क‍िन लोगों के शरीर में होती है खून के थक्के (ब्‍लड क्‍लॉट) बनने की ज्यादा आशंका? जानें इससे कैसे करें बचाव

कुछ लोगों को खून के थक्‍के बनने की आशंका ज्‍यादा रहती है, अगर आप भी उन लोगों में शाम‍िल हैं तो इस समस्‍या से बचाव जरूर करें 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Sep 13, 2021 15:52 IST
क‍िन लोगों के शरीर में होती है खून के थक्के (ब्‍लड क्‍लॉट)  बनने की ज्यादा आशंका? जानें इससे कैसे करें बचाव

जब आपको चोट लगती है तो ब्‍लीड‍िंग रोकने के ल‍िए ब्‍लड सैल्‍स एक जगह इकट्ठा हो जाते हैं जि‍ससे आपको त्‍वचा में सूजन या नीला न‍िशान द‍िखाई देता है। इसे हम क्‍लॉट‍िंग कहते हैं पर ब्‍लड क्‍लॉट ऐसी जगह बनने लगे जहां उसे नहीं बनना चाह‍िए तो आपको इससे समस्‍या हो सकती है। ब्‍लड क्‍लॉट अगर द‍िमाग को ब्‍लॉक करता तो स्‍ट्रोक का खतरा हो सकता है वहीं अगर पैर में ब्‍लड क्‍लॉट हुआ है ये आपके लंग्‍स को नुकसान पहुंचा कता है। अगर क‍िसी भी व्‍यक्‍त‍ि को ब्‍लड क्‍लॉट जैसे लक्षण नजर आ रहे हैं तो उसको तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करना चाह‍िए। इस लेख में हम उन लोगों के बारे में बात करेंगे ज‍िन्‍हें ब्‍लड क्‍लॉट होने की ज्‍यादा आशंका हो सकती है। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

blood clotting

(image source:palmveincenter)

ब्‍लड क्‍लॉट होने के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of Blood Clot)

  • ब्‍लड क्‍लॉट होने पर आपको चक्कर आ सकते हैं। 
  • ब्‍लड क्‍लॉट होने पर स‍िर में तेज दर्द उठ सकता है। 
  • अगर आपके शरीर में ब्‍लड क्‍लॉट है तो बीपी बढ़ सकता है। 
  • ब्‍लड क्‍लॉट की समस्‍या होने पर त्‍वचा में खुजली का अहसास होता है। 
  • पीर‍ियड्स के दौरान ब्‍लड फ्लो बढ़ जाता है अगर आपके शरीर में ब्‍लड क्‍लॉट है। 
  • आपके जोड़ों में दर्द हो सकता है। 
  • कुछ लोगों को देखने में परेशानी या आंखों से धुंधला दिखने की समस्‍या आ सकती है। 
  • ब्‍लड क्‍लॉट होने पर त्‍वचा में नील या सूजन नजर आती है और खून एक जगह इकट्ठा हो जाता है। 

इसे भी पढ़ें- शरीर में दिखने वाले ये 5 लक्षण हैं पैरों में खून जमने (ब्लड क्लॉट) का संकेत, जानें क्या है इसका इलाज

1. मोटे लोगों में जल्‍दी बन सकता है ब्‍लड क्‍लॉट (Obese people are at risk of blood clot)

fat people

(image source:eatthis.com)

ज‍िन लोगों का वजन ज्‍यादा होता है या जो मोटापे का श‍िकार होते हैं उनकी बॉडी में ब्‍लड क्‍लॉट बनने की आशंका भी ज्‍यादा होती है। ऐसे लोगों के शरीर में डीवीटी थ्रंबायोस‍िस होने की आशंका बढ़ जाती है। अगर आपका वजन समय के साथ बढ़ रहा है तो वजन कम करने के उपाय अपनाएं ज‍िससे एक्‍सट्रा फैट शरीर में इकट्ठा न हो नहीं तो आपको ब्‍लड क्‍लॉट के साथ-साथ हाई बीपी, हार्ट ड‍िसीज, थॉयराइड जैसी बीमार‍ियां भी हो सकती हैं। गलत खानपान के कारण भी ब्‍लड क्‍लॉट की समस्‍या हो सकती है इसल‍िए आपको स्‍मोक‍िंग, तंबाकू का सेवन, शराब का सेवन नहीं करना चाह‍िए। 

2. अगर आपको हार्ट से जुड़ी बीमारी है तो सावधान रहें (Risk of blood clot for heart patients)

जिन मरीजों को हार्ट से जुड़ी बीमारी होती है उनके ल‍िए ब्‍लड क्‍लॉट की समस्‍या जानलेवा हो सकती है। अगर उन नसों में ब्‍लड क्‍लॉट बनने लगे जो द‍िल तक जाती है तो हार्ट काम नहीं कर पाएगा और हार्ट अटैक की संभावना बढ़ सकती है। ज‍िन लोगों को डायब‍िटीज, हार्ट से जुड़ी बीमारी, मोटापा आद‍ि समस्‍याएं होती हैं उन्‍हें सावधान रहना चाह‍िए। कोव‍िड के दौरान भी हमने ब्‍लड क्‍लॉट‍िंग के बहुत से केस देखे इसल‍िए इस समस्‍या को गंभीरता से लें।

