Lockdown: वर्क फ्रॉर्म होम में हो न जाएं आप कहीं 'डिजिटल आई सिंड्रोम' का शिकार, जानें बचाव का तरीका

COVID-19 लॉकडाउन के कारण, कई लोग घर से काम कर रहे हैं। ऐसे में लगातार कंप्यूटर स्क्रीन पर काम करना आंखों के लिए सही नहीं है। 

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: May 02, 2020Updated at: May 02, 2020
Lockdown: वर्क फ्रॉर्म होम में हो न जाएं आप कहीं 'डिजिटल आई सिंड्रोम' का शिकार, जानें बचाव का तरीका

लॉकडाउन में ज्यादातर लोग वर्क फ्रॉम कर रहे हैं और घर से इस तरह काम करना बहुत से लोगों को बीमार कर रहा है। लंबे समय तक कंप्यूटर स्क्रीन पर घूरते हैं, तो यह आपकी दृष्टि को प्रभावित कर सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि कंप्यूटर और मोबाइल फोन स्क्रीन नीली रोशनी का उत्सर्जन करते हैं, जिससे आंखों की सूखापन और जलन हो सकती है। ज्यादा देर तक टीवी देखने का भी यही असर हो सकता है। इसे डिजिटल आई सिंड्रोम (Digital Eye Syndrome) के रूप में भी जाना जाता है। इसलिए, आपको सचेत रूप से अपनी स्क्रीन के समय को सीमित करने की कोशिश करनी चाहिए ताकि आपकी आंखें स्वस्थ रहें। 

insideeyecare

इसके साथ ही घर से काम करने के बाद भी हम फिल्म देखने और मोबाइल पर किसी न किसी वजह से लगे रहते हैं। कुल मिलाकर कहें तो आपकी आंखों के पास आराम करने का वक्त ही नहीं होगा। ऐसे में आपकी पलकें खुली दर्द देनी वाली हो सकती है। इसके साथ ही आपके आंखों में खुजली और एलर्जी सकती है और आंखों का पानी सूख जाने के कारण आपको देखने में भी परेशानी आ सकती है। कुल मिलाकर आपको इससे समझ जाना चाहिए कि आंखों के लिए कैसे खतरनाक है कंप्यूटर और मोबाइल फोन स्क्रीन। अब आपको इस परेशानी से बचाने के लिए हम आपको ये बताएंगे कि आप अपनी आंखों की देखभाल कैसे करें और डिजिटल आई सिंड्रोम के लक्षणों को कैसे बचें।

खुद को हेल्दी रखने के बारे में कितने जागरूक हैं आप? खेलें ये क्विज :

Loading...

इसे भी पढ़ें : चलती गाड़ी में है किताब पढ़ने की आदत? तो इस रोग के लिए रहें तैयार

डिजिटल आई सिंड्रोम से बचने के लिए ऐसे करें अपने आंखों की देखभाल

नियमित अंतराल पर ब्रेक लें

अगर आप कंप्यूटर पर काम करते हैं या बहुत अधिक टीवी देखते हैं, तो आपको नियमित अंतराल पर अपनी आंखों को स्क्रीन से दूर ले जाने की आवश्यकता है। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं, तो इससे आपकी आंखों की सिलिअरी मांसपेशियों को नुकसान हो सकता है। इस समस्या से बचने के लिए आपको बस नियमित अंतराल पर कुछ व्यायाम करने होंगे। कुछ सेकंड के लिए लगभग 10 फीट दूर किसी वस्तु पर ध्यान केंद्रित करें। इससे आपको स्क्रीन से संबंधित आंखों की समस्याओं से निपटने में मदद मिलेगी।

बीच-बीच में पलकें झपकाएं

अगर आप अपने काम में तल्लीन हैं, तो आप अपने आप कम पलकें झपकाएंगे। इससे सूखी आंखें, धुंधली दृष्टि और आपकी आंखों की थकान होती है। इस समस्या को दूर करने के लिए, बस इस बात के प्रति सचेत रहें और अधिक बार झपकी लेना याद रखें। इससे आपकी आंख की मांसपेशियों को कुछ आराम मिलेगा। इसके अलावा, यह आंखों के चारों ओर नमी देगा, जिससे आपकी आंखों को सुकून मिलेगा।

insideeyepain

इसे भी पढ़ें : जानें क्यों फड़कने लगती है आपकी आंख? इससे जुड़ी जरूरी सावधानियां और रोकने के घरेलू उपाय

अपनी आंखे घुमाएं

यह आपकी आंखों की मांसपेशियों को टोन करेगा और आंखों के चारों ओर परिसंचरण को उत्तेजित करेगा। लगभग 20 बार अपनी आंखों को दोनों दिशाओं में घुमाते हुए देखें और इससे जो फर्क पड़ता है उसे देखें। आपके डिजिटल आई सिंड्रोम के लक्षण जल्दी गायब हो जाएंगे।

अपनी आंखें को एक मालिश दें

यह सरल है। बस कुछ गर्मी पैदा करने के लिए अपनी हथेलियों को आपस में रगड़ें। फिर, अपनी दोनों हथेलियों को अपनी आंखों के ऊपर लगभग दस मिनट तक रखें।  ऐसा करते समय आपको पूरे समय अपनी आंखें बंद रखनी चाहिए। ये आपकी आंखों को आराम पहुंचाएगा।

अच्छी लाइटिंग वाले रूम में काम करें

कृपया सुनिश्चित करें कि आप एक अच्छे कमरे में काम करें, जहां कि लाइटिंग अच्छी हो। मंद या फ्लोरोसेंट रोशनी आपकी आंखों पर अधिक दबाव डालती है। आपको अंधेरे कमरे में काम करने से भी बचना चाहिए। इससे आपकी आंखों पर अनावश्यक दबाव पड़ेगा।

Read more articles on Other-Diseases in Hindi

Disclaimer