पर्यावरण को रखना है सुरक्षित? इन 17 अच्छी आदतों से अपने कार्बन फुट-प्रिंट (कार्बन उत्सर्जन) को करें कम

कार्बन फुट फ्रिंट हमारे द्वारा कुल कार्बन कार्बन उत्सर्जन को कहा जाता है। रोजमर्रा के लगभग हर एक कार्य में कार्बन का उत्सर्जन होता है।

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Apr 20, 2022Updated at: Apr 20, 2022
पर्यावरण को रखना है सुरक्षित? इन 17 अच्छी आदतों से अपने कार्बन फुट-प्रिंट (कार्बन उत्सर्जन) को करें कम

कार्बन फुट प्रिंट शायद आप में से कई लोग इस शब्द से अनजान हों, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा किया गया हर एक छोटा सा छोटा कार्य कार्बन फुट प्रिंट का कारण बन सकता है? जी हां, आपके खाने से लेकर कपड़े पहनने तक, कार्बन फुट प्रिंट का कारण बन सकता है। अब शायद कई लोग इस बात से कंफ्यूज होंगे कि आखिर यह कार्बन फुट प्रिंट है क्या? अगर आप भी इससे अबतक अनजान हैं, तो परेशान न हों। Onlymyhealth के इस महीने के Campaign ‘focus of the month’ में Healthy Living पर कुछ लेख के माध्यम से शरीर और आसपास के वातावरण को स्वस्थ रखने का खास टिप्स दिया जाता है। आज हम इस कड़ी में आपको कार्बन फुट प्रिंट के बारे में बताएंगे। साथ ही रोजमर्रा में कार्बन फुटप्रिंट को कम करने के कुछ खास टिप्स भी दिया जाएगा। आइए जानते हैं कार्बन फुट प्रिंट क्या है, इसे कम करने के लिए क्या किया जाए?

क्या है कार्बन फुट प्रिंट? (What is carbon footprint?)

साधारण शब्दों में कार्बन फुट प्रिंट आपके द्वारा किया गया कुल कार्बन उत्सर्जन है। कार्बन उत्सर्जन ग्रीनहाउस गैसों और कार्बन डाई ऑक्साइड (co2) के रूप में होता है। कार्बन डाई ऑक्साइड और ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन और खपत के माध्यम होता है।

इसे भी पढ़ें - कार्बन मोनोऑक्साइड विषाक्तता (पॉइजनिंग) क्या है? डॉक्टर से जानें बचने के उपाय 

क्या आप जानते हैं कि आपके पास मौजूद कपड़े, फोन, भोजन इत्यादि को बनाने के लिए कितना कार्बन उत्सर्जित हुआ है? यह उत्सर्जन आपकी खपत और उत्पादन पर निर्भर करता है। अगर किसी वाहन का उदाहरण लिया जाए, तो प्लेन (plane) से प्रति किलोमीटर 285 ग्राम कार्बन उत्सर्जित होता है। वहीं, एक कार प्रति किलोमीटर 104 ग्राम और एक ट्रेन प्रतिकिलोमीटर 14 ग्राम कार्बन उत्सर्जित करता है। इस तरह भोजन, जींस, कपड़े, टी-शर्ट्स को तैयार करने में भी कई ग्राम कार्बन का उत्सर्जन होता है। इन सभी कार्बन उत्सर्जन को ही कार्बन फुट प्रिंट कहा जाता है। 

क्यों है फिक्र करने की जरूरत?

दुनियाभर की बढ़ती आबादी में लगातार कार्बन उत्सर्जन भी बढ़ता जा रहा है। ग्रीनहाउस गैसों के बढ़ते उत्सर्जन का सीधा असर ग्लोबल वार्मिंग पर पड़ता है। यह प्रभाव जलवायु परिवर्तन में तेजी ला सकता है। ऐसे में हम सभी को कार्बन उत्सर्जन को कम करने की कोशिश करनी चाहिए। हमारे द्वारा उठाया गया हर एक छोटा सा कदम ग्लोबल वार्मिंग से लड़ने में योगदान दे सकता हैं। 

कार्बन उत्सर्जन को कैसे करें कम? (How to limit your carbon footprint?)

