मांसपेशियों और खेलते वक्त लगी चोट के उपचार में फायदेमंद है 'डीप टिश्यू मसाज', जानें फायदे और नुकसान

यह रक्त प्रवाह को बढ़ाकर और सूजन को कम करके तेजी से मांसपेशियों के दर्द में आराम दिला सकता है।

 
Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Feb 14, 2020Updated at: Feb 14, 2020
मांसपेशियों और खेलते वक्त लगी चोट के उपचार में फायदेमंद है 'डीप टिश्यू मसाज', जानें फायदे और नुकसान

डीप टिश्यू मसाज एक मसाज तकनीक है, जिसका उपयोग मुख्य रूप से मस्कुलोस्केलेटल मुद्दों, जैसे मामलों और खेल चोटों के इलाज के लिए किया जाता है। इसमें टिश्यूज की गहराइयों तक पहुंचने वाले मसाज किए जाते हैं। इसमें आपकी मांसपेशियों और संयोजी ऊतकों की आंतरिक परतों को लक्षित करने के लिए धीमी, गहरी स्ट्रोक का उपयोग करके निरंतर दबाव लागू करना शामिल है। यह निशान ऊतक को तोड़ने में मदद करता है जो चोट के बाद बनता है और मांसपेशियों और ऊतक में तनाव को कम करता है। वहीं इसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं। हर मसाज की तरह ये सिर्फ स्ट्रेस को ही कम नहीं करता, बल्कि जिन लोगों को ब्लड प्रेशर से जुड़ी परेशानियां हैं या हड्डी से जुड़ी परेशानियां हैं उनके लिए भी ये काफी फायदेमंद है। 

inside_benefitsofdeeptissuemessage

डीप टिश्यू मसाज के फायदे

डीप टिश्यू मसाज से शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दोनों तरह के फायदे मिलते हैं। अन्य मालिश तकनीकों के विपरीत, जो विश्राम पर ध्यान केंद्रित करती हैं। गहरी ऊतक मालिश मांसपेशियों के दर्द का इलाज करने और कठोरता में सुधार करने में मदद करती है। लेकिन यह अभी भी मानसिक रूप से आराम करने में आपकी मदद कर सकता है।

59 प्रतिभागियों को शामिल करने वाले 2014 के एक अध्ययन में पाया गया कि गहरी ऊतक मालिश ने पुरानी पीठ के दर्द वाले लोगों के लिए बेहतर है। लेखकों ने इसके प्रभाव की तुलना नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स जैसे इबुप्रोफेन (एडविल) से की। लोगों ने यह भी बताया कि उन्हें इस मालिश से क्या क्या लाभ मिले हैं। जैसे-

  • चोट में आराम 
  • फिब्रोमेलगिया  (Fibromyalgia)
  • हाई ब्लड प्रेशर में आराम
  • कोहनी की अंग विकृति

इसे भी पढ़ें : रत्न-जवाहरात से मसाज, इसलिए शरीर के लिए है बेहद खास!

उपयोग का उद्देश्य

डीप टिश्यू मसाज का उपयोग मुख्य रूप से पुराने दर्द और मांसपेशियों और खेल-संबंधी चोटों के इलाज के लिए किया जाता है।रोजमर्रा की गतिविधियों के कारण मांसपेशियों में तनाव को कम करने के लिए भी लोग इसका इस्तेमाल करते हैं।

शरीर के प्रेशर प्वाइंट्स पर होता है असर

स्वीडिश मसाज मसाज का एक ऐसा रूप है, जो गहरे टिश्यू मसाज की तुलना में बहुत कम तनाव का उपयोग करता है। पर इस गहरी मालिश के दौरान बढ़े हुए दबाव को लागू करने के लिए कोहनी और प्रकोष्ठ का भी उपयोग किया जा सकता है।  गहरी ऊतक मालिश आपकी मांसपेशियों की आंतरिक परतों को लक्षित करती है। यह आपके प्रमुख मांसपेशी समूहों और जोड़ों में मांसपेशियों की चोटों, दर्द और कठोरता का इलाज करता है। ये शरीर के उन हिस्सों पर ध्यान केंद्रित करती है, जो आपकी गर्दन, कंधों और पीठ पर सबसे अधिक तनाव देते हुए मालिश करता है।

inside_massage

मालिश के दौरान क्या होता है?

डीप टिश्यू मसाज से पहले, आपको अपने मालिश करवाने वाली समस्या क्षेत्रों के बारे में जानना चाहेगा। एक गहरी ऊतक मालिश आपके पूरे शरीर या सिर्फ एक क्षेत्र को शामिल कर सकती है। एक बार तैयार होने के बाद आपको एक शीट के नीचे, अपनी पीठ या पेट के बल लेटना होगा। आपके तनाव का स्तर आपके आराम पर आधारित है और फिर अपनी मालिश करें या करवाएं। मसाज थेरेपिस्ट एक हल्के स्पर्श का उपयोग करके आपकी मांसपेशियों को गर्म कर देगा। एक बार जब आप गर्म हो जाते हैं, तो वे आपकी समस्या क्षेत्रों पर काम करना शुरू कर देंगे। 

इसे भी पढ़ें : बॉटल मसाज से तुरंत मिल जाएगा तलवों के दर्द से आराम!

डीप टिश्यू मसाज के नुकसान

एक गहरी ऊतक मालिश के बाद कुछ दिनों के लिए कुछ सुस्तपन होना असामान्य नहीं है। एक हीटिंग पैड या एक तौलिया में लिपटे कोल्ड पैक का उपयोग करने से खराश को दूर करने में मदद मिल सकती है।

आम तौर पर ये मालिश सुरक्षित होती है। पर कुछ चीजों में आपको इसके खतरा का भी ख्याल रखना होता है। जैसे-

    • -रक्त के थक्के या थक्के के विकार का इतिहास है तो।
    • -खून को पतला करने की दवा ले रहे हैं।
    • -रक्तस्राव विकार में।
    • -कैंसर है या कैंसर का इलाज चल रहा है, जैसे कि कीमोथेरेपी या विकिरण।
    • -ऑस्टियोपोरोसिस या कैंसर के साथ कोई भी जो हड्डियों में फैलता है, उसे गहरी ऊतक मालिश से बचना चाहिए क्योंकि इस्तेमाल किया गया फर्म फ्रैक्चर का कारण बन सकता है। 
    • -गर्भवती हैं, तो आपको गहरी ऊतक मालिश पर भी रोक लगाना चाहिए। 
    • - किसी तरह का खुला घाव या त्वचा का संक्रमण है, तो भी आपको इस मालिश से बचना चाहिए।

Read more articles on Mind-Body in Hindi

Disclaimer