खराब पाचन का कारण हैं आपकी ये 5 गलत आदतें, Rujuta Diwekar से जानें हेल्दी डाइजेशन के खास टिप्स

अगर आपको रात में सही से नींद नहीं आती या फिर आपको लगता है कि शाम को आपके शरीर में ज्यादा सूजन बढ़ जाती है तो, ये खराब पाचन तंत्र का संकेत है। 

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Sep 02, 2021 16:42 IST
खराब पाचन का कारण हैं आपकी ये 5 गलत आदतें, Rujuta Diwekar से जानें हेल्दी डाइजेशन के खास टिप्स

पेट से जुड़ी परेशानियों के कारण अक्सर हम सभी परेशान रहते हैं। पर कभी आपने सोचा है कि इन परेशानियों का कारण क्या है? तो, इसका कारण है खाने-पीने से जुड़ी गलत आदतें। ये हम नहीं बल्कि सेलेब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर (Rujuta Diwekar) का कहना है।  न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर की मानें, तो आपका पेट और आपका खाना दोनों एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। दरअसल, आपकी डाइट और लाइफस्टाइल का खराब होना आपके हाजमे को खराब करता है। अगर आपको शरीर में सूजन, कब्ज, नींद ना आना और एसिडिटी की समस्या हमेशा रहती है तो ये खराब पाचनतंत्र के संकेत हैं। इसके अलावा आपकी कुछ और आदते हैं जो कि आपके पाचन तंत्र के काम काज को खराब करती है।  तो आइए जानते हैं खराब पाचन का कारण और  हेल्दी डाइजेशन के खास टिप्स। 

Inside2stomachproblems

खराब पाचन का कारण -Healthful habits for digestive system

1. डिहाइड्रेशन

शरीर में पानी की कमी के कारण ज्यादातर लोगों को अपच और एसिडिटी की समस्या होती है। खास कर ये आदत पुरुषों में ज्यादा होता है कि वे बढ़ती हुई उम्र के साथ पानी पीना कम कर देते हैं। ऐसे में तांबे के जग में पानी भर कर सामने रखें या कोई बॉटल सामने रखें। इसे देख कर आपको पानी पीने की याद आएगी और रेगुलर पानी पीते रहेंगे। पानी आपके मेटाबोलिज्म को तेज करता है और आपने जो खाया है उसे पचाने में मदद करता है। इसलिए रेगुलर पानी पीते रहें। 

2. शाम 4 बजे के बाद चाय और कॉफी का सेवन 

शाम चार बजे के बाद चाय और कॉफी पीने से आपको एसिडिटी का शिकार बनाता है। दरअसल, किसी भी चाय, कॉफी या ग्रीन टी में कैफिन की मात्रा होती है जो कि आपके पेट के अस्तर को नुकसान पहुंचाता है।  ये एसिड रिफलक्स का भी कारण बनता है, जिससे सोने के बाद गैस की समस्या होती है। 

इसे भी पढ़ें : क्या आप भी सोते समय हंसते या मुस्कुराते हैं? मनोचिकित्सक से जानें इसके पीछे की वजह

3. खाने का अनुपात सही रखें।

हम अक्सर महंगी डाइट फॉलो करते हैं और अपने खाने से प्रोटीन, कार्ब्स और फाइबर को अलग-अलग चुनते रहते हैं। इससे हमारे शरीर को नुकसान होता है। तो, अपने पानचतंत्र को हेल्दी रखने के लिए अपने खाने का अनुपात सही करें। जैसे कि 

-खाते समय चावल ज्यादा रखें और दाल कम

-सब्जी दाल से कम मात्रा में खाएं।

4. घी ना खाना

आजकल वजन बढ़ने के चक्कर में हमने घी खाना छोड़ दिया है जो कि नुकसानदेह है। हम मक्खन और फुल फैट मिल्क जैसे हेल्दी फैट्स को खाना बंद कर दिया है जिससे शरीर को नुकसान होता है। दरअसल, इन हेल्दी फैट्स को छोड़ना आपको लंबे समय के लिए खराब डाइजेशन में रखता है। इसलिए हेल्दी फैट्स खाएं। जैसे 