3. गर्भवती मह‍िलाओं को भी हो सकता है ब्‍लड क्‍लॉट (Risk of blood clot during pregnancy)

pregnancy risk

(image source:intermountainhealthcare)

जो मह‍िलाएं गर्भावस्‍था के नाजुक दौर में होती हैं उन्‍हें भी ब्‍लड क्‍लॉट की समस्‍या हो सकती है। गर्भस्‍थ श‍िशु के बढ़ने के साथ ब्‍लड वैसल्‍स पर दबाव पड़ता है और ब्‍लड फ्लो ब्‍लॉक हो सकता है ज‍िसे हम गर्भवस्‍था में होने वाली समस्‍या में ग‍िनते हैं। वहीं गर्भवती मह‍िलाओं के शरीर में एस्‍ट्रोजन हार्मोन की मात्रा बढ़ जाती है ज‍िस कारण से भी ब्‍लड क्‍लॉट बॉडी में फॉर्म हो सकता है और ये गर्भावस्‍था के दौरान अच्‍छा साइंन नहीं है इसल‍िए ऐसे लक्षण नजर आने पर तुरंत डॉक्‍टर को द‍िखाएं।

4. ज्‍यादा देर बैठने वाले लोगों को हो सकता है ब्‍लड क्‍लॉट (Sitting for long hours can form blood clot)

जो लोग ज्‍यादा देर बैठे रहते हैं उन्‍हें भी ब्‍लड क्‍लॉट की समस्‍या हो सकती है। अर आप कार, बस में ज्‍यादा ट्रैवल करते हैं तो आपको ब्‍लड क्‍लॉट होने की आशंका हो सकती है। ज्‍यादा देर बैठने के नुकसान हम सब जानते हैं, इससे नसों पर दबाव पड़ता है और मोटापा भी बढ़ सकता है। इन दिनों जो लोग घर से काम कर रहे हैं वो पूरे द‍िन एक ही जगह पर एक ही पोज‍िशन में बैठे रहते हैं ऐसे में ब्‍लड क्‍लॉट होने की आशंका बढ़ जाती है। आपको समय-समय पर वॉक करते रहना चाह‍िए ज‍िससे नसों पर ज्‍यादा दबाव न पड़े, ऑफ‍िस में भी आपको अपनी सीट से उठकर छोटे-छोटे ब्रेक लेते रहने चाह‍िए।

5. बर्थ प‍िल्‍स या हार्मोन्‍स की गोली खाने वाली मह‍िलाएं (Women taking birth pill or harmonal pill)

pills and risk

(image source:amazonaws.com)

अगर आप बर्थ प‍िल्‍स खाती हैं तो आपके शरीर में ब्‍लड क्‍लॉट के लक्षण नजर आ सकते हैं। जो मह‍िलाएं अक्‍सर बर्थ प‍िल्‍स खाती हैं उन्‍हें आम मह‍िलाओं के मुकाबले ब्‍लड क्‍लॉट होने की आशंका ज्‍यादा रहती है। हार्मोनल प‍िल्‍स भी खून के थक्‍के बनाने का काम करती हैं, इसल‍िए आपको ब‍िना डॉक्‍टर की सलाह ल‍िए इनका सेवन नहीं करना चाह‍िए। कभी-कभी हेल्‍दी मह‍िलाओं में भी ब्‍लड क्‍लॉट के लक्षण नजर आ जाते हैं जैसे पैरों में सूजन, सांस लेने में परेशानी होना, चेस्‍ट पेन आद‍ि।

इसे भी पढ़ें- खून को पतला करने वाली दवाओं के साथ न लें इस तरह के भोजन, स्वाति बाथवाल से जानें कैसे करें डाइट में सुधार

ब्‍लड क्‍लॉट की समस्‍या से कैसे बचें? (How to prevent blood clot)

haldi and milk

(image source:powerofpositivity) 

  • ब्‍लड क्‍लॉट की समस्‍या से बचने के ल‍िए आपको हल्‍दी वाले दूध का सेवन करना चाह‍िए। 
  • हल्‍दी वाले दूध के फायदे कई होते हैं, पर इसका सेवन करने से खून गाढ़ा नहीं होता और थक्‍के नहीं बनते। 
  • आपको ब्‍लड क्‍लॉट की समस्‍या से बचने के ल‍िए खाने में फाइबर युक्‍त चीजों को शाम‍िल करना चाह‍िए।
  • फाइबर युक्‍त चीजों को डाइट में एड करने से खून गाढ़ा नहीं होता। 
  • आपको अपनी डाइट में ब्रोकली, ब्राउन राइस, ओट्स, सेब आद‍ि चीजों को शाम‍िल करना चाह‍िए। 
  • आपको फ‍िश ऑयल का सेवन भी करना चाह‍िए इससे ब्‍लड क्‍लॉट की समस्‍या से बचाव होता है। 
  • आपको अपनी डाइट में लहसुन को एड करना चाह‍िए, लहसुन से ब्‍लड प्रेशर नॉर्मल रहता है और खून गाढ़ा नहीं होता।

खून का थक्‍का बनना एक गंभीर समस्‍या है, अगर आपको इसके लक्षण महसूस होते हैं तो तुरंत डॉक्‍टर को द‍िखाएं। दवाओं से इस मसस्‍या को काबू में क‍िया जा सकता है पर समय पर इलाज जरूरी है।

main image source:amazonaws.com)

Read more on Other Diseases in Hindi 

Disclaimer