हार्ट अटैक क्या है? डॉक्टर से जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज के तरीके

2. एल्‍कोहॉल और स्‍मोक‍िंग से हार्ट मरीज को दूर रखें (Limit alcohol and smoking in heart patient)

अगर आपके घर में कोई हार्ट का मरीज है तो उसे स‍िगरेट और एल्‍कोहॉल से दूर रखें। जिन लोगों को हार्ट की बीमारी होती है वो अगर एल्‍कोहॉल का सेवन करें तो ब्‍लड प्रेशर बढ़ सकता है, कोलेस्‍ट्रॉल लेवल भी अचानक बढ़ जाएगा, शरीर में सूजन आ सकती है और ये सभी लक्षण हार्ट हेल्‍थ के ल‍िए हान‍िकारक साब‍ित हो सकते हैं। एल्‍कोहॉल का सेवन हर हाल में छोड़ देना चाह‍िए और वो भी तब जब आप हार्ट की बीमारी, डायब‍िटीज, हाई बीपी आद‍ि बीमारियों के श‍िकार हों। अगर स‍िगरेट या एल्‍कोहॉल छोड़ने में आपको परेशानी हो रही है तो आप अपने नजदीक वाले स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र पर जाकर डॉक्‍टर से भी सहायता ले सकते हैं।

3. हार्ट मरीज की डाइट का खयाल रखें (Look after diet of heart patient)

food for heart

(image source:news-medical.net)

  • आपका पर‍िजन या म‍ित्र हार्ट का मरीज है तो उसे हेल्‍दी डाइट फॉलो करनी चाह‍िए। हार्ट के मरीजों की डाइट में होल ग्रेन, फ‍िश, फ्रूट्स और वेज‍िटेबल एड करना चाह‍िए।
  • हार्ट के मरीजों को अपनी डाइट में नमक, फैट, शुगर की मात्रा ल‍िम‍िट करनी चाह‍िए, आप हार्ट मरीज के डाइट में नमक की जगह हर्ब्स और स्‍पाइस का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। 
  • हार्ट मरीज को अपनी डाइट में ओमेगा 3 फैटी एस‍िड शाम‍िल करना चाह‍िए, ओमेगा 3 फैटी एस‍िड से आर्टरीज में सूजन कम होती है और हार्ट को प्रोटेक्‍शन म‍िलता है।
  • हार्ट मरीज को छोटे मील्‍स प्‍लान करने चाह‍िए, इससे ज्‍यादा खाने की आदत कम होती है और वजन भी घटता है।
  • हार्ट के मरीज को रोजाना कम से कम 4 लीटर पानी चाह‍िए, पानी कम पीने के कारण भी बीमार‍ियां शरीर में बढ़ने लगती है इसल‍िए बॉडी को हाइड्रेट रखना जरूरी है।

4. हार्ट के मरीज को स्‍ट्रेस फ्री रखें (Provide stress free environment for heart patient)

meditation for heart

(image source:mensjournal)

ऐसा माना जाता है क‍ि माइंड और बॉडी का सही तालमेल हार्ट की बीमार‍ियों से दूर रखने में आपकी मदद करता है। अगर घर में कोई हार्ट का मरीज है तो उसे डीप ब्रीथिंग, मेड‍िटेशन, माइंडफुलनेस को अपने रूटीन में एड करना चाह‍िए। इससे मरीज का स्‍ट्रेस कम होगा और हार्ट की बीमारी बढ़ने की आशंका कम होगी। हार्ट के मरीज को अच्‍छी नींद की भी जरूरत होती है ज‍िससे उसकी इम्‍यून‍िटी मजबूत रहे और हार्ट को स्‍वस्‍थ रहने में मदद मिले। स्‍ट्रेस कम करने के लि‍ए हार्ट के मरीजों का प्‍लान तय करें और एक्‍ट‍िव‍िटीज को द‍िन के मुताब‍िक बांटें ज‍िससे उन्‍हें पॉज‍िट‍िव फील हो और वो खुद को बीमार न समझें।

इसे भी पढ़ें- World Heart Day 2021: खान-पान की गलत आदतें, जो आपको बनाती हैं आपको दिल (हार्ट) की बीमारियों का शिकार

5. हार्ट के मरीज का वजन कंट्रोल करवाएं (Check weight of heart patient)

control weight for heart

(image source:openaccessgovernment)

हार्ट के मरीजों को बीमारी से बचने के ल‍िए वजन कंट्रोल करना चाह‍िए। अगर हार्ट मरीज होने के बाद भी बहुत ज्‍यादा मात्रा में खाते हैं, तो उन्‍हें ये आदत जल्‍द ही छोड़ देनी चाह‍िए। हार्ट के मरीज को खाने में फाइबर की ज्‍यादा मात्रा एड करनी चाह‍िए। आपको मरीज के डाइट मौसमी फल और सब्ज‍ियों को एड करना चाह‍िए। डॉ सीमा के मुताब‍िक हार्ट पेशेंट की डाइट में 60 प्रत‍िशत फल और सब्‍ज‍ियां होनी चाहि‍ए पर ज्‍यादा मीठे फल जैसे केला या आम देने से बचें। वजन कम करने के ल‍िए छोटी-छोटी आदतों में भी बदलाव करें जैसे रात को देर से सोने से आदत, लेटकर खाने की आदत, खाना खाते ही सोने की आदत, दो मील्‍स के बीच गैप न करना आदि आदतों के कारण वजन बढ़ जाता है इसल‍िए इन आदतों पर गौर करें।

6. हार्ट के मरीज का रेगुलर चेकअप करवाएं (Regular checkup for heart patient)

आपके घर में कोई हार्ट का मरीज है तो आपको उसका रेगुलर चेकअप करवाते रहना चाह‍िए। आपको डॉक्‍टर से मरीज के पर्सनल नेचर के बारे में भी बात करनी चाह‍िए जैसे डाइट और फ‍िज‍िकल एक्‍ट‍िव‍िटी, शराब की आदत आद‍ि। इससे डॉक्‍टर मरीज की लाइफस्‍टाइल में जरूरी बदलावों के बारे में बताएंगे। अगर द‍िल से जुड़ी बीमारी के लक्षण बढ़ते हुए नजर आते हैं तो मरीज का इलाज घर पर करने के बजाय तुरंत डॉक्‍टर के पास लेकर जाएं और इलाज करवाएं। आपको चेकअप करवाने के साथ-साथ हार्ट मरीज का ब्‍लड प्रेशर, ब्‍लड शुगर लेवल, कोलेस्‍ट्रॉल लेवल भी चेक करवाते रहना चाह‍िए और साथ ही डॉक्‍टर की ओर से बताई गई दवाओं का सेवन भी न‍ियम‍ित तौर पर करना चाह‍िए।

हार्ट के मरीजों को संतुलि‍त या बैलेंस्‍ड लाइफ की जरूरत होती है तभी वो खुद को स्‍वस्‍थ्‍य रख पाएंगे इसके ल‍िए आप मेड‍िकल सहायता जरूर लें।

(main image source:forbes.com)

Read more on Heart Health in Hindi 

Disclaimer