मैरिज लाइफ में छोटी-छोटी बातों को मुद्दा बनने से कैसे रोकें? इन 7 तरीकों से सुलझाएं रिश्ता

आपने देखा होगा कि पति-पत्नी के बीच छोटी-छोटी बातें कब मुद्दे का रूप ले लेती हैं पता ही नहीं चलता। ऐसे में रिश्तों की डोर ढीली पड़नी शुरू हो जाती है।

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jul 06, 2021Updated at: Jul 06, 2021
मैरिज लाइफ में छोटी-छोटी बातों को मुद्दा बनने से कैसे रोकें? इन 7 तरीकों से सुलझाएं रिश्ता

पति-पत्नी के रिश्ते में कई बार छोटी-छोटी बातें बड़ा मुद्दा बना जाती हैं। ऐसे में हंसते मुस्कुराते रिश्तों मे कब कड़वाहट घुल जाती है पता ही नहीं चलता। इन मुद्दों का असर न केवल दोनों के प्रेम पर पड़ता है बल्कि उनके रिश्तों की उम्र भी घट सकती है। ऐसे में पति-पत्नी का फर्ज है कि वह छोटी-छोटी बातों को मुद्दा बनने से रोकें। अब सवाल ये है कि धैर्य के साथ कैसे पति-पत्नी अपने रिश्तों में नई चमक ला सकते हैं? आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि दांपत्य जीवन में पति-पत्नी छोटी-छोटी बातों को मुद्दा बनने से कैसे रोक सकते हैं। पढ़ते हैं आगे...

1 - एक-दूसरे को उल्टा जवाब ना देना

भले ही आपके जीवनसाथी ने गुस्से में कितना ही बुरा बोला हो लेकिन आप एकदम पलटवार ना करें। इसके बजाय आप शांति का विकल्प चुनें। कभी-कभी ऐसा होता है कि आपका पार्टनर गलत मूड के कारण कुछ गलत बातें मुंह से निकाल देता है। ऐसे समय में अगर आपकै मिजाज़ भी गर्म हो जाएगा तो रिश्ते पर नकारात्मक असर पड़ता है। ऐसे में जब आपके पार्टनर का मूड अच्छा हो तो तब उसे बताएं कि आपको उनकी इस प्रतिक्रिया से कितना बुरा लगा और आपको उनसे यह उम्मीद नहीं थी। अगर आप भी उनके साथ ऐसा ही व्यवहार करेंगे तो रिश्ते उलझ सकते हैं। ऐसे में आराम से बात करने पर न केवल वे आपकी बात समझेंगे बल्कि अगली बार आपसे तोलमोल कर ही बात करेंगे। साथ ही पति-पत्नी के बीच बॉन्डिंग भी मजबूत होगी।

इसे भी पढ़ें- क्या हो जब पति पत्नी के जीवन में ईर्ष्या और द्वेष बना लें जगह? इन 5 तरीकों से संभालें रिश्ता

2 - समझदारी से लें काम

सवाल यह है कि छोटी या बड़ी बात का मुद्दा कब बनता है? बता दें कि मुद्दा बनने के पीछे कारण है अपेक्षा यानी उम्मीद। अगर आज का पार्टनर आपकी अपेक्षाओं को पूरा नहीं कर रहा है तो इसका मतलब यह नहीं है कि आप उसे अपनी नाराजगी दिखाएं या उसके सामने चिड़चिड़ाहट जैसा माहौल बनाएं। बल्कि ऐस स्थिति में आप शालीनता का सहारा लें। दूसरी तरफ अगर आपका पार्टनर आप से कोई उम्मीद रख रहा है और अगर आप उस उम्मीद को नहीं पूरा कर पा रहे हैं तो उसे प्यार से समझाएं कि फिलहाल आप उनकी बात नहीं मान सकते। साथ ही उन्हें अपनी परेशानी भी बताएं कि आप उनकी उम्मीद क्यों नहीं पूरा कर सकते। ऐसा करने से वह न केवल आपकी बात समझेंगे बल्कि आपका साथ भी देंगे।

