सुबह से शाम तक हेल्दी लगने वाली ये 5 आदतें आपके लिए यूं बन जाती हैं अनहेल्दी, शरीर को होते हैं ये नुकसान

फिट रहने के लिए अच्छी आदतें बहुत जरूरी हैं लेकिन कुछ हेल्दी आदतें कभी-कभी अनहेल्दी बन जाती हैं, जानिए कैसे।

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Feb 14, 2020Updated at: Feb 14, 2020
सुबह से शाम तक हेल्दी लगने वाली ये 5 आदतें आपके लिए यूं बन जाती हैं अनहेल्दी, शरीर को होते हैं ये नुकसान

खुशहाल जिंदगी और लंबा जीवन जीने के लिए हमारे बड़े-बुजुर्ग और डॉक्टर हमेशा से एक बात को दोहराते हुए आए हैं कि स्वस्थ आदतें यानी की हेल्दी हेबिट्स को अपनाएं और उनका जीवन भर पालन करें। लेकिन कई शोध में ये दावा किया जा चुका है कि जरूरत से ज्यादा हर चीज करना आपकी सेहत के लिए नुकसानदेह होता है फिर चाहे वे हेल्दी भोजन ही करना क्यों न हो। हेल्दी भोजन ही नहीं कुछ हेल्दी आदतों को जरूरत से ज्यादा करना आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। जी हां, आपको शायद इस बात का अहसास न हो लेकिन कुछ हेल्दी आदतों को जरूरत से ज्यादा करना आपके शरीर के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है, और इनके परिणाम आपके लिए सुखद नहीं होंगे। इस लेख में हम आपको ऐसी 5 आदतों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो भले ही हेल्दी हैं लेकिन इन्हें जरूरत से ज्यादा करना आपकी स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है।

healthy habits

5 हेल्दी आदतें, जिन्हें बार-बार न करें

विटामिन्स का हाई डोज लेना

मौजूदा वक्त में अभी भी ये बहस का एक विषय है कि रोजाना मल्टीविटामिन लेना आवश्यक हैं या नहीं। लेकिन क्या आप जानते हैं, विटामिन्स का हाई डोज लेना वास्तव में आपके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। कई अध्ययनों से ये सामने आया है कि रोजाना विटामिन्स की अनुशंसित मात्रा का चार गुना लेने से आप कैंसर का शिकार हो सकते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जब लोग कई सालों तक मल्टीविटामिन्स का ओवरडोज लेते हैं तो सामान्य सेलुलर ग्रोथ अपने रास्ते से भटक जाती है और सेल अनियंत्रित रूप से बढ़ जाते हैं। अगर आप मल्टीविटामिन लेते हैं, तो एक ऐसे ब्रांड का चुनाव करें, जो दैनिक अनुशंसित मूल्य के 100 प्रतिशत से अधिक न हो।

इसे भी पढ़ेंः पेट को हेल्दी रखती हैं आपकी ये आदतें, जानें पेट के साथ शरीर को तंदरुस्त रखने का आसान तरीका

जरूरत से ज्यादा ब्रश करना

क्या आप उन लोगों में से एक हैं, जो अपने दांतों को जोर-जोर से ब्रश करते हैं? अगर आपका जवाब हां हैं तो आपको इसे रोकने की आवश्यकता है। जोर-जोर से दांतों पर ब्रश करने से आपके दांतों पर चढ़ी इनेमल उतरने लगती है और आपके मसूड़े छिलने लगते हैं। यह कई अन्य दंत समस्याओं को पैदा कर सकता है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि 10 से 20 प्रतिशत वयस्क जरूरत से ज्यादा ब्रश करने के परिणामस्वरूप अपने दांतों को नुकसान पहुंचा लेते हैं। इसलिए आपको एक नरम टूथब्रश का उपयोग करना चाहिए, धीरे-धीरे हाथ चलाने चाहिए। अगर आपके टूथब्रश के ब्रिसल्स मुड़ गअ हैं तो आपको ब्रश करने में बहुत मुश्किल होगी।

unhealthy habits

बहुत अधिक फाइबर का सेवन

आपको ये जानकर हैरत होगी कि पांच फीसदी लोग भी फाइबर की अनुशंसित मात्रा का सेवन नहीं करते हैं, लेकिन फाइबर के सेवन में भारी वृद्धि से आपका पेट फूला हुआ और पेट में गैस का दबाव महसूस कर सकते हैं। अगर आप फाइबर का सेवन बढ़ाना चाहते हैं, तो सप्ताह में एक से दो सर्विंग्स अपनी नियमित डाइट में शामिल करके इसकी शुरुआत करें। आप सफेद से साबुत अनाज की रोटी और आलू के चिप्स को सेब से बदलकर एक छोटी शुरुआत कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ेंः ऑफिस या घर में बैठे-बैठे कांपने लगते हैं हाथ, इन 5 आदतों को बदलकर कम करें हाथों का कांपना

जरूरत से ज्यादा सोना

कुछ लोगों के लिए सात से आठ घंटे की नींद एक सपने जैसा होता है। लेकिन कुछ लोग बहुत लंबे समय तक बिस्तर में रहते हैं, जिसके कई दुष्परिणाम हो सकते हैं। पूरे सप्ताह सही से न सोने के कारण वीकएंड पर ज्यादा देर तक सोना आपके लिए वास्तव में हानिकारक हो सकता है। एक अध्ययन में पाया गया कि जो लोग हर दिन नौ घंटे से अधिक सोते हैं, उनमें सात से आठ घंटे तक सोने वाले लोगों की तुलना में अल्जाइमर विकसित होने की संभावना दो गुना अधिक होती है।

एक्सरसाइज

हम में से अधिकांश लोग पर्याप्त शारीरिक गतिविधियां नहीं करते हैं, लेकिन उन लोगों की संख्या बहुत कम है जो जरूरत से ज्यादा एक्सरसाइज करते हैं। आपको ये बात हमेशा ध्यान रखनी चाहिए कि कठोर एक्सरसाइज के बाद रिकवरी के लिए आपकी बॉडी को थोड़े समय की जरूरत होती है। इसलिए लंबे, हाई-इंटेंसिटी जिम सेशन के बाद खुद को ब्रेक नहीं देने से आपको चोट भी लग सकती है और आपको इससे कोई फायदा भी होता नहीं दिखेगा। एक सप्ताह में एक-दो दिन की रिकवरी का समय सुनिश्चित करें और अपने वर्कआउट को ठीक व संतुलित बनाएं।

Read more articles on Mind-Body In Hindi

Disclaimer