आपके दिल के लिए हानिकारक है सल्फर एमिनो एसिड वाले खाद्य पदार्थ, शोध में हुआ खुलासा

एक शोध की मानें, तो आपके दिल के लिए एनिमल बेस्ड फूड्स से निकलने वाला सल्फर एमिनो एसिड खतरनाक हो सकता है।

 
Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Feb 05, 2020 08:57 IST
 आपके दिल के लिए हानिकारक है सल्फर एमिनो एसिड वाले खाद्य पदार्थ, शोध में हुआ खुलासा

अगर आप रोज मांस, सोया या नट्स जैसे उच्च-प्रोटीन आहार पर ज्यादा निर्भर रहते हैं, तो ये आपके दिल के स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक भी हो सकता है। शोधकर्ताओं के अनुसार, मीट और अन्य उच्च प्रोटीन वाले खाद्य पदार्थ आम तौर पर सल्फर एमिनो एसिड सामग्री में अधिक होते हैं, जो आपके दिल के लिए स्वास्थ्यकारी नहीं है। जर्नल लैंसेट ईसीलीनिकल मेडिसिन में प्रकाशित एक अध्ययन की मानें, तो पौधे आधारित आहार हृदय रोग के जोखिम को कम करने के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है, वहीं एनिमल बेस्ड फूड्स शरीर को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

plant based diet

सल्फर एमिनो एसिड वाले आहारों से बचें

अमीनो एसिड प्रोटीन के निर्माण खंड हैं। शोधकर्ताओं ने कहा कि मेथिओनिन और सिस्टीन सहित सल्फर एमिनो एसिड नामक एक उपश्रेणी, चयापचय और स्वास्थ्य में विभिन्न भूमिका निभाते हैं। मीट और अन्य उच्च प्रोटीन खाद्य पदार्थ आम तौर पर सल्फर एमिनो एसिड सामग्री में अधिक होते हैं। इसके उलट जो लोग फलों और सब्जियों जैसे पौधों पर आधारित बहुत सारे उत्पाद खाते हैं, वे कम मात्रा में सल्फर एमिनो एसिड का उपभोग करते हैं, जो उनके हृदय स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। 

प्लांड बेस्ड फूड्स हैं फायदेमंद

शोध के लेखक जेन डोंग की मानें, तो ये परिणाम शाकाहारी या अन्य पौधों पर आधारित आहार खाने वालों में देखे गए कुछ लाभकारी स्वास्थ्य प्रभावों का समर्थन करते हैं। डॉन्ग ने 2018 के पहले के एक अध्ययन में पाया कि सल्फर एमिनो एसिड आहारों में ज्यादातर आहार जानवरों से कहीं न कहीं जुड़े हुए हैं। एक नवीनतम अध्ययन में, अनुसंधान दल ने एक राष्ट्रीय अध्ययन के 11,000 से अधिक प्रतिभागियों के आहार और रक्त बायोमार्कर की जांच की और पाया कि जिन प्रतिभागियों ने कम सल्फर अमीनो एसिड वाले खाद्य पदार्थ खाए थे, उनके शरीर में रक्त बनाने के आधार पर कार्डियोमेटाबोलिक चयापचय के लिए कम जोखिम था।

Inside_heartdisease

इसे भी पढ़ें : आयुर्वेद से दिल को रखें स्‍वस्‍थ

क्या कहता है शोध?

शोधकर्ताओं ने कोलेस्ट्रॉल, ट्राइग्लिसराइड्स, ग्लूकोज और इंसुलिन सहित 10-16 घंटे के उपवास के बाद प्रतिभागियों के रक्त में कुछ बायोमार्कर के स्तर के आधार पर एक मिश्रित कार्डियोमेटोबोलिक रोग जोखिम अंक तैयार किया। ये बायोमार्कर बीमारी के लिए किसी व्यक्ति के जोखिम के संकेत हैं, जैसे उच्च कोलेस्ट्रॉल का स्तर हृदय रोग के लिए एक जोखिम कारक है। अध्ययन के शोधकर्ता जॉन रिची ने कहा कि इनमें से कई स्तर व्यक्ति की दीर्घकालिक आहार की आदतों से प्रभावित हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: दिल के मरीजों के लिए डाइट चार्ट

इसके बाद शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन लोगों में हृदय से जुड़ी कोई भी परेशानी थी, उनमें  औसत सल्फर अमीनो एसिड का सेवन अनुमानित औसत आवश्यकता से लगभग ढाई गुना अधिक था। शोधकर्ताओं ने पाया कि अधिक सल्फर अमीनो एसिड का सेवन मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसे संभावित  हृदय से जुड़ी कोई भी परेशानियों की ओक संकेत कर रहा था। वहीं अनाज, सब्जियों और फलों को छोड़कर हर प्रकार के एनिमल बेस्ड फूड्स को हृदय से जुड़ी परेशानी के कई कारणों में से एक के रूप में देखा जा रहा है।

Read more articles on Health-News in Hindi

Disclaimer