अर्थराइटिस के मरीज सर्दियों में वर्कआउट करते समय ध्यान में रखें ये 5 बातें

Winter Workout Tips For Arthritis Patients: अगर आपको अर्थराइटिस है तो आप सर्दियों में वर्कआउट करते समय इन बातों का ध्यान रखें -

Priya Mishra
Written by: Priya MishraUpdated at: Dec 21, 2022 11:57 IST
अर्थराइटिस के मरीज सर्दियों में वर्कआउट करते समय ध्यान में रखें ये 5 बातें

सर्दियों में अर्थराइटिस यानी गठिया के मरीजों की काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। मौसम में बदलाव और बढ़ती ठंड के कारण जोड़ों में दर्द की समस्या और भी ज्यादा बढ़ जाती है। सर्दियों में अर्थराइटिस के मरीजों को एक्सरसाइज करने में भी काफी परेशानी होती है। अगर सही तरीके से एक्सरसाइज न की जाए, तो इससे र्थराइटिस की समस्या और भी गंभीर हो सकती है। लेकिन, इसका मतलब यह नहीं है कि अर्थराइटिस के मरीज एक्सरसाइज नहीं कर सकते हैं। अर्थराइटिस के मरीज एक्सरसाइज कर सकते हैं, बस आपको वर्कआउट करते हुए कुछ चीजों का ध्यान रखना होगा। आज इस लेख में हम आपको बता रहे हैं कि अर्थराइटिस के मरीजों को सर्दियों में वर्कआउट करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए (Winter workout tips for arthritis patients In Hindi) -

1. खुले में वर्कआउट न करें 

अर्थराइटिस के मरीजों को खुले में वर्कआउट करने से बचना चाहिए। सर्दियों में ठंडी हवा के कारण जोड़ों के दर्द की समस्या बढ़ सकती है। इसलिए, बेहतर होगा कि आप घर पर या जिम में ही वर्कआउट करें। अगर आप सर्दियों में ओपन एरिया में वर्कआउट करते हैं, तो खुद को अच्छी तरह से कवर करके जाएं।  मसलन, आप गर्म जैकेट, शूज आदि पहनकर ही वर्कआउट करें।

2. जोड़ों पर प्रेशर न दें

अगर आपको अर्थराइटिस है तो ध्यान रखें कि वर्कआउट करते समय अपने जोड़ों पर बहुत अधिक प्रेशर नहीं देना चाहिए। कई बार हम एक्सरसाइज करते हुए अपने जोड़ों पर बहुत अधिक दबाव देते हैं। लेकिन ऐसा करने से जोड़ों में दर्द और सूजन की समस्या बढ़ सकती है। अगर आपको अर्थराइटिस है तो आपको हाई स्पीड वाले वर्कआउट करने से बचना चाहिए। ऐसे वर्कआउट से बॉडी को झटका लगता है, जिससे जोड़ों में दर्द बढ़ सकता है। 

Arthritis-Workout

3. सुबह जल्दी या देर शाम वर्कआउट न करें 

अगर आप किसी पार्क या घर की छत पर वर्कआउट करते हैं, तो समय का ध्यान रखें। दरअसल, कुछ लोग सुबह जल्दी या देर शाम को वर्कआउट करते हैं। लेकिन, ये ऐसा समय होता है जब ठंडी हवा और कोहरा सबसे ज्यादा होता है। इस समय वर्कआउट करने से आपके शरीर और जोड़ों में दर्द हो सकता है। बेहतर होगा कि आप इस समय वर्कआउट न करें। 

इसे भी पढ़ें: गठ‍िया या अर्थराइट‍िस से बचने के ल‍िए अपनाएं डॉक्‍टर के बताए ये 5 टिप्स

4. पॉश्चर का ध्यान रखें 

अर्थराइटिस के मरीजों को वर्कआउट करते समय अपने पॉश्चर का विशेष ध्यान रखना चाहिए। अगर एक्सरसाइज के दौरान आपका पॉश्चर सही नहीं होगा, तो इससे आपको नुकसान हो सकता है। खराब पॉश्चर के कारण हड्डी और जोड़ों पर दबाव पड़ सकता है, जिससे ज्वाइंट पेन की समस्या बढ़ सकती है। आप किसी एक्सपर्ट या ट्रेनर की निगरानी में वर्कआउट कर सकते हैं।  

5. हैवी वेट न उठाएं 

अर्थराइटिस के मरीजों को वर्कआउट के दौरान हैवी वेट उठाने से बचना चाहिए। कई लोग एक्सरसाइज के दौरान हैवी वेट का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन इससे आपकी परेशानी बढ़ सकती है। ज्यादा भारी वजन उठाने के कारण आपके जोड़ों में अधिक दर्द हो सकता है। इसलिए, अर्थराइटिस के मरीजों को हैवी वेट वाली एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए। अगर आप स्ट्रेंथ ट्रेनिंग करते हैं, तो ट्रेनर की निगरानी में ही वर्कआउट करें। 

इसे भी पढ़ें: इन 4 कारणों से सर्दियों में बढ़ सकता है अर्थराइटिस (गठिया) का जोखिम, जानें कैसे बचें

तो, अगर आप अर्थराइटिस के मरीज हैं, तो सर्दियों में वर्कआउट करते समय इन बातों का ध्यान जरूर रखें।

Disclaimer