कोरोना से ठीक हुए अमित और बिहार की अनीता ने सुनाई अपनी 'ट्रीटमेंट' की कहानी, जनता के लिए कही ये बात

COVID-19: कोरोना वायरस को लेकर आए दिन ऐसी खबरें सुनने को मिलती हैं जिनको सुनकर लोगों को डर लगता है, यहां हम आपको कुछ अच्‍छी खबरें बता रहे हैं।    

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Apr 03, 2020Updated at: Apr 03, 2020
कोरोना से ठीक हुए अमित और बिहार की अनीता ने सुनाई अपनी 'ट्रीटमेंट' की कहानी, जनता के लिए कही ये बात

पिछले 3-4 दिनों में भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्‍या में अचानक वृद्धि हुई है। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के मुताबिक, 2 अप्रैल तक कुल संक्रमितों की संख्‍या 2088 पर पहुंच गई है। इनमें से 56 लोगों की COVID-19 से जान जा चुकी है। अच्‍छी खबर ये है कि कोरोना से अब तक 157 लोगों को ठीक भी किया जा चुका है। जो अब अपने घरों में स्‍वस्‍थ रह रहे हैं। हालांकि, अभी भी संक्रमितों की संख्‍या 1875 है।

तो आज हम आपको ठीक होने वाले दो ऐसे मरीजों की कहानी बता रहे हैं, जिन्‍हें सुनकर आपके मन से कोरोना वायरस का भय जरूर कम हो सकेगा। आइए जानते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम वाले ट्विटर हैंडल पर अमित कुमार नाम के एक सख्‍स का वीडियो शेयर किया गया है। जिसमें, कोरोनो वायरस से ठीक होकर अपने घर लौटने के बाद अमित ने लोगों से संक्रमित होने से लेकर ठीक होने तक की अपनी जर्नी शेयर की है। उनकी कहानी सुनकर हमें आशा, और सकारात्मकता प्रदान करेगी। ये कहानी हमें बताती है कि हम कैसे कोरोना जैसी जानलेवा बीमारी को भी मात दे सकते हैं। हालांकि, यह तभी हो सकता है जब हम सरकार और अपने चिकित्‍सकों की बातों का सही तरीके से अनुपालन करें।

कोरोना से ठीक होने के बाद अमित ने कही ये बात

एक छोटे से वीडियो में अमित कहते हैं "दोस्‍तों, मैं भारत के उन अभागे लोगों में से हुए जिसमें पहले कोरोना का पता चला। अब मैं ठीक हूं, 14 दिन का आइसोलेशन था, ट्रीटमेंट में था और अब में बिल्‍कुल ठीक हूं अपने घर हूं। अब कोई प्रॉब्‍लम नहीं है।" 

अमित ने कहा, "मेरा वीडियो बनाने का मकसद ये नहीं है कि मैं आपको कोई टोटका बताउंगा या इलाज बताउंगा कि कैसे इसको ठीक करना है। सिर्फ, इसलिए वीडियो बना रहा हूं कि, प्‍लीज-प्‍लीज-प्‍लीज डोंट पैनिक। अगर आपको कोई लक्षण हैं तो डॉक्‍टर के पास जाइए या शहर में जहां पर कोरोना वायरस के टेस्‍ट हो रहे हैं वहां पर जाएं। अगर कोरोना पॉजिटिव आता है, भगवान करे न आए, मगर आता है तो डॉक्‍टर और प्रशासन का सपोर्ट करें। वो जैसे कहते हैं वैसे करें। जिन्‍हें ठीक करना है उनसे भाग कर कहां जाएंगे। अभी इलाज फ्री हो रहा है। हो सकता है ज्‍यादा फैल जाए और कुछ टाइम बाद आपको प्राइवेट अस्‍पताल में जाकर पैसे खर्च करने पड़े।" 

इसे भी पढ़ें: सरकार ने लांच किया ये नया मोबाइल ऐप, 2 मिनट में बताएगा कोरोना वायरस है या नहीं!

स्‍वच्‍छता का रखें ध्‍यान

अमित ने वीडियो के माध्‍यम से सरकार और डॉक्‍टर को सपोर्ट करने की सलाह दे रहे हैं, साथ ही हाइजीन का विशेष ध्‍यान रखने की सलाह दी है। समय-समय पर हाथों को धोएं और खांसते या झींकते समय कोहनी का इस्‍तेमाल करें। इसके अलावा, अमित ने सोशल डिस्‍टेंसिंग और भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचने की सलाह दी है। उन्‍होंने कहा कि इससे घबराने की जरूरत नहीं है, ये बीमारी उन लोगों को ज्‍यादा हो रही है जिन्‍हें पहले से कोई प्रॉब्‍लम है। इ‍सलिए सभी लोग अपना ध्‍यान रखिए।

इसे भी पढ़ें: 14 दिनों तक कोरोना वायरस से लड़कर जंग जीतने वाले कर्नाटक के पहले मरीज की कहानी पढ़ें, डरना छोड़ देंगे आप

बिहार की महिला ने भी जीता कोरोना से जंग

बिहार की रहने वाली एक महिला अनीता विनोद जो कि कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गई थी। एक न्‍यूज चैनल को दिए इंटरव्‍यू में उन्‍होंने कहा, "20 मार्च को एम्‍स पटना में जांच हुई थी, और 22 मार्च को आई रिपोर्ट में पता चला कि मैं कोरोना पॉजिटिव हूं। जिसके तुरंत बाद डॉक्‍टरों ने मुझे आइसोलेशन में रख दिया। 11 दिन के बाद दो निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद डिस्‍चार्ज हुई हूं।"

अनीता ने बताया कि, उनका बेटा 5 मार्च को इटली से आया था। बेटे और पति का भी टेस्‍ट किया गया था, दोनों का रिजल्‍ट निगेटिव आया है। अनीता ने कहा कि मुझे 14 दिन तक होम-क्‍वारंटाइन में रहने के लिए बोला गया है। इस दौरान वह सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करेंगी। अनीता ने जनता से अपील करते हुए कहा है कि, सरकार के निर्देशों का पालन कीजिए और घर में रहिए।

Read More Articles On Coronavirus In Hindi

Disclaimer