Doctor Verified

कम उम्र में बढ़ रहे हैं हार्ट अटैक के मामले, डेली रूटीन में न करें ये 5 गलतियां

कम उम्र में हार्ट की बीमार‍ियों से बचने के ल‍िए 5 गलत‍ियों से बचना चाह‍िए। जान‍िए इनके बारे में।

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Dec 30, 2022 15:15 IST
कम उम्र में बढ़ रहे हैं हार्ट अटैक के मामले, डेली रूटीन में न करें ये 5 गलतियां

कम उम्र में हार्ट अटैक के केस लगातार बढ़ रहे हैं। अचानक से बढ़ रहे मामलों के पीछे का कारण पता लगाने के ल‍िए डॉक्‍टर मरीज की द‍िनचर्या, बीमारी से जुड़ी ह‍िस्‍ट्री और अन्‍य बातों पर गौर करते हैं। एक्‍सपर्ट्स और डॉक्‍टर की मानें, तो सेहत के प्रत‍ि लापरवाही बरतने के कारण कम उम्र में हार्ट के मरीज बढ़ रहे हैं। लापरवाही या गलत‍ियां खानपान या जीवनशैली से जुड़ी हो सकती हैं। सर्द‍ियों के मौसम में बीपी और शुगर का स्‍तर घटता-बढ़ता रहता है। इसके कारण हार्ट से जुड़ी समस्‍याओं का खतरा बढ़ जाता है। सर्द‍ियों के द‍िनों में द‍िल की नल‍ियां स‍िकुड़ जाती है। अगर बीपी हाई रहता है और मोटापे का श‍िकार हैं, तो हार्ट की बीमारी का खतरा दोगुना होता है। इस लेख में हम जानेंगे ऐसी 5 गल‍त‍ियां ज‍िनसे बचकर युवा पीढ़ी हार्ट की बीमारी से बचाव कर सकती है। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के पल्‍स हॉर्ट सेंटर के कॉर्ड‍ियोलॉज‍िस्‍ट डॉ अभ‍िषेक शुक्‍ला से बात की।

heart attack in young age

1. ओवरईट‍िंग की आदत 

आजकल के युवा ओवरईट‍िंग का श‍िकार हैं। इसका बुरा असर हार्ट पर पड़ता है। गलत समय पर खाना और अनहेल्‍दी खाने के कारण कोलेस्‍ट्रॉल का स्‍तर बढ़ जाता है और हार्ट बीमार होने लगता है। इससे कम उम्र में ही व्‍यक्त‍ि हार्ट अटैक, हाई बीपी और हार्ट से जुड़ी अन्‍य समस्‍याओं का श‍िकार हो जाता है। ओवरईट‍िंग करने के बजाय संतुल‍ित आहार लें और दो मील्‍स के बीच 4 से 5 घंटे का गैप जरूर रखें।

इसे भी पढ़ें- 40 की उम्र तक बढ़ते हार्ट अटैक के मामलों को कैसे करें कम? डॉक्टर से जानें किन आदतों को बदलना जरूरी

2. हर द‍िन कसरत न करना 

हार्ट को हेल्‍दी रखने के ल‍िए कसरत जरूरी है। शारीर‍िक तौर पर एक्‍ट‍िव रहकर हाई बीपी की समस्‍या और अन्‍य हार्ट की बीमार‍ियों से बच सकते हैं। अगर हफ्ते के 7 द‍िन कसरत नहीं कर सकते, तो 5 द‍िन जरूर कसरत के ल‍िए समय न‍िकालें। हार्ट को सेहतमंद बनाए रखने के ल‍िए एरोब‍िक्‍स, प‍िलाटे, वॉक‍िंग, रन‍िंग आद‍ि एक्‍ट‍िव‍िटीज की मदद ले सकते हैं।

3. जरूरत से ज्‍यादा दवाओं का सेवन 

इंटरनेट की दुन‍िया में युवा वर्ग ब‍िना सलाह ल‍िए ही दवाओं का सेवन कर लेता है। लेक‍िन ये सही नहीं है। जरूरत से ज्‍यादा दवाओं का सेवन या गलत दवा का सेवन करने से हार्ट की मसल्‍स पर बुरा असर पड़ सकता है। दवा खाने के तुरंत बाद सांस लेने में समस्‍या या पसीना आने लगे, तो तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें।  

4. एल्‍कोहल और धूम्रपान का सेवन करना 

हार्ट को हेल्‍दी रखने के ल‍िए युवा पीढ़ी एल्‍कोहल और धूम्रपान का सेवन न करें। एल्‍कोहल हार्ट वैसल्‍स को कमजोर कर देती हैं। वहीं लंबे समय तक धूम्रपान का सेवन करने से हार्ट अटैक, कोरोनरी हार्ट ड‍िसीज का खतरा बढ़ता है। जो लोग कोव‍िड का श‍िकार हुए हैं, उन्‍हें व‍िशेष सावधानी बरतनी चाह‍िए।     

5. फल-सब्जियों का सेवन न करना 

युवा वर्ग आज के समय में पैकेज्‍ड फूड्स का सेवन ज्‍यादा करते हैं। खानपान में आ रहे इस बड़े बदलाव के कारण भी हार्ट की समस्‍याएं कम उम्र में बढ़ सकती हैं। हेल्‍दी हार्ट के ल‍िए ब्‍लड सर्कुलेशन को बेहतर रखना जरूरी है। ब्‍लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाने के ल‍िए मौसमी फल जैसे संतरा, कीनू, कीवी, अनार और आंवला आद‍ि का सेवन करें। इसके अलावा  हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें। हरी सब्‍ज‍ियों का सेवन करने से गाढ़ा खून सामान्‍य होता है और ब्‍लड क्‍लॉट‍िंग की समस्‍या नहीं होती।     

हार्ट हो हेल्‍दी रखने के ल‍िए ऊपर बताई गई 5 गलत‍ियों को नजरअंदाज करें और हेल्‍दी लाइफस्‍टाइल ब‍िताएं। लेख पसंद आया हो, तो शेयर करना न भूलें। 

Disclaimer