3 - इनसिक्योरिटी को करें दूर

आमतौर पर जब पति पत्नी में से कोई एक भी खुद को असुरक्षित महसूस करता है तो वह छोटे-छोटे बातों को भी दिल पर लगा लेता है और उसे जल्दी ठेस पहुंचती है। ऐसे में इस परीस्थिति को संभालने के लिए आप अपने पार्टनर की असुरक्षा और हीन भावना को दूर करने की कोशिश करें। उसके साथ ही उनका व्यक्तित्व को संवारने की भी कोशिश करें। ऐसा करने से हीन भावना और इनसिक्योरिटी दूर हो जाएगी। इसके लिए आप अपने पार्टनर के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताएं। ध्यान रखें कि जीवन में असुरक्षा को दूर करके आप रिश्ते को टूटने से बचा भी सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- शादी के बाद रह रहे हैं पार्टनर से दूर? इन टिप्स से लॉन्ग डिस्टेंस कपल्स बढ़ा सकते हैं प्यार और इमोशनल लगाव

4 - बातचीत बंद ना होने दें

कई बार पति-पत्नी छोटी-छोटी बातों पर एक दूसरे से बोलचाल बंद कर देते हैं थोड़ी सी कहासुनी बड़ा रूप कब ले लेती है पता ही नहीं चलता। इतना ही नहीं लोग पार्टनर के परिवार और दोस्तों से बातचीत बंद कर देते हैं। ऐसे में पार्टनर को अपनी इस आदत को बदलना होगा। एक साथ बात बंद करने से परिस्थिति सुधरेगी नहीं बल्कि बिखरती नजर आएगी। वहीं अगर आपका पाटररनर लड़ाई के बाग बातचीत बंह कर देता है तो उनसे जबरदस्ती बात न करें। ऐसी परिस्थिति बनने पर आपको उन्हें समय देना होगा। साथ ही अपने पार्टनर की घरवालों से शिकायत करने के बजाए सीधे उनसे बात करनी होगी और जब वे गुस्सा ना हो तो उसे समझाना होगा कि कुछ भी हो जाए हम अपने रिश्ते में बातचीत को बंद नहीं होने देंगे।

कुछ जरूरी टिप्स

पति-पत्नी के जीवन में आए उतार चढ़ाव के कारण रिश्ते बिखरने शुरू हो जाते हैं। ऐसे में जरूरी है इन रिश्तों को संवारना। यहां दिए टिप्स आपके बिखरे रिश्ते को सुधारने में बेहद काम आ सकते हैं।

5 - अपने जीवनसाथी की छोटी-छोटी बातों पर जवाब देने की बजाय उन बातों को समझें और यह समझने की कोशिश करें कि आपका पार्टनर इस बात को क्यों कह रहा है।

6 - पति पत्नी के बीच ज्यादातर झगड़ों का आधार कुछ नहीं होता। वह किसी भी बात पर लड़ सकते हैं ऐसे में इन्हें सुलझाने के लिए तार्किक होने की जरूरत है।

7 - अगर आपके पाटर्नर में अचानक से व्यवहार परिवर्तन हो तो ऐसे समय में धैर्य बनाकर रखें और उसका कारण जानने की कोशिश करें।

8 - अगर किसी मामले में आपका पार्टनर आपको आपसे जवाब नहीं दे रहा तो ऐसे समय में खुद को अपने पार्टनर की जगह पर रखें और उस स्थिति को स्पष्ट रूप से समझें।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि पति पत्नी के जीवन में छोटी-छोटी बातों पर मुद्दे बन जाते हैं और मुद्दों को कैसे सुलझाया जाए। साथ ही अपने रिश्ते को कैसे मजबूत बनाया जाए।

इस लेख में इस्तेमाल की जानें वाली फोटोज़ Freepik से ली गई हैं।

Read More Articles on relationship in hindi

Disclaimer