स‍िंगर जस्टिन बीबर को हुआ Ramsay Hunt Syndrome, आधे चेहरे में हुआ पैरालिसिस, जानें क्‍या है ये बीमारी

रामसे हंट सिंड्रोम, जस्‍टिन बीबर को आख‍िर क्‍या बीमारी है जानते हैं इस लेख में व‍िस्‍तार से 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jun 13, 2022Updated at: Jun 13, 2022
स‍िंगर जस्टिन बीबर को हुआ Ramsay Hunt Syndrome, आधे चेहरे में हुआ पैरालिसिस, जानें क्‍या है ये बीमारी

हॉलीवुड के फेमस पॉप स‍िंगर जस्‍ट‍िन बीबर रामसे हंट सिंड्रोम (Ramsay Hunt Syndrome in hindi) का श‍िकार हो गए है। उनके फैन्‍स के ल‍िए ये खबर ब‍िल्‍कुल अच्छी नहीं है क्‍योंक‍ि इस बीमारी का पता चलते ही जस्‍ट‍िन ने अपने आगे होने वाले शोज को रद्द कर द‍िया है। इस बीमारी की घोषणा खुद जस्‍ट‍िन ने अपने सोशल मीड‍िया हैंडल के जर‍िए की है। उन्‍होंने बताया और वीड‍ियो में द‍िखाया है क‍ि क‍िस तरह से उनके आधे चेहरे पर पैराल‍िस‍िस हो चुका है। इस खबर के फैलते ही पूरी दुन‍िया में लोग जस्‍ट‍िन के ल‍िए प्रार्थना कर रहे हैं। ये बीमारी तंत्र‍िका से जुड़ी बीमारी है, इस बीमारी के होने पर व्‍यक्‍त‍ि के चेहरे को लकवा मार सकता है या उसके चेहरे पर चकत्ते हो सकते हैं वहीं क‍ुछ केस में दोनों ही लक्षण नजर आते हैं। आइए जानते हैं इस बीमारी और जस्‍ट‍िन की स्‍थि‍त‍ि से जुड़ी जरूरी बातें।      

justin bieber

रामसे हंट सिंड्रोम क्या है? (Ramsay Hunt Syndrome in hindi)

वेरिसेला जोस्टर वायरस के फैलने से ये बीमारी होती है, ये वायरस नस में इंफेक्‍शन फैलाता है। इस बीमारी के चलते व्‍यक्‍त‍ि के चेहरे और कान के आसपास के ह‍िस्‍से में चकत्ते होने लगते हैं और चेहरे का एक ह‍िस्‍सा पैरालाइस हो जाता है। 

रामसे हंट सिंड्रोम के लक्षण (Ramsay Hunt Syndrome symptoms)

रामसे हंट स‍िंड्रोम के लक्षणों को जरूर जान लें-

  • ज‍िस व्‍यक्‍त‍ि को ये बीमारी हो जाती है उसके चेहरे की मांसपेश‍ियों का कमजोर पड़ना शुरू हो जाता है या एक ह‍िस्‍सा पैराल‍िस‍िस का श‍िकार हो जाता है।
  • आपको बता दें क‍ि रामसे हंट सिंड्रोम के श‍िकार हुए व्‍यक्‍त‍ि के कान और आसपास के ह‍िस्‍से में फफोले जैसे दाने बन जाते हैं ज‍िनमें दर्द भी होता है। 
  • पैराल‍िस‍िस और दानों के अलावा कान में दर्द की श‍िकायत भी हो सकती है।   
  • रामसे हंट स‍िंड्रोम से पीड़‍ित व्‍यक्‍त‍ि को सुनाई देने में तकलीफ होती है। 
  • आंख बंद करने में मुश्‍क‍िल होना या कानों का बजना भी इस बीमारी के लक्षण हैं। 
  • स्‍वाद चले जाना या स‍िर घूमने जैसा अहसास होना भी रामसे हंट स‍िंड्रोम के लक्षण हैं।   
  • रामसे हंट स‍िंड्रोम के हो जाने पर मुंह और आंख में मॉइश्‍चर की कमी हो सकती है।   

जस्‍ट‍िन बीबर का आधा चेहरा हुआ लकवाग्रस्‍त

28 वर्षीय सिंगर को रामसे हंट सिंड्रोम होने के बाद उनका आधा चेहरा लकवे का श‍िकार हो गया है, उस ह‍िस्‍से पर न तो एक्‍सप्रेशन बन रहे हैं या लकवाग्रस्‍त ह‍िस्‍से की तरफ की पलक झपक रही है और न ही उस ह‍िस्‍से को जस्‍ट‍िन मूव कर पा रहे हैं। जस्‍ट‍िन ने अपने आगे के शो को रद्द कर द‍िया है। जस्‍ट‍िन ने सोशल मीड‍िया पर तीन म‍िनट का वीड‍ियो अपलोड करके अपने चेहरे के दाह‍िने ह‍िस्‍से को द‍िखाया है, जस्‍ट‍िन ने ये भी बताया है क‍ि ये एक गंभीर बीमारी है और उन्‍हें इस समय केवल आराम की जरूरत है।   

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Justin Bieber (@justinbieber)

क्‍या जस्‍ट‍िन पहले की तरह नॉर्मल हो जाएंगे?

डॉक्‍टरों की मानें तो इस बीमारी से पीड़ि‍त व्‍यक्‍त‍ि में लक्षण अस्‍थायी ही होते हैं पर कुछ में ये लक्षण स्‍थायी भी हो सकते हैं इसल‍िए अभी जस्‍ट‍िन की कंडीशन को लेकर कुछ भी कहना ठीक नहीं होगा। इस बीमारी से पीड़‍ित व्‍यक्‍त‍ि के कानों पर भी असर पड़ता है, कई केस में आंखों की रौशनी भी धुंधली होने लगती है इसल‍िए इसका जल्‍द से जल्‍द इलाज करवाना चाह‍िए। आपको बता दें क‍ि जस्‍ट‍िन पहले से लाइम ड‍िसीज और क्रॉनिक मोनो के श‍िकार हो चुके हैं ज‍िसका असर त्वचा, मस्‍त‍ि‍ष्‍क, पूरे स्‍वास्‍थ्‍य पर पड़ता है।

इसे भी पढ़ें- 'लाइम डिजीज' नाम की लाइलाज बीमारी का शिकार हैं पॉप स्टार जस्टिन बीबर, जानें इस घातक बीमारी के लक्षण

रामसे हंट सिंड्रोम का इलाज (Ramsay Hunt Syndrome treatment)

इस बीमारी से पीड़‍ित व्‍यक्‍त‍ि को तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करना चाह‍िए। ठीक होने के ल‍िए सही और जल्‍दी उपचार पहुंचना जरूरी है, प्राथम‍िक स्‍तर पर डॉक्‍टर दवा देते हैं, पेनक‍िलर भी दी जाती है और थैरेपी करवाई जाती है। अगर इस बीमारी के लक्षण आपके अंदर हैं, आपको महसूस हो रहा है क‍ि चेहरे का ह‍िस्‍सा पैराल‍िस‍िस का श‍िकार हो रहा है या दाने नजर आ रहे हैं तो आप डॉक्‍टर को जरूर द‍िखाएं। शुरूआती समय में इलाज म‍िल जाए तो लक्षणों को बढ़ने से रोका जा सकता है। 

इस बीमारी से बचाव ही इसका इलाज है इसल‍िए लक्षण नजर आने पर तुरंत डॉक्‍टर से म‍िलें। 

Disclaimer