Doctor Verified

पसीने से भीगे कपड़े देर तक पहनने से हो सकता है इंफेक्शन, जानें बचाव के उपाय

गीले कपड़े के कारण इंफेक्‍शन की समस्‍या होने पर आप इस लेख में बताए उपाय अपना सकते हैं 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: May 09, 2022Updated at: May 09, 2022
पसीने से भीगे कपड़े देर तक पहनने से हो सकता है इंफेक्शन, जानें बचाव के उपाय

अगर आपके भी कपड़े पसीने में गीले हो जाते हैं या आप गीले कपड़े पहनते हैं तो आपको स्‍क‍िन इंफेक्‍शन की समस्‍या हो सकती है। अगर आप प्रेगनेंट हैं या आपको डायब‍िटीज है या फ‍िर रोग प्रत‍िरोधक क्षमता कमजोर है, आप एंटीबायोट‍िक्‍स का सेवन करते हैं या एस्‍ट्रोजन हार्मोन की हाई डोज लेते हैं तो आपको इंफेक्‍शन जल्‍दी कैच करेगा। इंफेक्‍शन न बढ़े इसके ल‍िए आप कुछ आसान उपायों को अपना सकते हैं। इस लेख में हम गीले कपड़े पहनने के कारण होने वाले इंफेक्‍शन को दूर करने के उपायों पर बात करेंगे। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने ओम स्किन क्लीनिक, लखनऊ के वरिष्ठ कंसलटेंट डर्मेटोलॉज‍िस्‍ट डॉ देवेश मिश्रा से बात की।

control sugar level

1. ब्‍लड शुगर लेवल कंट्रोल करें (Control blood sugar level)

अगर आपको बार-बार इंफेक्‍शन हो रहा है तो ब्‍लड शुगर लेवल कंट्रोल में रखें, अगर आपका ब्‍लड शुगर लेवल कंट्रोल नहीं रहेगा तो आपको बार-बार इंफेक्‍शन हो सकता है। ब्‍लड शुगर लेवल को बढ़ने से रोकना है तो डाइट पर ध्‍यान दें, ज्‍यादा से ज्‍यादा पानी का सेवन करें और उन चीजों का सेवन अवॉइड करें ज‍िससे ब्‍लड शुगर लेवल बढ़ता है। ब्‍लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के ल‍िए आपको चीनी या आर्टि‍फ‍ि‍श‍ियल शुगर की जगह ताजे फलों का सेवन करना चाह‍िए। 

इसे भी पढ़ें- दूध में हींग डालकर पीने से पाचन हो सकता है दुरुस्त, जानें इसके 8 अन्य फायदे

2. पाउडर का इस्‍तेमाल करें (Use powder to cure wet clothes infection)

गीले कपड़े के कारण होने वाले इंफेक्‍शन को दूर करने के ल‍िए आप एंटीबैक्‍टीर‍ियल पाउडर का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। एंटीबैक्‍टीर‍ियल पाउडर के इस्‍तेमाल से इंफेक्‍शन की समस्‍या दूर होगी और आप इंफेक्‍शन को फैलने से रोक सकते हैं। इसके अलावा इस बात का ध्‍यान रखें क‍ि कपड़े हमेशा लूस यानी ढीले हों, ढीले कपड़े पहनने से बॉडी का तापमान ठीक रहता है और आपके प्राइवेट पार्ट के आसपास के ह‍िस्‍से में नमी नहीं बनती। इंफेक्‍शन की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए आप डॉक्‍टर के बताए पाउडर या दवा का भी यूज कर सकते हैं। डॉक्‍टर आपको बेहतर दवा या इलाज देंगे। अगर आप रोजाना पाउडर का इस्‍तेमाल करेंगे तो आपको इंफेक्‍शन नहीं होगा।

3. परफ्यूम या सेंट अवॉइड करें (Avoid perfume or scent)

आपको इंफेक्‍शन की समस्‍या से बचने के ल‍िए परफ्यूम या सेंट का इस्‍तेमाल नहीं करना चाह‍िए इससे इंफेक्‍शन और फैलता है इसके अलावा कपड़ों को परफ्यूम से गीला करके पहनने से भी इंफेक्‍शन की समस्‍या हो सकती है। कई लोग डायरेक्‍स स्‍क‍िन पर परफ्यूम या सेंट का इस्‍तेमाल करते हैं पर उसकी जगह आपको केवल कपड़ों पर हल्‍का सेंट एप्‍लाई करना है नहीं तो अगर आप भीग गए तो परफ्यूम का केम‍िकल, र‍िएक्‍ट कर सकता है।  

इसे भी पढ़ें- हेयर स्ट्रेटनिंग के बाद अगर आपके बाल ड्राई और डैमेज होने लगे हैं, तो जानें इसको ठीक करने के उपाय         

4. दही का इस्‍तेमाल करें (Use curd to cure wet clothes infection)

skin infection tips in hindi

आप दही का सेवन करें, इंफेक्‍शन को दूर करने में दही का सेवन फायदेमंद होता है। दही में गुड बैक्‍टीर‍िया होते हैं ज‍िससे इंफेक्‍शन दूर होता है। दही का इस्‍तेमाल करने के ल‍िए आप इंफेक्‍शन वाली जगह पर दही लगा सकते हैं वहीं आप दही का सेवन करेंगे तो भी इंफेक्‍शन के लक्षण दूर होंगे। इंफेक्‍शन वाली जगह आप दही और एलोवेरा के म‍िश्रण को भी एप्‍लाई कर सकते हैं। इससे इंफेक्‍शन और खुजली दोनों दूर हो जाएगी। इंफेक्‍शन की समस्‍या से बचने के लि‍ए आपको दही का सेवन रोजाना करना चाह‍िए। 

5. एलोवेरा लगाएं (Use aloe vera to cure wet clothes infection)

अगर आपको गीले कपड़े के कारण इंफेक्‍शन हुआ है तो आप एलोवेरा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। एलोवेरा का पल्‍प आप पत्‍ती से न‍िकालकर उसे इंफेक्‍शन वाली जगह पर लगाएं और 15 म‍िनट बाद त्‍वचा को साफ पानी से धोकर ड्राय होने दें, इससे इंफेक्‍शन ठीक हो जाएगा। गीले कपड़े पहनने के कारण इंफेक्‍शन की समस्‍या हो सकती है। अगर आप भी कपड़ों को सुखाए बगैर पहन लेते हैं या आपको पसीना ज्‍यादा आता है तो आपको इंफेक्‍शन की समस्‍या हो सकती है। इंफेक्‍शन की समस्‍या से बचने के ल‍िए आपको हमेशा ड्राय क्‍लोथ का ही इस्‍तेमाल करना चाह‍िए। इस तरह के इंफेक्‍शन से बचने के ल‍िए भी आपको रोजाना स्‍क‍िन पर एलोवेरा लगाना चाह‍िए। 

इन आसान उपायों की मदद से आप गीले कपड़ों के कारण होने वाले इंफेक्‍शन से बच सकते हैं।

Disclaimer