वजन घटाने के साथ मेटाबॉलिज्‍म को बूस्‍ट करने में मददगार है लो-कार्ब डाइट : शोध

हाल में हुए एक नए अध्‍ययन में पाया गया है कि लगातार 8 सप्‍ताह लो- कार्ब डाइट मोटापे के साथ-साथ मेटाबॉलिक स्‍वास्‍थ्‍य को भी बढ़ावा दे सकती है। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Aug 25, 2020
वजन घटाने के साथ मेटाबॉलिज्‍म को बूस्‍ट करने में मददगार है लो-कार्ब डाइट : शोध

आजकल विभिन्न प्रकार की डाइट लोगों के बीच लोकप्रिय हो रही हैं, फिर चाहे वह कीटो डाइट हो, जीएम डाइट हो या फिर लो कैलोरी या लो कार्ब डाइट। इतनी सारी डाइटों के बीच अपने लिए एक बेस्‍ट डाइट का विकल्प चुनना एक काफी मुश्किल भरा काम हो सकता है। एक आम धारणा के विपरीत, एक डाइट वजन बढ़ाने या वजन घटाने की प्रक्रिया में मदद नहीं करता है, बल्कि यह आपके मेटाबॉलिज्‍म को बढ़ाने में इसकी एक बड़ी भूमिका है। 

इसलिए, यदि आप बेहतर मेटाबॉलिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए एक अच्‍छी डाइट की तलाश कर रहे हैं, तो आप इस अध्‍ययन पर नजर डालें। हाल में हुआ ये नया अध्‍ययन कहता है कि लो कार्ब डाइट आपको वजन घटाने और मेटाबॉलिक स्‍वास्‍थ्‍य में सुधार करने में मदद कर सकता है। लेकिन कैसे, यह जानने के लिए इस लेख को आगे पढ़ें। 

इसे भी पढ़ें: ब्रोकली और गोभी के सेवन से रहेगा दिल स्‍वस्‍थ और हार्ट अटैक का खतरा होगा कम: शोध

very low carb diet

क्‍या कहती है रिसर्च?

हाल में जर्नल न्यूट्रिशन एंड मेटाबॉलिज्म में प्रकाशित, इस नए अध्ययन का नेतृत्व बर्मिंघम के न्यूट्रिशन ओबेसिटी रिर्स सेंटर में अलबामा विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने किया था। जिसमें शोधकर्ताओं ने पाया कि पुराने वयस्कों को मोटापे के साथ, टाइप 2 मधुमेह और हृदय रोग जैसे कार्डियो-मेटाबॉलिक डिजीज के विकास के उच्च जोखिम में हैं।

अध्ययन के प्रमुख लेखक यूडीबी के न्यूट्रिशन साइंस डिपार्टमेंट के साथ सहायक प्रोफेसर, आरडीएन हैं, उनका कहना है कि इस अध्‍ययन का उद्देश्य यह निर्धारित करना था कि यदि बहुत कम कार्बोहाइड्रेट और उच्च वसा वाले आहार का सेवन फैट को बर्न कर देगा और मोटापे के साथ पुराने वयस्कों में बिना कैलोरी प्रतिबंध के उन्‍हें स्‍वस्‍थ वजन बनाए रखने में मदद मिलेगी। जिससे कार्डियो-मेटाबॉलिक संबंधी बीमारियों से संबंधित बीमारियों में सुधार होगा, जैसे इंसुलिन संवेदनशीलता और लिपिड प्रोफाइल आदि।

अध्‍ययन के परिणाम 

गोस ने कहा है: "आठ हफ्ते के हस्तक्षेप के बाद, वजन कम करने वाले आहार का सेवन करने की सिफारिश के बावजूद, बहुत कम कार्बोहाइड्रेट वाले आहार का सेवन करने वाले समूह ने नियंत्रण आहार समूह की तुलना में अधिक वजन कम किया और कुल वसा द्रव्यमान को भी खो दिया।" 

इसे भी पढ़ें: लगातार आ रही हिचकी को न करें नजरअंदाज, वैज्ञानिकों के अनुसार हिचकी भी हो सकती है कोरोना पॉजिटिव होने का संकेत

अंडे का सेवन बहुत कम कार्बोहाइड्रेट वाले आहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा था। गॉस और उनकी टीम ने इस आहार समूह में प्रतिभागियों को अंडे प्रदान किए और उन्हें प्रति दिन कम से कम तीन अंडे खाने के लिए कहा।

low carb diet benefits

उन्‍होंने कहा, हमारे निष्कर्ष दैनिक अंडे की खपत का परिणाम हैं; लेकिन मुझे लगता है कि हम जो निष्कर्ष निकाल सकते हैं वह यह है कि पुराने वयस्कों में ब्‍लड कोलेस्ट्रॉल पर प्रतिकूल प्रभाव डाले बिना, अंडे को स्वस्थ तरीके से आहार में शामिल किया जा सकता है। 

इसके अलावा शोधकर्ताओं का कहना है, "हमने समग्र लिपिड प्रोफाइल में भी महत्वपूर्ण सुधार पाया है, जो हृदय रोग के जोखिम को कम करेगा।" “आगे, टाइप -2 मधुमेह के कम जोखिम को दर्शाते हुए बहुत कम कार्बोहाइड्रेट आहार के जवाब में इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार हुआ। कुल मिलाकर, हमने आठ सप्ताह, बहुत कम कार्बोहाइड्रेट आहार के जवाब में शरीर की संरचना, वसा वितरण और मेटाबॉलिक स्वास्थ्य में सुधार देखा।"

Read More Article On Health News In Hindi

Disclaimer