Expert

ज्वार की रोटी या मक्के की रोटी, वजन घटाने के लिए क्या है ज्यादा फायदेमंद? जानें एक्सपर्ट का राय

Jowar Roti Vs Makki Roti: वजन घटाने के लिए लोग ज्वार की रोटी ज्यादा फायदेमंद है या मक्के की रोटी? आइए जानें किसे खाने से घटेगा तेजी से वजन।

 

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarUpdated at: Nov 19, 2022 11:15 IST
ज्वार की रोटी या मक्के की रोटी, वजन घटाने के लिए क्या है ज्यादा फायदेमंद? जानें एक्सपर्ट का राय

Jowar Roti Vs Makki Roti: जब वजन घटाने की बात आती है, तो गेहूं के आटे की रोटी कम खाने की सलाह दी जाती है। क्योंकि गेहूं के आटे की रोटी में फाइबर और अन्य पोषक तत्व की तो अच्छी मात्रा होती है, लेकिन इसमें कार्बोहाइड्रेट अधिक होता है। साथ ही कुछ लोगों को गेंहू से एलर्जी भी होती है। जब सर्दियों का मौसम शुरू होता है, तो लोग वजन घटाने के लिए ज्वार और मक्के की रोटी का सेवन बहुत करते हैं, क्योंकि आम तौर पर इन्हें गेहूं के आटे की रोटी से ज्यादा फायदेमंद माना जाता है। साथ ही इनमें कार्बोहाइड्रेट और कैलोरी की मात्रा कम होती है। यह पचने में भी आसान होती हैं।

लेकिन एक सवाल वजन कम करने वाले लोगों को अक्सर परेशान करता है, कि वजन घटाने के लिए ज्वार की रोटी ज्यादा फायदेमंद है या मक्के की रोटी? किसे खाने से तेजी से वजन घटता है? इस विषय पर अधिक जानकारी के लिए हमने क्लीनिकल न्यूट्रिशनिस्ट और डायटीशियन गरिमा गोयल से बात की। आइए जानते हैं ज्वार की रोटी या मक्के की रोटी में वेट लॉस के लिए क्या है अधिक फायदेमंद।

Jowar Roti Vs Makki Roti

ज्वार की रोटी Vs मक्की की रोटी पोषण

अगर वजन घटाने के संदर्भ में दोनों रोटियों में भेद करें तो हम पाते हैं कि पोषण के मामले में दोनों में ही कुछ खास अंतर देखने को नहीं मिलती है। 100 ग्राम ज्वार के आटे की बात करें तो इसमें 9.7 ग्राम फाइबर, 72 ग्राम कार्ब्स और 360 कैलोरी होती हैं।

वहीं मक्के के आटे की बात करें तो इसमें प्रति 100 ग्राम 7 ग्राम फाइबर, 6.8 ग्राम प्रोटीन, 77 ग्राम कार्ब्स और कैलोरी की मात्रा 360 के आसपास होती है।

इसे भी पढें: सुबह प्याज उबालकर पानी पीने से सेहत को मिलेंगे 6 जबरदस्त फायदे

किसे खाने से तेजी से वजन घटता है?

दोनों ही आटे से बनी रोटी पोषक तत्वों से भरपूर होती हैं, इनमें शरीर के लिए कई जरूरी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। दोनों ही वजन घटाने वाले लोगों के लिए बहुत लाभकारी है, दोनों का सेवन करने से वजन प्रबंधन में मदद मिलती है। पाचन तंत्र दुरुस्त रहता है और मेटाबॉलिज्म रेट भी बढ़ता है। यह आपको लंबे समय तक पेट भरा हुआ महसूस करने में मदद करती है और आप कम कैलोरी का सेवन करते हैं। साथ ही यह आपकी अनहेल्दी फूड्स की क्रेविंग कंट्रोल करने में भी मदद करती हैं। जिससे वजन कम करने में आसानी होती है।

इसे भी पढें: गुनगुने पानी में मिलाकर पिएं भृंगराज पाउडर, कम होगा इन 10 समस्याओं का जोखिम

लेकिन अक्सर लोग कुछ गलतियां करते हैं, वे साग के साथ में जब इन रोटियों का सेवन करते हैं तो उन पर काफी अधिक घी या मक्खन लगाकर खाते हैं, जो कि बिल्कुल भी सही नहीं है। अगर आप इस तरह इनका सेवन करते हैं, तो इससे आपको वजन प्रबंधन में कोई मदद नहीं मिलेगी। आपको वजन प्रबंधन के दौरान कम कैलोरी और फैट वाला भोजन करना होता है। बाकी दोनों ही वजन घटाने में लाभकारी हैं अगर आप सीमित मात्रा में इनका सेवन करते हैं।

All Image Source: Freepik

Disclaimer