सेकंड हैंड ड्रिंकिंग: जब किसी दूसरे के शराब पीने से आपको होने लगता है नुकसान, जानें इसके बारे में

सेकंड हैंड ड्रि‍ंक‍िंग में दूसरों की शराब पीने की लत आपको नुकसान पहुंच सकती है, जानते हैं इसके बारे में

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jun 22, 2022Updated at: Jun 22, 2022
सेकंड हैंड ड्रिंकिंग: जब किसी दूसरे के शराब पीने से आपको होने लगता है नुकसान, जानें इसके बारे में

शराब पीने की लत आपकी सेहत खराब कर सकती है पर क्‍या दूसरों के शराब पीने से भी आपको कोई नुकसान हो सकता है? एक टर्म है ज‍िसे सेकंड हैंड ड्रि‍ंक‍िंग के नाम से जाना जाता है। ये सेकंड हैड स्मोकिंग की ही तरह है, जिसमें दूसरे के द्वारा पी गई सिगरेट का धुंआ आपकी सेहत को नुकसान पहुंचाता है। सेकंड हैंड ड्र‍िंक‍िंग को आप एक आदत या मजबूरी कह सकते हैं ज‍िसमें क‍िसी दूसरे व्‍यक्‍त‍ि के शराब पीने के कारण आपको शारीरिक अथवा मानसिक नुकसान झेलना पड़ सकता है। एक्‍सपर्ट्स की मानें तो लोग न चाहते हुए भी कई बार सेकंड हैंड ड्रिंकिंग के श‍िकार हो जाते हैं क्योंकि शराब पीने वाला उनका अपना ही कोई करीबी होता है। धूम्रपान और शराब दोनों ही हमारी सेहत को खराब करते हैं, इससे हमारे शरीर और मन पर बुरा असर पड़ता है और व्‍यक्‍त‍ि बुरी आदतों का श‍िकार हो जाता है। आप सेकंड हैंड ड्रिंकिंग के बारे में व‍िस्‍तार से जानना चाहते हैं तो लेख को अंत तक पढ़ें।   

secondhand drinking

सेकंड हैंड ड्रिंकिंग क्‍या है? (Secondhand Drinking in Hindi)

शराब पीने वाले व्‍यक्‍त‍ि को इस बात का एहसास नहीं होता क‍ि वो अपने आसपास के लोगों को भी इस लत से प्रभाव‍ित कर रहा है। सेकेंड हैंड ड्र‍िंक‍िंग में एक व्‍यक्‍त‍ि के शराब पीने के कारण उसके आसपास रहने वाले लोगों पर न पीने के बावजूद भी बुरा प्रभाव पड़ने लगता है। सेकेंड हैंड ड्र‍िंक‍िंग के कारण न‍िजी और औपचार‍िक र‍िश्‍तों पर भी असर पड़ सकता है। आपको बता दें क‍ि सेकंड हैंड ड्र‍िंक‍िंंग के कारण शराब पीने वाले व्‍यक्‍त‍ि का पार्टनर, दोस्‍त या सहकर्मी प्रभाव‍ित हो सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- शराब पीने से मस्तिष्‍क के साथ-साथ पूरे शरीर में होते हैं ये 5 बदलाव, जिनका उपचार कर पाना है मुश्किल         

सेकंड हैंड ड्रि‍ंक‍िंग के नुकसान (Side Effects of Secondhand Drinking in Hindi)

सेकंड हैंड ड्र‍िंक‍िंग के कारण लोगों की सेहत और मन पर बुरा असर पड़ता है। अनजाने में लोग इसका श‍िकार हो जाते हैं। ऐसे लोगों में बच्‍चे, वयस्‍क या कोई भी व्‍यक्‍त‍ि शाम‍िल हो सकता है। सेकंड हैंड ड्रि‍ंक‍िंग का असर करीबी दोस्‍तों, पर‍िवार, पत‍ि- पत्नी, माता-प‍िता, बच्‍चे आद‍ि पर ज्‍यादा पड़ता है। सेकंड हैंड ड्रि‍ंक‍िंग के कारण कई नुकसान हो सकते हैं जैसे- 

शारीरिक हिंसा (Physical Violence)

सेकंड हैंड ड्रिंकिंग का एक साइड इफेक्‍ट ये भी है क‍ि इससे शारीर‍िक ह‍िंंसा के मामले बढ़ सकते हैं। शराब पाने के बाद कई लोग गुस्‍सा दूसरों पर न‍िकालते हैं, दूसरों से मारपीट करते हैं या च‍िल्‍लाने लगते हैं ज‍िससे दूसरों को परेशानी हो सकती है। पत‍ि-पत्नी के बीच मारपीट या घरेलू ह‍िंंसा भी सेकंड हैंड ड्रिंकिंग का एक उदाहरण है।   

एक्सीडेंट 

सेकंड हैंड ड्रिंकिंग के कारण एक्‍सीडेंट के केस भी बढ़ सकते हैं। शराब पीने के बाद व्‍यक्‍त‍ि का खुद पर काबू नहीं होता ज‍िसके पर‍िणामस्‍वरूप चोट लगना या तेज ड्राइव करने के कारण हादसा या अन्‍य क‍िसी तरह के एक्‍सीडेंट का श‍िकार हो सकते हैं।  हमारे देश में हर द‍िन कई रोड एक्‍सीडेंट एल्‍कोहल के सेवन के कारण होते हैं। 

उत्पीड़न (Harassment)

सेकंड हैंड ड्रि‍ंक‍िंग के कारण द‍िमाग पर बुरा असर पड़ता है। ज‍िस व्‍यक्‍त‍ि से शराब पी है वो दूसरों के साथ उत्‍पीड़न के रूप में गलत व्‍यवहार, लड़ाई कर सकता है। ऐसा नहीं है क‍ि उत्‍पीड़न का श‍िकार केवल मह‍िलाएं होती हैं, कोई पुरुष भी उत्‍पीड़न का श‍िकार हो सकता है।       

क‍िसी की शराब छुड़वाने के ल‍िए क्‍या करें?

  • ज‍िस व्‍यक्‍त‍ि को शराब की लत है उसे आप शराब के नुकसान के बारे में बताएं।
  • ज‍िस व्‍यक्‍त‍ि को शराब की लत है वो क‍िसी मानस‍िक समस्‍या का श‍िकार हो सकता है, उसकी परेशानी सुनें।
  • शराब अचानक से छोड़ना व्‍यक्‍त‍ि के ल‍िए मुमक‍िन नहीं होगा आप पहले उनसे मात्रा कम करने के ल‍िए कहें। 
  • डॉक्‍टर की सलाह के बगैर आप व्‍यक्‍ति‍ को शराब की लत छोड़ने के ल‍िए कोई दवा न दें। 
  • शराब पीने वाले व्‍यक्‍त‍ि को नशा मुक्‍त‍ि केंद्र पर लेकर जाएं या अपने निकट स्‍थि‍त हॉस्‍प‍िटल में डॉक्‍टर से सलाह लें।       

भागदौड़ भरी ज‍िंदगी में इंसान खुद को खुश रखने के ल‍िए शराब के सेवन जैसे कदम उठा लेता है और उसका आदी हो जाता है पर एल्‍कोहल हर तरीके से आपकी सेहत के ल‍िए हान‍िकारक है आज ही इसकी लत छोड़ें। 

Disclaimer