राजू श्रीवास्तव का हुआ ब्रेन डेड, काम नहीं कर रहा दिल, जानें Brain Dead के बारे में

Raju srivastava Health Updates: राजू श्रीवास्तव को डॉक्टरों ने ब्रेन डेड घोषित कर दिया है। उनका हार्ट भी ठीक से काम नहीं कर रहा है।

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasPublished at: Aug 18, 2022Updated at: Aug 18, 2022
राजू श्रीवास्तव का हुआ ब्रेन डेड, काम नहीं कर रहा दिल, जानें Brain Dead के बारे में

Raju srivastava Brain Dead: हार्ट अटैक के बाद दिल्ली स्थित एम्स में भर्ती हुए कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव (Raju srivastava) की हालात बिगड़ती जा रही है। राजू श्रीवास्तव 8 दिनों से अस्पताल में भर्ती हैं। राजू की बेटी ने गुरुवार को उनका हेल्थ अपडेट जारी किया है। उनकी बेटी ने बताया कि उनका दिल अब काम नहीं कर रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि राजू श्रीवास्तव को डॉक्टरों ने ब्रेन डेड घोषित कर दिया है। आइए जानते हैं क्या होता है ब्रेन डेड (What is Brain Dead)।

क्या होता है ब्रेन डेड? - What is brain dead?

ब्रेन डेड वह स्थिति है जब इंसान का दिमाग पूरी तरह से काम करना बंद कर देता है। इस स्थिति में इंसान के दिमाग तक किसी भी तरह की बात या संकेत नहीं जाते हैं। ब्रेन डेड होने पर इंसान का पूरा शरीर काम करना बंद कर देता है। मेडिकल एक्सपर्ट का कहना है कि ब्रेन डेड की स्थिति में इंसान का पलक झपकाना, सांस लेना, आंखों और बॉडी मूमेंट शून्य हो जाती है।ॉ

इसे भी पढ़ेंः Weight Loss Motivation: साइकिल चलाकर 131 Kg से 99 Kg किया वजन, जानें अंकित की वेट लॉस जर्नी

ब्रेन डेड की स्थिति में इंसान सामान्य तरह से सांस नहीं ले पाता है, इसलिए मरीज को वेंटिलेटर पर रखा जाता है ताकि उनकी सांस चलती रहें। ब्रेन डेड की स्थिति में दोबारा ठीक होने के चांस 0.09 फीसदी होते हैं।

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Raju Srivastava (@rajusrivastavaofficial)

ब्रेन डेड में कौन से अंग काम करते हैं? - Can organs function after brain death?

ब्रेन डेड की स्थिति में इंसान का बेशक दिमाग काम न करता हो, लेकिन उसके बाकी अंग जैसे की लीवर और किडनी सही तरीके से काम करते हैं। आसान भाषा में कहें तो ब्रेन डेड वो स्थिति है, जब इंसान जिंदा तो रहता है उसके साथ क्या हो रहा है उसे इस बात का एहसास नहीं होता है। शरीर के किसी भी अंग में तकलीफ होने पर भी ब्रेन डेड का मरीज प्रतिक्रिया नहीं देता है।

इसे भी पढ़ेंः दिल को रखना है बीमारियों से दूर, तो रोज खाएं ये 5 नट्स

ब्रेन डेड होने पर कोई व्यक्ति कब तक जिंदा रह सकता है?

न्यूरॉलजिस्ट्स का कहना है कि किसी व्यक्ति का ब्रेन डेड होने पर वो कितने दिन या कितने घंटे और मिनट जिंदा रहेगा ये उसके ब्रेन डेड के कारणों पर निर्भर करता है। कई मामलों में मरीज कुछ महीनों तक भी जिंदा रहता है, तो कुछ मामलों में ये संभावना कुछ ही घंटों की होती है। न्यूरॉलजिस्ट्स का कहना है कि कई बार दवाओं का हाई डोज, घातक ब्रेन इंफेक्शन, जहर और दिमाग में लगने वाली चोट की वजह से भी ब्रेन डेड की संभावना रहती है। बात राजू श्रीवास्तव की करें तो उन्हें 10 अगस्त को दिल का दौरा पड़ा था। एम्स में जब उन्हें भर्ती कराया गया था तब उनके हार्ट के एक बड़े हिस्से में 100 फीसदी ब्लॉकेज था। अस्पताल में भर्ती कराने के बाद राजू श्रीवास्तव का MRI किया गया था, जिसमें सिर की एक नस दबी होने की जानकारी सामने आई थी।

Can organs function after brain death?

क्या है ब्रेन डेड और कोमा में अंतर

कई बार आम लोगों को लगता है कि ब्रेन डेड और कोमा की स्थिति एक ही है। लेकिन मेडिकल में दोनों का अर्थ काफी अलग होता है। कोमा की स्थिति में मरीज के रिकवरी के चांस काफी ज्यादा होते हैं। कोमा में मरीज का दिमाग काम कर रहा होता है। कोमा में मरीज के आसपास क्या हो रहा है। कौन क्या कह रहा है ये सभी बातें उसके दिमाग तक पहुंचती हैं और शरीर के बाकी अंगों को भी संकेत देती हैं। लेकिन ब्रेन डेड की स्थिति में ये संभावनाएं नहीं होती हैं। यानी कोमा के बाद वाली स्थिति ब्रेन डेड होती है।

 

Disclaimer