Doctor Verified

Ayurvedic Diet Tips: आयुर्वेद के अनुसार रात के खाने में क्‍या खाएं और क्‍या नहीं?

आयुर्वेद के मुताब‍िक आपको रात के समय सात्‍व‍िक भोजन का सेवन करना चाह‍िए। जानते हैं रात के खाने में क्‍या खाएं और क्‍या नहीं।

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Aug 24, 2022Updated at: Aug 30, 2022
Ayurvedic Diet Tips: आयुर्वेद के अनुसार रात के खाने में क्‍या खाएं और क्‍या नहीं?

शरीर को स्‍वस्‍थ रखने के ल‍िए हेल्‍दी डाइट लेना जरूरी है। आयुर्वेद के मुताब‍िक आप जैसा खाना खाते हैं उसका असर आपके शारीर‍िक और मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभाव‍ित करता है। ऐसी बहुत सी चीजें हैं जो रात के भोजन में शाम‍िल करना चाह‍िए और कई ऐसी चीजें हैं ज‍िन्‍हें ड‍िनर में खाने से बचना चाह‍िए। आज हम आपको बताएंगे क‍ि आयुर्वेद के अनुसार, स्‍वस्‍थ शरीर के ल‍िए हेल्‍दी ड‍िनर कैसा होना चाह‍िए। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में स्‍थित प्रांजल आयुर्वेद‍िक क्‍लीन‍िक के डॉ मनीष स‍िंह से बात की।

Ayurveda diet tips

रात के भोजन में दही न खाएं 

दही का सेवन करने से पेट से जुड़ी समस्‍याएं दूर होती हैं। लेक‍िन आयुर्वेद के अनुसान रात के दौरान आपको दही का सेवन नहीं करना चाह‍िए। दही देर से पचता है और कुछ लोग खाने के तुरंत बाद सो जाते हैं। इस आदत के साथ आपको दही नुकसान पहुंचा सकता है। रात को दही खाने से कुछ लोगों को कफ की समस्‍या भी हो जाती है।   

ड‍िनर में मीठी चीजों से बचें 

आयुर्वेद की मानें, तो आपको रात के समय मीठी चीजों का सेवन नहीं करना चाह‍िए। रात को मीठी चीजों का सेवन करने से दांतों को नुकसान पहुंच सकता है और पाचन से जुड़ी समस्‍याएं हो सकती हैं। रात को चॉकलेट या मि‍ठाई का सेवन करने से गले में खराश की समस्‍या भी हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें- आयुर्वेद के अनुसार रात के खाने (डिनर) में नहीं खानी चाहिए ये 5 चीजें, सेहत को होता है नुकसान

सात्‍व‍िक भोजन खाएं 

सात्‍व‍िक भोजन खाने से शरीर और द‍िमाग का सही संतुलन बना रहता है। आयुर्वेद के मुताब‍िक, रात को सात्‍व‍िक खाने का सेवन करना चाह‍िए। सात्‍व‍िक खाने में सभी मसाले, ताजा पका हुआ खाना, फल, सब्‍ज‍ियां, नट्स, सीड्स, शहद, गुड़, हर्बल चाय, सलाद और ताजे जूस शाम‍िल हैं। आपको तामस‍िक भोजन का सेवन नहीं करना चाह‍िए। तामस‍िक भोजन में कॉफी, चाय, एल्‍कोहल, च‍िक‍न, फ‍िश, अंडा, मशरूम, फ्राइड खाना और फ्रोजन फूड शाम‍िल है।

लो-कॉर्ब्स खाएं   

रात को लो-कॉर्ब्स डाइट लें। कॉर्ब्स को डाइजेस्‍ट करना मुश्‍क‍िल होता है। लो-कॉर्ब्स आसानी से पच जाता है। आपको अपनी डाइट में पनीर, टोफू और फल‍ियां आद‍ि खानी चाह‍िए। इसके अलावा ऐसी चीजों का सेवन करें ज‍िसमें नमक की मात्रा कम हो।     ज्‍यादा नमक कपा सेवन करने से वॉटर र‍िटेंशन की समस्‍या बढ़ जाती है और आप मोटे हो सकते हैं। 

ड‍िनर में प्रोटीन खाएं 

आप रात को ऐसी चीजों का सेवन करें ज‍िसमें प्रोटीन की भरपूर मात्रा हो। आप दालें और हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन कर सकते हैं। रात को प्रोटीन का सेवन करेंगे, तो पाचन तंत्र बेहतर ढंग से काम करेगा। अगर आप थायराइड के मरीज हैं, तो डॉक्‍टर की सलाह पर ही प्रोटीन र‍िच फूड्स का सेवन करें।   

आयुर्वेद के मुताब‍िक ड‍िनर कब करें?

आयुर्वेद की मानें, तो आपको 6 से 7 के बीच में रात का भोजन खा लेना चाह‍िए। रात को हल्‍का भोजन ही करना चाह‍िए। सूरज ढलने के साथ आपका आख‍िरी मील या भोजन भी खत्‍म हो जाना चाह‍िए। सोने और खाने के बीच 2 घंटे का अंतर जरूर रखें। कोश‍िश करें क‍ि ताजा खाना खाएं। पहले से पका हुआ भोजन खाने से आपको बचना चाह‍िए।  

आयुर्वेद के मुताब‍िक डाइट फॉलो करने से आपका पाचन तंत्र बेहतर होगा और आप बीमार‍ियों से बच सकते हैं। लेख पसंद आया हो, तो शेयर करना न भूलें।   

image credit: mapsofindia.com

Disclaimer