शुरुआती इन आम गलतियों के कारण खराब होता है आपका वर्कआउट, इस तरह ट्रेनिंग को बनाएं बेहतर

अगर आप भी अपने वर्कआउट के शुरुआती दौर में हैं तो जान लें किन गलतियों के कारण हो रहा है आपका वर्कआउट खराब।

Vishal Singh
Written by: Vishal SinghUpdated at: Sep 10, 2020 11:37 IST
शुरुआती इन आम गलतियों के कारण खराब होता है आपका वर्कआउट, इस तरह ट्रेनिंग को बनाएं बेहतर

एक्सरसाइज की शुरुआत करने वाले लोगों को हमेशा ये लगता है कि वो जो भी अभ्यास कर रहे हैं वो उनके लिए फायदेमंद  है या वो सही तरीके से कर रहे हैं। लेकिन जब काफी दिनों तक अभ्यास या एक्सरसाइज को करने के बाद भी परिणाम नजर नहीं आता तो शायद ये उनके लिए एक चिंता का विषय बन जाता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि कई लोग जो जिम या एक्सरसाइज की शुरुआत करते हैं उन लोगों के द्वारा कई गलतियां की जाती है या वो सही तरीके से अभ्यास को नहीं कर पाते, जिसके कारण उनकी एक्सरसाइज में थोड़ा फर्क नजर आने लगता है। प्रशिक्षण की गलतियों से प्रगति की निराशाजनक कमी हो सकती है। इस लेख में हम आपको ये बताएंगे कि एक्सरसाइज की शुरुआत करने वाले लोगों की किन आम गलतियों के कारण उनके परिणाम पर बुरा असर पड़ता है। 

fitness

ज्यादा देर तक एक्सरसाइज करना

जिम में कसरत करना और मेहनत के साथ करना बहुत अच्छा है और अविश्वसनीय रूप से ये महत्वपूर्ण भी है। लेकिन, परिणाम प्राप्त करने के लिए जिम में या बाहर चलने वाले अनगिनत घंटों तक मेहनत करने की जरूरत नहीं होती है। वास्तव में, उच्च तीव्रता जैसे स्ट्रेंथ ट्रेनिंग और तबता स्टाइल वर्कआउट में छोटे वर्कआउट को कार्डियक आउटपुट में सुधार करने और आपके शरीर की ऑक्सीजन को लंबे समय तक कम तीव्रता वाले सत्रों  से ज्यादा करने की क्षमता में दिखाया गया है।

प्लैंक 

यह प्लैंक बलों का विरोध करने और आपकी रीढ़ को स्थिर करने के लिए कोर को प्रशिक्षित करती है। इस प्लैंक को करने का सही तरीका है कि आप अपने बाएं हाथ से अपने शरीर पर पहुंचते हुए अपनी तख्ती को पकड़ें और, एक-एक करके, प्लेटों को बाईं ओर लाएं, उन्हें एक के ऊपर एक करके रखें। इसके बाद आप अगला, दाहिने हाथ के साथ प्रक्रिया को दोहराएं, उन्हें एक प्रतिनिधि को पूरा करने के लिए, बाएं से दाएं तक मूव करें। इस बीच आपको एक मिनट आराम करते हुए, 3 सेट को करना चाहिए। लेकिन कुछ लोग इसे इसको गलत तरीकों से मूव करते हैं जिसके कारण उनकी मांसपेशियों पर गलत असर पड़ता है। 

इसे भी पढ़े: हृदय के अलावा इन शारीरिक स्वास्थ्य को भी मिलता है 'कार्डियो एक्सरसाइज' से फायदा

पालॉफ प्रेस 

पालॉफ प्रेस आपके कोर को केबल का विरोध करना पड़ता है क्योंकि यह आपको एक तरफ खींचता है, फिर से एंटी-रोटेशन में प्रशिक्षण देता है और आपकी रीढ़ और पीठ के निचले हिस्से को स्थिर करता है। इसको करने का सही तरीका है कि धीरे-धीरे हैंडल को सीधे बाहर की ओर खींचें, सीधे आगे बढ़ें और केबल के बगल में खींचने का विरोध करें। एक बार जब आप पूरी तरह से खींच लेते हैं तो आप इसे वापस धीरे-धीरे छोड़ सकते हैं। इस प्रक्रिया को 12 से 15 बार 3 सेट के रूप में करना चाहिए। लेकिन कुछ लोग इसको करने के समय केबल को पूरी तरह से खींचते नहीं है जिसके कारण उनकी हाथ की मांसपेशियों में झटका लग सकता है। 

इसे भी पढ़े: हमेशा फिट रहने के लिए महिलाएं रोजाना करें ये 4 पिलेट्स, जानें क्या है करने का तरीक

बारबेल बेंच हिप थ्रस्ट

ये एक्सरसाइज आपके कूल्हों और लोअर बॉडी के लिए होते हैं जो आपको मजबूती देने का काम करते हैं। इसे करने के लिए आप अपनी ऊपरी पीठ को पीठ में दबाएं और अपने कूल्हों को घुटनों और कंधों के साथ एक टेबल की तरह ऊपर की तरफ उठाने के लिए अपनी एड़ी के माध्यम से ड्राइव करें। अब आप अपने ग्लूट्स को निचोड़ें, फिर धीरे-धीरे शुरुआत में कम करें। इस एक्सरसाइज को भी लोग अलग-अलग तरीकों से करते हैं जिसके कारण उनका परिणाम खराब होता है। 

Read More Article On Exercise and Fitness in Hindi

Disclaimer