अपने लाइफस्टाइल में कुछ हल्के-फुल्के बदलाव करके आप कार्बन फुट प्रिंट को कम कर सकते हैं। इसके लिए आपको विशेष कार्य करने की आवश्यकता नहीं होती है। आइए जानते हैं कैसे करें कार्बन फुट प्रिंट को कम-

1. मौसमी और स्थानीय उत्पादों का सेवन करें। यह स्वास्थ्य के लिए हेल्दी भी होते हैं। साथ ही वातावरण के अनूकुल भी माने जाते हैं। 

2. मीट, मछली और मांस का कम से कम मात्रा में सेवन करें। 

3. मार्केट जाने से पहले अपने साथ शॉपिंग बैग जरूर रखें। प्लास्टिक पैकेजिंग और उत्पादों को खरीदने से बचें। 

4. खाने को बर्बाद कने से बचें। हमेशा वही चीजें खरीदें या उतना ही खाना बनाएं, तो आपके लिए पर्याप्त हो। अधिक मात्रा में 5. खाना न बनाएं। इससे खाने की भी बर्बादी होती है। साथ ही पर्यावरण पर भी इसका असर पड़ता है। 

6. अपने कपड़ों को अच्छे से रखें, ताकि आपके कपड़े लंबे समय तक चले। इससे आपको ज्यादा कपड़े की जरूरत नहीं होगी। 

7. अगर आप कार्बन फुट प्रिंट को कम करना चाहते हैं, तो कपड़ों को आपस में बदल कर पहनें। कोशिश करें कि किसी फंक्शन के लिए नए कपड़े खरीदने से बेहतर है, कपड़े सुधार लें या फिर रेंट पर लें। 

8. जितने कपड़े की जरूरत है, सिर्फ उतनी मात्रा में भी कपड़े खरीदें।  

9. पुनर्नवीनीकरण सामग्री या इको-लेबल के साथ तैयार किए गए कपड़े को पहनें। 

10. कार्बन फुट प्रिंट को कम करने के लिए साइकिल या सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करें। 

11. लंबी यात्रा के लिए ड्राइविंग करें। आसपास जाने के लिए पैदल चलें। 

12. अगर आप आउट ऑफ स्टेशन जा रहे हैं, तो कार या प्लेन के बजाय ट्रेन से जाएं। 

13. गैस का फ्लेम कम करके खाना पकाएं। 

14. ब्रश करते समय या फिर बर्तन धोते समय पानी बंद करके रखें। इससे पानी की बर्बादी कम होगी। 

15. जरूरत न पड़ने पर लाइट, पंखे, कूलर, एसी जैसे उपकरणों को बंद करें।

इसे भी पढ़ें - क्या फेस मास्क पहनने से ऑक्सीजन सप्लाई पर पड़ता है असर? शरीर में कार्बन डाई ऑक्साइड बढ़ने के क्या हैं नुकसान?

16. फोन, कैमरा या फिर अन्य इलेक्ट्रोनिक गैजेट्स की बैटरी फुल होने से पहले चार्जर निकालें। लंबे समय तक फोन को चार्ज न करें।

17.  घर के कचरे को जितना हो सके, उतना री-साइकल करने की कोशिश करें। 

आपके द्वारा उठाया गया हर एक छोटा सा कदम कार्बन उत्सर्जन को कम कर सकता है। साथ ही इससे हमारा पर्यावरण स्वस्थ रहेगा। यह कदम न सिर्फ पर्यावरण को हेल्दी रख सकता है, बल्कि इन आदतों से आप भी स्वस्थ रहेंगे। 

Disclaimer