रोज सुबह उठते ही करें 'वेकिंग रेस्ट' की प्रैक्टिस,जानें आपको दिनभर तनाव मुक्त रखने में ये तकनीक कैसे है मददगार

वेकिंग रेस्ट (Waking Rest)  इन दिनों इंटरनेट पर पॉपुलर हो रही एक खास तकनीक है, जिसमें व्यक्ति अपने दिन की शुरुआत ऐसे करता है कि वो तनावमुक्त रहे।

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Oct 30, 2021 00:00 IST
रोज सुबह उठते ही करें 'वेकिंग रेस्ट' की प्रैक्टिस,जानें आपको दिनभर तनाव मुक्त रखने में ये तकनीक कैसे है मददगार

आपने कभी छोटे से बच्चे को सोते हुए देखा है? जिसे न जल्दी उठने की चिंता न किसी काम की टेंशन। जबकि वयस्क लोग अक्सर कैसे उठते हैं- हड़बड़ाते हुए जल्दबाजी में। इस व्यस्तता का असर न सिर्फ दिमाग, बल्कि शरीर और सेहत पर भी पड़ता है। हम यह कह सकते हैं कि जितना ज्यादा मॉडर्न युग बनता जा रहा है उतनी ही अधिक हमारी स्ट्रेस और थकान बढ़ती जा रही है। हम दिन की शुरुआत ही चिंतित होने से करते हैं। पहले के जमाने में सुबह की शुरुआत को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता था और इसलिए ही सुबह-सुबह वॉक आदि पर जा कर अपने शरीर को एक्टिव किया जाता था। लेकिन आज के समय में हम अपने प्रोजेक्ट आदि की डेड लाइन पूरी करने के चक्कर में काफी स्ट्रेस रहते हैं और उठते ही काम पर लग जाते हैं। इस प्रकार हम अपने शरीर को समय ही नहीं दे पाते हैं और काफी थकान से भरे रहते हैं। इसी थकान और स्ट्रेस को कम करने  के लिए वेकिंग रेस्ट ट्रेंड में चल रहा है। आइए जानते हैं क्या है यह तकनीक और इससे आपको क्या लाभ मिल सकता है।

वेकिंग रेस्ट तकनीक

माना कि सोशल मीडिया आदि से आपको एक संतुष्टि की फीलिंग आती है। लेकिन खुद से संतुष्ट रहने के लिए आपको मानसिक तौर पर स्वस्थ रहना ज्यादा जरूरी है। सबसे ज्यादा संतुष्टि हमें तब मिलती है जब हम सुबह बिना किसी चिंता के उठते है। इसी को वेकिंग रेस्ट बोला जाता है। इसे हम ऐसे भी परिभाषित कर सकते हैं कि यह हमारे मस्तिष्क का वो समय होता है जो जब मस्तिष्क बिलकुल शांत होता है। कोई भी हड़बड़ी या नकारात्मक विचार इसके अंदर नहीं होते।

इस अभ्यास से आपको जागते हुए भी खाली दिमाग महसूस होगा और यह तकनीक आपके दिमाग को हर उस ख्याल से दूर रखने में मदद करेगी जो इसको प्रभावित कर सकता है। इस तकनीक के माध्यम से चाहे आप घर का काम कर रहे हों, या आफिस का या फिर अन्य कोई भी काम कर रहे हों, उस समय भी आपका दिमाग बिलकुल निश्चिंत रहेगा और कुछ भी नहीं सोचेगा।

(image : womensweekly.com)

इस तकनीक का अभ्यास किस प्रकार करें?

पहले अपने कमरे की लाइट जलाएं

क्या आपने कभी नोटिस किया है कि जब बरसात के दिन होते हैं या कोहरे वाले दिन, तो आपको अधिक सुस्ती सी महसूस होती है। उठने का मन नहीं करता उसका कारण है कि आपके शरीर के अंदर की क्लॉक को रिसेट होने में टाइम लगता है। इसलिए हल्का सा प्रकाश आपको एक्टिव कर सकता है। आप जल्दी बिस्तर छोड़ेंगे। आपका समय भी खराब नहीं होगा, और हड़बड़ी भी महसूस नहीं होगी।

इसे भी पढ़ें ः शरीर ही नहीं, माइंड (मन) के टॉक्सिन्स यानी गंदगी को दूर करना भी है जरूरी, जानें कैसे करें माइंड डिटॉक्स

फोन से बनाए दूरी

अधिकांश लोगों की आदत होती है कि उठते ही सबसे पहले अपने मोबाइल सेट को चेक करते हैं। मैसेज स्क्रॉल करते हैं, फेसबुक या ट्विटर चलाते हैं। इस कारण आपका काफी समय खराब हो जाता है और से शुरुआत होती है स्ट्रेस की। यदि आप सुबह-सुबह अपने सेल के साथ कम समय बिताएंगे तो आपको समय भी ज्यादा नजर आएगा और किसी प्रकार की कोई हड़बड़ाहट भी नहीं होगी।

स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करें

स्ट्रेचिंग करने से आपकी मांसपेशियों में अच्छी तरह से ब्लड फ्लो होगा और सुस्ती दूर भागेगी। अपनी सुबह की शुरुआत में अपने दिमाग को केवल दो तीन मिनट दें, ताकि इसके अंदर जो भी ख्याल आता है आप उसे समझ सकें।

थोड़ी देर तक कुछ ना करें यह फीलिंग भी आपको काफी रिलैक्स कर देगी। बल्कि ऐसी किसी गतिविधि में खुद को लगा लें जिसमे किसी प्रकार की मानसिक गति शामिल न हो रही हो। अगर आप इसे नियमित रूप से करेंगे तो आपका दिमाग इसका आदी हो जायेगा और जो भी चिंता आपको रोजाना खाती जाती है उससे आपको मुक्ति मिल सकती है। स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज बेहद फायदेमंद हाेती है।

कोविड ने स्थिति को और अधिक खराब कर दिया है!!

अगर हम कोविड से आने के पहले की बात करें तो शायद हम कम चिंतित रहते थे और सुबह सुबह मॉर्निंग वॉक के लिए भी जाते थे। लेकिन जब से यह महामारी आई है तब से स्थिति केवल बिगड़ती ही गई है। स्थिति ऐसी हो गई है कि अब हर काम ही फोन या लैपटॉप से हो रहा है। हम केवल फोन जैसी चीजों से ही बंध कर रह गए हैं। हम सामाजिक वातावरण में नहीं रह पा रहे हैं। जिससे हमारे दिमाग पर गहरा प्रभाव पड़ रहा है और हम अधिक स्ट्रेस होते जा रहे हैं। ऐसे में अगर आप मानसिक शांति चाहते हैं तो इस प्रकार की तकनीक का प्रयोग जरूर करें।

इसे भी पढ़ें - मेड‍िटेशन करते समय भटक जाता है ध्यान, तो फोकस बढ़ाने के लिए अपनाएं ये 6 आसान तरीके

सुबह सुबह आपको अपना फोन स्क्रॉल करने की बजाए कुछ समय अपने दिमाग को और मानसिक सेहत को देना चाहिए और नतीजे देख कर आप रोजाना इस प्रैक्टिस को ट्राई करने की कोशिश करेंगे।

(main image : masala.com)

Disclaimer