गर्मियों में मस्ती मस्ती में करें ये 2 काम, तुरंत बर्न होगी कैलोरी

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 10, 2018
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • गर्मी का मौसम सैर करने के लिए थोड़ा मुश्किल समय होता है।
  • पानी नैचरल और ऑर्गेनिक होता है, जो तेजी से वजन घटाता है।
  • लोग समझते हैं कि वॉटर एक्सरसाइज सीखना काफी मुश्किल है।

गर्मियों में फिट रहने के लिए क्यों न ऐसा तरीका अपनाया जाए जिससे आप न तो धूप में तपेंगे और न पसीने से भीगेंगे। इस तरीके का नाम है, अक्वा एक्सरसाइज। पूल में रहकर न सिर्फ बॉडी को कूल रखा जा सकता है बल्कि फैट भी आसानी से बर्न होगा। गर्मी का मौसम सैर करने वालों के लिए थोडा मुश्किल समय होता है। लेकिन मौसम के बदलाव के कारण आप व्यायाम पर विराम न लगने दें क्योंकि शरीर को फिट रखने के लिए एक्सरसाइज बेहद जरूरी है।

इन गर्मियों में खूबसूरत दिखने के लिए जरूरी है कि आपने सर्दियों में जितनी भी एक्स्ट्रा कैलरीज ली हैं, उसे बर्न किया जाए। सर्दियों में तो पैदल चलने, वॉकिंग या जॉगिंग से फैट बर्न हो जाता है मगर गर्मियों में चिलचिलाती धूप और पसीने की चिपचिप के कारण कई लोग न तो वॉक कर पाते हैं और न एक्सरसाइज। इसलिए इस गर्मी आप पूल में उतरकर अक्वा एक्सरसाइज से फिट रह सकते हैं।

जरूरी है वॉटर फिटनेस

हमारा शरीर करीब 60 फीसदी पानी से बना है, इसलिए कहा जाता है कि जल ही जीवन है। गर्मियों में शरीर से अपने आप पसीना निकलता है, जिस कारण इसका लेवल मेंटेन करना भी किसी चुनौती से कम नहीं होता। दूसरी वजह यह है कि पानी नैचरल और ऑर्गेनिक होता है। इसलिए आपने देखा होगा कि कुछ लोग वॉटर डंबल, वॉटर ग्लव्स, फ्लोटिंग बेल्ट लिए पूल में एक्सरसाइज करते नजर आते हैं। पूल में डीप एक्सरसाइज में बाइक, बॉल या ट्रेडमिल भी काफी हिट हो रहे हैं।

इसे भी पढ़ें : बिना किसी खर्च के पतला और स्लिम-ट्रिम दिखने के लिए रोज करें ये 5 काम

ताजगी का एहसास

जो भी एक्सरसाइज आप जिम में करते हैं, वह पानी में भी की जा सकती हैं। चाहे योग, किक बॉक्सिंग, जुंबा, एरोबिक्स, कार्डियो हो या स्ट्रेचिंग, ये सभी पानी के अंदर बख्ाूबी की जा सकती हैं। इससे आपको पसीना भी कम आएगा और थकान भी कम होगी। जब आप पानी से बाहर आएंगे तो ज्य़ादा ताजगी महसूस करेंगे और जिम के मुकाबले पूल में ज्य़ादा कैलरी बर्न करेंगे।

एक्सरसाइज और मस्ती भी

आप अपने पार्टनर के साथ अंडरवॉटर डांस भी कर सकते हैं और इससे आपकी कार्डियो ंवैस्कुलर फिटनेस बरकरार रहेगी। इससे शरीर भी ताकतवर बनेगा। अंडरवॉटर का ज्य़ादाफायदा लेना है तो आप अक्वालेट्स, ताइक्वांडो और योग भी कर सकते हैं। इसके अलावा भी कई तरह की अंडरवॉटर एक्सरसाइज होती हैं जैसे जॉगिंग, वॉकिंग, डंबल्स, रनिंग, हाई नी स्प्रिंट और पानी में घूमना। इनमें सबसे ज्य़ादा पॉपुलर है, अंडरवॉटर ट्रेडमिल। यह िफजिकल थेरेपी और स्पोट्र्स मेडिसिन के तौर पर भी इस्तेमाल हो रहा है।

वॉटर वॉकिंग से कैलरी बर्न

कैलरी बर्न करने और बेहतर शेप पाने के लिए वॉटर वॉकिंग बेहतरीन एक्सरसाइज है। आप अपने साइज की एक बॉल के भीतर रहते हैं जो पानी में घूमती रहती है। इससे आपकी मसल्स शेप में तो आएंगी ही और एक घंटे में कम से कम 600 कैलरी बर्न भी होगी। वॉटर वॉकिंग दो तरह की होती है- डीप वॉटर वॉकिंग और शैलो वॉटर वॉकिंग।

दिल को भी भाए पानी

पानी में की जाने वाली एक्सरसाइज दिल की सेहत के लिए भी बेहतर साबित होती हैं। यह दिल में खून का दौरा बढाकर आपके फेफडों को मजबूत करने का काम करती है। पानी का दबाव भी मसाज की तरह काम करता है। इससे दिल को जाने वाले खून की गति बढ जाती है और रेस्परेटरी सिस्टम को बेहतर करती है।

इसे भी पढ़ें : बढ़ते पेट को कम करने के लिए आजमाएं ये 6 हेल्‍दी ड्रिंक्स, 7 दिन में दिखेगा असर

सीखना चुटकियों का काम

ऐसा नहीं है कि वॉटर एक्सरसाइज सीखना काफी मुश्किल है। अगर आपको तैरना आता है तो बस पानी में बैलेंस बनाना सीखना होगा। इसके बाद वेट उठाने का नंबर आएगा। पानी के मुकाबले जमीन पर वेट उठाना नुकसानदायक और दर्द भरा होता है, जबकि पानी में ऐसी कोई दिक्कत नहीं होती। पानी में वेट उठाने पर वह शरीर को सहारा देता है। इससे रीढ पर भी अतिरिक्त जोर नहीं पडता है।

हडि्डयों के लिए फायदेमंद

अक्वा एक्सरसाइजेज करते वक्त पानी में हार्ड एक्सरसाइज करना भी मुश्किल नहीं होता है। पानी एक तरह से गद्दे का काम करता है और आपके जोडों पर दबाव देता है। गर्म पानी के साथ हाइड्रोथेरेपी लेने से उन लोगों को भी फायदा मिलता है, जिनको हड्डियों से संबंधित परेशानी होती है। इससे शरीर में खून का दौरा बढता है और शरीर के उन हिस्सों में भी ऑक्सीजन युक्त खून पहुंचता है, जहां आपके टिश्यू या मसल्स में पेन रहता है। गर्म पानी से भी मसल्स की सिंकाई होती है और हड्डियों का तनाव एक हद तक कम हो जाता है। इससे आथ्र्राइटिस के मरीजों को भी दर्द से राहत मिलती है। कई अध्ययनों से यह भी पता चला है कि यह कई तरह के आथ्र्राइटिस के मरीजों को फायदा पहुंचाती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles on Weight Loss in Hindi

Loading...
Write Comment Read ReviewDisclaimer
Is it Helpful Article?YES776 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर