टीथ व्हाइटनिंग कराने की सोच रहे हैं, तो जान लें इससे होने वाले नुकसान और जरूरी सावधानियां

अगर आप टीथ वाइटनिंग कराने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको इसके नुकसान और सावधानियों के बारे में समझ लेना चाहिए।

Dipti Kumari
Written by: Dipti KumariPublished at: Apr 13, 2022Updated at: Apr 13, 2022
टीथ व्हाइटनिंग कराने की सोच रहे हैं, तो जान लें इससे होने वाले नुकसान और जरूरी सावधानियां

चमकदार दांत आपके स्माइल और चेहरे की खूबसूरती को बढ़ा सकते है लेकिन अगर आपके दांत सफेद न हो या दांतों में अलगाव हो, तो निश्चित ही आप टीथ व्हाइटनिंग के बारे में सोचते हैं और इसके दौरान कई तरह के रसायनों का उपयोग करके दांतों को सफेद किया जाता है। इसमें व्हाइटनिंग टूथपेस्ट, ओवर-द-काउंटर जैल, रिन्स, स्ट्रिप्स, ट्रे और वाइटनिंग उत्पाद शामिल हैं लेकिन क्या टीथ व्हाइटनिंग पूरी तरह से सुरक्षित है। तो इसका जबाव है नहीं क्योंकि ये प्रक्रिया सभी के लिए शायद फायदेमंद न हो। हो सकता है कि टीथ व्हाइटनिंग कराने के बाद आपको दांतों में झनझनाहट, दर्द और जलन महसूस हो। खासकर ऐसा उन स्थितियों में होने की अधिक संभावना होती है, जब आपके दांत अधिक संवेदनशील हो और पहले से कोई अन्य परेशानी हो क्योंकि ब्लीचिंग से आपके दांत और संवेदनशील हो सकते है। इसके बारे में हमने विस्तार से बात की फरीदाबाद के फोर्टिस एस्कॉर्ट्स असपताल के दंत विभागाध्यक्ष डॉ राजीव अरोड़ा से। 

टीथ व्हाइटनिंग के नुकसान

1. दांतों की संवेदनशीलता पर असर

टीथ व्हाइटनिंग कराने के बाद हो सकता है कि आपके दांत थोड़े समय के लिए अधिक संवेदनशील हो जाएं। ऐसा व्हाइटनिंग के दौरान ब्लीचिंग एजेंट के दांतों के संपर्क में आने के कारण हो सकता है। साथ ही आपको कुछ खास खाद्य पदार्थों को खाने या पीने के दौरान जलन या झनझनाहट का एहसास हो सकता है। ऐसे में अगर आपके दांत पहले से ही अधिक संवेदनशील है, तो आपको टीथ व्हाइटनिंग कराने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए। इसके अलावा कुछ ऐसे प्रोडक्ट्स भी है, जो परेशानी को बढ़ा सकते है। 

teeth-whitening

Image Credit- Freepik

2. ऊतकों में जलन की समस्या

इस रासायनिक प्रक्रिया के बाद मुंह के नरम ऊतकों में जलन महसूस हो सकती है। दरअसल व्हाइटनिंग घोल में हाइड्रोजन पेरोक्साइड या कार्बामाइड पेरोक्साइड की उच्च सांद्रता का उपयोग किया जाता है, जिसके संपर्क में आने के बाद आपके मसूड़ों में समस्या हो सकती है। इससे ऊतकों में सूजन और जलन की परेशानी भी हो सकती है। अगर ये अधिक असहनीय हो जाते हैं, तो कई बार खून आने की दिक्कत भी देखने को मिल सकती है। 

3. अवांछित परिणाम

कई बार ये देखने को भी मिलता है कि टीथ वाइटनिंग के बाद आपको मनचाहे परिणाम नहीं मिलते है। कई बार टीथ व्हाइटनिंग के बाद दांत सफेद होने की बजाय उनमें धुंधलापन या ग्रे पारभासी रंग आने लगता है। आपकी आशा की विपरीत परिणाम आपके लुक और दांतों को भी खराब कर सकते हैं। साथ ही अगर आप कैप, क्राउन, विनियर या फिलिंग्स हैं, तो वाइटनिंग सॉल्यूशन उन पर काम नहीं करेगा। ऐसे में आपको तुंरत अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। 

इसे भी पढे़ं- इस तरह रखें अपने दांतों का पूरा ख्याल, संक्रमण के खतरे से भी रहेंगे दूर

4. गर्म और ठंडी चीजें खाने पर दिक्कत 

टीथ व्हाइटनिंग के बाद आपके दांत गर्म और ठंडे पेय पदार्थों के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकते हैं। हालांकि इन्हें सामान्य लक्षणों के रूप में माना जाता है लेकिन गलत टूथपेस्ट या ऐसे किसी ऐसे पदार्थ से बने टूथपेस्ट का आप उपयोग करते है, जो आपकी संवेदनशीलता को बढ़ा सकता है, तो इससे आपकी परेशानी बढ़ सकती है। इसलिए इन चीजों को लेकर सावधान रहें। 

teeth-whitening

Image Credit- Freepik

5. आपके पेट और गले में दर्द की समस्या

बहुत से लोग दांत सफेद करवाने के बाद पेट और गले में जलन या सूजन का अनुभव कर सकते हैं। कई मामलों में ये चीजें गंभीर हो सकती है। इसके लक्षण टीथ व्हाइटनिंग कराने के 48 घंटे बाद ये लक्षण कम हो सकते है। इसके बारे में आप अपने डॉक्टर से जरूर बात कर लें और होने वाले नुकसान को कम करने के लिए जरूरी कदम उठाएं।

हालांकि अगर आपके दांतों पर स्मोकिंग, चाय या कॉफी के धब्बे हैं, तो आप इसके लिए कॉस्मेटिक टीथ व्हाइटनिंग का इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको अपने डॉक्टर से पहले बात कर लेनी चाहिए और अपने ओरल हेल्थ की जांच भी करा लेनी चाहिए। 

Main Image Credit- Freepik

Disclaimer