  • - घी
  • - नारियल
  • - मूंगफली
  • -नट्स 

5. लाइफस्टाइल का एक्टिव ना होना

अगर आप हर काम को करने के लिए खुद से उठ कर नहीं जाते तो, ये आपको नुकसान पहुंचाता है। लंबे समय तक बैठे रहने से आपका मेटाबोलिज्म खराब होता है और आपको कब्ज की समस्या भी होती है। इसके अलावा सुबह जल्दी ना उठना, एक्सरसाइज ना करना और रात को गलत टाइम पर सोना आपको डायबिटीज और मोटापे जैसे बीमारियों का शिकार बना सकता है। 

हेल्दी डाइजेशन के खास टिप्स-Tips to improve digestive health 

1. दोपहर का भोजन घी-गुड़ के साथ समाप्त करें

जिन लोगों को पेट से जुड़ी परेशानियां रहती हैं उन्हें दोपहर के भोजन में आखिरी में एक चम्मच घी के साथ एक चम्मच गुड़ खाना चाहिए। इससे होता ये है कि पहले तो ये आपके पेट को सही रखता है दूसरा ये मुंह के बैड बैक्टीरिया को मारता है जो कि सांस की बदबू या मुंह की बदबू पैदा करते हैं। गुड़ खाने के बाद मीठे की क्रेविंग को खत्म करता है तो, घी आंतों की सफाई में मदद करता है। 

insidejaggeryindiabetes

इसे भी पढ़ें : आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकती हैं ये 10 आदतें, एक्सपर्ट से जानें आंखें साफ करने का सही तरीका

2. रोज एक केला खाएं

केला प्रीबायोटिक फूड है जो कि हमारे पेट के गुड बैक्टीरिया के लिए खाना है। ये पेट को स्वस्थ रखने में मदद करता है और मेटाबोलिज्म को तेज करता है।  तो, रोज शाम को 3 से 4 बजे के बीज एक केला जरूर खाएं। आप चाहें तो अपने दिन की शुरुआत या लंच के अंत में भी केला खा सकते हैं।

3. अपने दही को किशमिश के साथ सेट करें

दही और किशमिश खाने के फायदे कई हैं। इन्हें खाना पेट के लिए बहुत फायदेमंद है। दरअसल, दही और किशमश एक प्रोबायोटिक है तो एक प्रीबायोटिक फूड है। ये दोनों पेट में सूजन, IBS के लक्षण या फिर पीसीओडी के लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं। साथ ही ये शरीर में ऑयरन की मात्रा भी बढ़ाता है। इसे आप कभी भी खा सकते हैं। 

4. अपनी शारीरिक गतिविधियां बढ़ाएं

अगर आपको हमेशा हेल्दी रहना है तो आपको अपनी शारीरिक गतिविधियां बढ़ानी चाहिए। इससे शरीर को कई फायदे मिलते हैं। एक्टिव रहने से जहां आपका वजन नहीं बढ़ता वहीं आपको खराब पाचनतंत्र और अपच की समस्या नहीं होती। 

5. दोपहर में 15-20 मिनट की झपकी लें

हर दोपहर में आपको 15-20 मिनट की झपकी लेनी चाहिए। इससे जहां आपके दिमाग का स्ट्रेस कम होता है वहीं ये आपकी डाइजेशन को भी सही करता है। इसके अलावा ये आपको रात में सोने में भी मदद करता है। इसलिए रोज दोपहर में 15-20 मिनट की झपकी जरूर लें।

तो, इस तरह रेगुलर इन बातों का ध्यान रख कर आप अपने हाजमे को सही कर सकते हैं। साथ ही ध्यान रखें कि एक एक्टिव लाइफस्टाइल फॉलो करें और स्ट्रेस ना लें और देसी खाना खाएं। 

Main image credit: Plant Based Juniors

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer