40 की उम्र तक बढ़ते हार्ट अटैक के मामलों को कैसे करें कम? डॉक्टर से जानें किन आदतों को बदलना जरूरी

आज के दौर में हमारी खराब लाइफस्टाइल कई रोगों की वजह बनती जा रही हैं। हृदय रोग से बचने के लिए आपको अपनी लाइफस्टाइल को बदलना होगा। 

 

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Dec 17, 2022 09:00 IST
40 की उम्र तक बढ़ते हार्ट अटैक के मामलों को कैसे करें कम? डॉक्टर से जानें किन आदतों को बदलना जरूरी

लोगों में हार्ट संबंधी समस्याएं बढ़ने लगी हैं। पिछले कुछ दिनों में युवाओं में हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्‍ट के कई मामले सामने आए हैं। हमारी आदतों का असर हमारी सेहत पर पड़ता है और खराब आदतें ही हमें रोगों से ग्रसित कर देती हैं। हार्ट संबंधी रोगों पर हेल्थ प्लिक्स इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर रोहित चोपड़ा बताते हैं कि हार्ट पर पड़ने वाला प्रेशर ही हार्ट को कमजोर बनाता है। विशेषज्ञों का कहना है कि एक्‍सरसाइज नहीं करने से हार्ट अटैक होने की संभावना बढ़ सक‍ती है। लेकिन ज्यादा एक्सरसाइज करना भी आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। आगे जानते हैं कि हार्ट अटैक के क्या कारण होते हैं और हमारी कौन सी आदतें हार्ट संबंधी रोगों को वजह बन सकती हैं। 

हार्ट अटैक के कारण

हार्ट अटैक के कारण हर व्‍यक्ति में अलग हो सकते हैं। इसका प्रमुख कारण खराब लाइफस्‍टाइल भी होता हैं। तनाव हार्ट अटैक का एक मुख्य कारण माना जाता है। अचानक तनाव होना कार्डियोमायोपैथी नामक हार्ट संबंधी समस्‍या पैदा कर सकता है। हार्ट अटैक के लिए टाइप-2 डायबिटीज, कोलेस्‍ट्रॉल, हाई बीपी, मोटापा और अनुवां‍शिक कारण जिम्‍मेदार होते हैं। ये समस्‍याएं किसी भी उम्र के व्‍यक्ति को हो सकती हैं। 

इसे भी पढ़ें : हार्ट अटैक के प्रकार: एक्सपर्ट से जानें कितने प्रकार का होता है हार्ट अटैक और इन्हें पहचानने का संकेत 

Prevents heart attack

हार्ट अटैक से बचने के लिए लाइफस्टाइल की किन आदतों को बदलना जरूरी 

धूम्रपान से रहें दूर

हार्ट को हेल्‍दी बनाने के लिए सबसे पहले धूम्रपान से दूर रहें। सिगरेट में तंबाकू होता है जो शरीर के लिए हानिकारक होता है। सिगरेट पीने से लंग्स की कई बीमारियां होने का खतरा बना रहता है। इसलिए समय रहते स्‍मोकिंग को छोड़ना ही समझदारी होगी।

स्वस्थ आहार लेना शुरू करें

अगर स्वस्थ रहना है तो आपको अपनी डाइट को भी बदलना होगा। जंक फूड और अनहेल्दी खाना भी आपको रोगी बना सकता है। स्वस्थ रहने के लिए सब्जियों और फलों का अधिक सेवन करें। यदि आप मांसाहारी है तो लीन मीट जैसे मछली और चिकन खाएं। अधिक नमक, चीनी और रेड मीट के सेवन से परहेज करें। जितना हो सके कम चीनी, कार्बोहाइड्रेट और अल्‍कोहल का सेवन कम करें। 

पर्याप्‍त नींद लें

व्यस्‍त दिनचर्या के चलते लोगों की नींद प्रभावित हुई है। हेल्‍दी रहने के लिए अच्‍छी नींद लेना जरूरी है। आपको दिन में कम से कम 7-8 घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए। अच्‍छी नींद लेने वाले लोगों को हाई बीपी, डायबिटीज, डिप्रेशन और हार्ट अटैक की संभावना कम होती है। 

स्‍ट्रेस को करें मैनेज

तनाव यानी स्‍ट्रेस को मैनेज करना बहुत महत्‍वपूर्ण है। तनाव कम करने के लिए अनहेल्‍दी डाइट, शराब और धूम्रपान को छोड़ना होगा। तनाव को कम करने के लिए आप योग व मेडिटेशन का सहारा ले सकते हैं। 

एक्सरसाइज करना जरूरी  

हेल्‍दी रहने के लिए एक्‍सरसाइज करना जरूरी है। रोजाना कम से कम 30 से 60 मिनट की एक्टिविटी करनी चाहिए, क्‍योंकि ये न केवल आपके शरीर के वजन को नियंत्रित करती है बल्कि हाई बीपी, हाई कोलेस्‍ट्रॉल और डायबिटीज जैसे रोगों से भी बचाती है। 

इसे भी पढ़ें : हार्ट अटैक आने के बाद जल्दी रिकवरी के लिए अपनाएं ये 5 टिप्स

ब्‍लड प्रेशर की नियमित जांच करें

हार्ट प्रॉब्‍लम्‍स से बचने के लिए नियमित रूप से बीपी को चेक करते रहना चाहिए। इसकी मॉनिटरिंग 18 साल की उम्र से ही शुरू हो जानी चाहिए। हाई बीपी की वजह से हार्ट पर प्रभाव पड़ सकता है। 

शुगर लेवल की जांच है जरूरी

यदि घर में पहले किसी को डायबिटीज की समस्या हो तो आपको अपना शुगर लेवल चेक करते रहना चाहिए। शुगर लेवल की अनियमितता भी आपके हार्ट के कार्य को प्रभावित कर सकती है।

Disclaimer