एक्सरसाइज और वर्कआउट के दौरान ये 6 गलतियां शरीर को पहुंचाती हैं नुकसान, जानें इन्हें

आर्कषक दिखने के लिए आजकल लोग जिम में वर्कआउट करना पसंद करते हैं। लेकिन एक्सरसाइज के दौरान लोग अक्सर कुछ गलतियां कर बैठते हैं। जिनकी वजह से उन्हें नुकसान हो सकता है। आपको जिम में इन गलतियों से बचना चाहिए।

धीरज सिंह राणा
एक्सरसाइज और फिटनेसWritten by: धीरज सिंह राणाPublished at: Aug 21, 2019
एक्सरसाइज और वर्कआउट के दौरान ये 6 गलतियां शरीर को पहुंचाती हैं नुकसान, जानें इन्हें

लोग खुद को फिट रखने के लिए जिम में वर्कआउट करते हैं। एक्सरसाइज और वर्कआउट करते समय आपसे भी कुछ गलतियां हो सकती हैं। ज्‍यादातर लोगों को एक्सरसाइज करने का सही तरीका पता नहीं होता है। इसके बावजूद भी वो जिम में वर्कआउट करते हैं। अगर आप भी ऐसा करते हैं तो बिल्‍कुल भी न करें, क्‍योंकि गलत तरीके से वर्कआउट करने से आपकी फिटनेस पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। गलत वर्कआउट करने से आपको हमेशा बचना चाहिए, इससे आपका शारीरिक स्वास्थ्य बना रहता है और जोखिमों का खतरा भी कम होता है। आइए जानते हैं इन गलतियों के बारे में जो अक्सर लोग वर्कआउट के दौरान कर रहे हैं।

स्क्वैट्स करते समय

लोग स्क्वैट्स का अभ्यास अपने पैरों के मजबूती के लिए करते हैं। निश्चित रूप से, स्क्वैट पैरों के लिए प्रभावी एक्‍सरसाइज माना जाता है। कई बार स्क्वैट्स करते समय लोग अपने घुटनों को अंदर की तरफ मोड़ लेते हैं, लेकिन अगर आप इसे करते समय अपने घुटनों को अंदर की तरफ मोड़ते हैं तो तनाव के कारण आपको घुटने में चोट लगने की संभावना बढ़ जाती है। बेहतर परिणाम के लिए हमेशा अपने घुटनों को बाहर की ओर रखें।

वर्कआउट के दौरान गर्दन की पोजीशन

वर्कआउट समय अपने गर्दन की पोजीशन को सही तरीके से रखें, क्योंकि गर्दन की गलत पोजीशन की वजह से न केवल आप जल्दी थकान महसूस करने लगते हैं। बल्कि इससे आपके टखनों, घुटनों और कूल्हों को भी नुकसान पहुंचता है। जो आगे चलकर पिंडली की सूजन, घुटने के दर्द और पैर में जोखिमों का खतरा बढ़ता है।

जॉगिंग करते समय

जॉगिंग के दौरान आपको अपने दोनों पैरों के बीच की दूरी को बनाए रखना चाहिए और पैरों को एडियों के बल पर रखना चाहिए। इससे ऊर्जा बढ़ती है और पैरों का संतुलन भी सही बना रहता है। जिससे दौड़ते समय गिरने का खतरा भी कम रहता है और जॉगिंग करने पर आपको थकान महसूस नहीं होती है।

बेंच प्रेस करते समय

ब्रेंच प्रेस शरीर के ऊपरी भाग को मजबूत बनाने के लिए बेहतरीन एक्सरसाइज है। बाइसेप्स, ट्राइसेप्स को बेहतर बनाने के अलावा ये आपके छाती, हाथ और कमर को भी मजबूत बनाता है। अक्सर लोग बेंच प्रेस करते समय अपनी कोहनी को ऊपर रखते हैं ऐसा करने से आपकी कोहनी और कंधे पर खिंचाव पड़ता है। इस वजह से आपको चोट लगने की संभावनाएं बढ़ जाती है। कंधे के खिंचाव को कम करने और अपनी छाती और ट्राइसेप्स को बेहतर बनाने के लिए कोहनी को हमेशा छाती के पास रखें।

इसे भी पढ़ें: मसल्स और एब्स बनाने में आपकी मदद करेगें ये ये 5 स्पोर्ट्स, खेलें और रहें फिट

लंज एक्सरसाइज करते समय

शरीर के निचले हिस्से को मजबूत बनाने के लिए लंज एक्सरसाइज काफी असरदार साबित होती है, इससे आपके ग्लूट, क्वाड्स और हैमस्ट्रिंग मसल्स मजबूत होते हैं। लंज एक्सरसाइज करते समय हमेशा बड़ा कदम लें, क्योंकि छोटा कदम लेने से आपके घुटने पर और आगे के पैर पर ज्यादा दबाव पड़ता है। इस वजह से आपके शरीर के निचले हिस्से की मसल्स में तनाव जैसी समस्याएं पैदा हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: हर उम्र के लोगों को रोजाना करनी चाहिए 30 मिनट की एक्सरसाइज, होते हैं ये 5 बड़े फायदे

स्ट्रेचिंग

कई बार एक्सरसाइज खत्म करने के बाद शरीर में दर्द रहता है। इससे निजात पाने के लिए स्ट्रेचिंग करना काफी फायदेमंद साबित होता है। वर्कआउट करने के बाद या कार्डियो एक्सरसाइज करने के तुरंत बाद आपको स्ट्रेचिंग करनी चाहिए। इससे वर्कआउट खत्म करने के बाद शरीर में होने वाले दर्द से आपको आसानी से राहत मिल सकती है।

Read more articles on Exercise Fitness in Hindi

Disclaimer