ऑयल पुलिंग के नुकसान: सही तरीके से न करें तो नुकसान भी पहुंचा सकती है ऑयल पुलिंग तकनीक

ऑयल पुलिंग (तेल से कुल्ला करने) के फायदे तो आपने कई बार सुने होंगे। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसे ठीक से न करें तो कई नुकसान भी हो सकते हैं?

Monika Agarwal
आयुर्वेदWritten by: Monika AgarwalPublished at: Apr 02, 2022Updated at: Apr 02, 2022
ऑयल पुलिंग के नुकसान: सही तरीके से न करें तो नुकसान भी पहुंचा सकती है ऑयल पुलिंग तकनीक

ऑयल पुलिंग यानी तेल से कुल्ला या गरारा करना। ऑयल पुलिंग को आयुर्वेद में सैकड़ों सालों से इस्तेमाल किया जाता रहा है। इसमें मुंह की पूरी सफाई तो हो हीजाती है, साथ ही इससे स्किन पर ग्लो बढ़ता है और कई बीमारियों से भी छुटकारा मिलता है। ऑयल पुलिंग आज कल काफी ट्रेंड में है। लेकिन लोग इसे जुड़े लाभों के पीछे दुष्प्रभाव को नजरंदाज कर देते हैं। पहले आपका जानना जरूरी है कि क्या है ऑयल पुलिंग। असल में ऑयल पुलिंग डिटॉक्सीफाइंग आयुर्वेदिक टेक्निक है। इसमें आपको खाने वाले किसी तेल (नारियल, तिल या ऑलिव ऑयल) को करीब दस से पन्द्रह मिनट पूरे मुंह में घुमाकर कुल्ला करना होता है। माना जाता है कि सिर में दर्द, माइग्रेन, डायबिटीज के अलावा अस्थमा जैसी स्थितियों में यह फायदेमंद है। लेकिन इस तकनीक से कई तरह की हानियां भी देखने को मिलती है। यहां तक कि अगर सही समय पर इस ओर ध्यान नहीं दिया गया तो, आपकी जान भी जा सकती है।

क्या हो सकते हैं ऑयल पुलिंग के साइड इफेक्ट्स

निमोनिया

ऑयली चीजों की वजह से लिपोइड निमोनिया की आशंका बढ़ा जाती है। ये एक तरह की फेफड़ों से जुड़ी बीमारी है। ये बीमारी ज्यादातर उन लोगों को होती है, जो ऑयल पुलिंग टेक्निक को बिना एक्सपर्ट से सलाह लिए आजमाते हैं। बता दें इसे करते वक्त जब आप ज्यादा मात्रा में ऑयल को निगलते हुए सांस लेते हैं तो स्विशिंग ऑयल की वजह से सूखी खांसी की शिकायत सामने आने लगती है।

इसे भी पढ़ें : सुबह सोकर उठने के बाद क्यों आती है मुंह से बदबू? जानें इसके 6 कारण, लक्षण और बचाव

Oil-Pulling-Side-Effects

जी मिचलाना और पेट खराब होना

ऑयल पुलिग टेक्निक पेट की खराबी और दस्त का कारण बन सकती है। तेल के बड़े बड़े गरारे करने से आपका जी मिचला सकता है। और गलती से अगर अपने इस तेल को निगल लिया तो पेट खराब हो सकता है। इस वजह से भी नुकसानदायक है। अगर आप हर रोज ब्रश करते हैं, तो आपका मुंह वैसे भी साफ़ ही रहेगा।

साइड इफेक्ट से कैसे बचें?

ऑयल पुलिंग से होने वाले साइड इफेक्ट्स से कैसे बचा जाए, ये सवाल बेहद अहम है। अगर आपने ऑयल पुलिंग गलत तरीके से किया है तो शत प्रतिशत आपको इसके साइड इफेक्ट्स देखने को मिल सकते हैं । इसलिए ये निम्न गलतियां न करें-

  • सुबह उठते ही अपने दांतों को अच्छे से रोज की तरह ब्रश करें। आप अपनी जीभ को साफ़ करें।
  • कम से कम 10 मिलीलीटर नारियल, सूरजमुखी या तिल का तेल लेकर अपने मुंह में लेकर चारों ओर घुमाएं। ताकि ऑयल अच्छे से चरों तरफ फ़ैल जाए। ध्यान रहे तेल को निगलें नहीं।
  • दांतों से लेकर मसूड़ों और तालू तक ऑयल पहुँचाने के लिए जीभ का इस्तेमाल करें।
  • जैसे आप कुछ चबाते हैं, ठीक वैसे ही अपने जबड़ों को हिलाएं।
  • 10 से 15 मिनट के बाद थूक दें और मुंह को पानी से अच्छे से साफ़ कर लें।

मुहं की सफाई के लिए ऑयल पुलिंग वैसे तो सबसे पुरानी तकनीक है। लेकिन ये तभी फायदेमंद होगी जब इसे ठीक तरह से किया गया होगा। इस लिए इसे करने से पहले एक्सपर्ट की सलाह जरुर लें।

(All Image Source - Freepik.com)

Disclaimer