Doctor Verified

वजन घटाने के लिए करें आयुर्वेद‍िक औषधि कचनार गुग्गुल का इस्तेमाल, जानें 5 तरीके

वजन घटाने के ल‍िए आप आयुर्वेद‍िक औषध‍ि कचनार गुग्‍गुल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं, जानते हैं तरीका  

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Mar 31, 2022Updated at: Mar 31, 2022
वजन घटाने के लिए करें आयुर्वेद‍िक औषधि कचनार गुग्गुल का इस्तेमाल, जानें 5 तरीके

अगर आप वजन कम करने के उपायों के बारे में सोच रहे हैं तो आपको बता दें क‍ि आयुर्वेद में भी ऐसी कई औषध‍ि हैं ज‍िनके इस्‍तेमाल से आप अपना वजन आसानी से कम कर सकते हैं। वेट लॉस के ल‍िए आप कचनार को कई तरह से इस्‍तेमाल कर सकते हैं। कचनार पेड़ की जड़, पत्‍ते, फल, छाल सभी वेट लॉस में मदद करते हैं। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में स्‍थित प्रांजल आयुर्वेद‍िक क्‍लीन‍िक के डॉ मनीष स‍िंह से बात की। 

weight loss ayurveda

image source: wikimedia

कचनार गुग्गुल क्‍या है? (Kanchnar guggul in hindi)

कचनार की बात करें तो ये हर्ब ह‍िमालय के जंगह और न‍िचली पहाड़ी क्षेत्र में पाया जाता है, कचनार के पेड़ होते हैं। कचनार पेड़ की छाल, पत्‍ते, फूल, बीज आद‍ि का इस्‍तेमाल क‍िया जाता है। आप कचनार गुग्गुल के 12-24 मिली पत्‍ते के रस का इस्‍तेमाल कर सकते हैं वहीं अगर उसका चूर्ण बना रहे हैं तो एक बार में 3 से 6 ग्राम मात्रा का ही इस्‍तेमाल करें।  

इसे भी पढ़ें- घर पर इस तरह बनाएं आयुर्वेदिक हिंग्वाष्टक चूर्ण, नियमित सेवन से दूर हो सकती हैं आपकी ये 8 समस्याएं

वेट लॉस के ल‍िए कचनार गुग्गुल का इस्‍तेमाल कैसे करें? (How to use kanchnar guggul for weight loss) 

1. कचनार की जड़ और पत्‍ते का काढ़ा बनाकर आप 10 से 20 म‍िली ग्राम की मात्रा में पी सकते हैं।

2. आप कचनार के पत्‍ते, छाल और बीज को स‍िरके में पीसकर म‍िश्रण बना लें और उसे सौंफ के साथ म‍िलाकर खाएं, इससे वजन भी कम होगा और पेट का हाजमा भी अच्‍छा होगा। 

3. कचनार के फूल का काढ़ा बना लें। इसका सेवन करने से आपका वजन भी कम होगा और हार्मोन्‍स के असंतुल‍ित होने की समस्‍या भी नहीं आएगी।

4. आप कचनार के सूखे फल के चूर्ण को भी पानी में म‍िलाकर उसका सेवन कर सकते हैं। आपको एक द‍िन में 3 से 4 बार इसका सेवन करना है। 

5. आप कचनार की छाल का रस न‍िकाल लें और उसमें थोड़ा सा जीरा म‍िलाकर गुनगुने पानी के साथ खाएं। इसके अलावा आप कचनार की छाल को पानी में पकाकर उसका पानी आधा होने पर काढ़े के फॉर्म में पी सकते हैं।  

कचनार गुग्गुल के फायदे (Benefits of kanchnar guggul)

आयुर्वेदा में ऐसी बहुत सी जड़ी-बूटी हैं ज‍िनका इस्‍तेमाल आप शरीर की कई समस्‍याओं को दूर करने के ल‍िए करते हैं। इन जड़ी-बूटी से शरीर अंदर से साफ होता हैर इम्‍यून‍िटी मजबूत रहती है। कचनार गुग्गुल की मदद से न स‍िर्फ वजन कम होता है बल्‍क‍ि इसके इस्‍तेमाल से हाइपोथायराइड‍िज्‍म, हार्मोनल असंतुलन, पीसीओएस, जोड़ों का दर्द आद‍ि से न‍िजात पाने में मदद म‍िलती है। गुग्गुल एक संस्कृत शब्‍द है ज‍िसका मतलब होता है बीमार‍ियों से बचाव।   

इसे भी पढ़ें- कब्ज होने पर दूध पीना चाहिए या नहीं? एक्सपर्ट से जानें इस बारे में

कचनार गुग्गुल की मदद से कम कर सकते हैं वजन (Kanchnar guggul helps to lose weight)

weight loss ayurveda in hindi

image source: nurserylive

अगर आप मोटापे से जूझ रहे हैं तो आपको कचनार गुग्गुल नाम की औषध‍ि का इस्‍तेमाल करना चाह‍िए। ये वजन घटाने का आयुर्वेद‍िक तरीका है। कचनार गुग्गुल आपको फ‍िट बनने में मदद करेगा। इसका स्‍वाद भले ही कड़वा होता है पर इसके तीखे और कड़वे स्‍वाद के बावजूद इसका सेवन करने से फैट जल्‍दी बर्न हो सकता है और शरीर के बाक‍ि ह‍िस्‍सों से एक्‍सट्रा फैट भी कम होगा।

मह‍िलाओं में मोटापे का एक बड़ा कारण पीसीओएस भी हो सकता है। पीसीओएस का कारण भी हार्मोनल इंबैलेंस होता है ज‍िसके चलते वजन बढ़ने लगता है। कचनार गुग्गुल की मदद से हार्मोन्‍स बैलेंस करने में मदद म‍िलती है। ज‍िन लोगों को थायराइड होता है उनका वजन भी तेजी से बढ़ने लगता है, वजन कम करने के ल‍िए आप कचनार गुग्गुल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं।थायराइड होने पर शरीर में हार्मोन्‍स का असंतुलन होने लगता है ज‍िसके कारण आपका वजन बढ़ जाता है पर अगर आप कचनार गुग्गुल का सेवन करेंगे तो एक्‍सट्रा फैट के जमा होने की समस्‍या से बच जाएंगे। 

आप अगर प्रेगनेंट हैं या ब्रेस्‍टफीड करवाती हैं तो कचनार गुग्गुल का सेवन न करें। वहीं अगर इसका सेवन करने से त्‍वचा पर चकत्‍ते या रेडनेस नजर आए तो इस्‍तेमाल बंद कर दें। 

main image source: https://betterme.world, wikimedia

Disclaimer