क्या शिशुओं के लिए गैस ड्रॉप्स सुरक्षित होते हैं? डॉक्टर से जानें इसका इस्तेमाल और सावधानी

शिशुओं को गैस की समस्या होने पर हम कई तरह-तरह के उपाय अपनाने लगते हैं। इन्ही में से एक उपाय है गैस ड्रॉप्स, लेकिन क्या ये सुरक्षित है? 

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraUpdated at: Aug 13, 2021 02:51 IST
क्या शिशुओं के लिए गैस ड्रॉप्स सुरक्षित होते हैं? डॉक्टर से जानें इसका इस्तेमाल और सावधानी

गैस की समस्या होना काफी आम बात है। यह समस्या न सिर्फ बड़ों को होती है, बल्कि छोटे बच्चों को भी गैस की समस्या हो सकती है। क्योंकि बच्चों की इम्यूनिटी ज्यादा स्ट्रॉन्ग नहीं होती है, जिसके कारण वे अपना खाना अच्छे से पता नहीं पाते हैं। गैस की समस्या होने पर कुछ माता-पिता सोचते हैं कि यह खुद ब खुद ठीक हो जाएगा। वहीं, कुछ को पेरेंट्स तरह-तरह के उपाय अपनाने लगते हैं। बच्चों को गैस की समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए कुछ माता-पिता गैस ड्रॉप्स का चुनाव करते हैं। लेकिन क्या गैस ड्रॉप्स का इस्तेमाल करना सुरक्षित है? किस तरह गैस ड्रॉप्स का इस्तेमाल करना (How to use gas Drops) चाहिए? इन सभी प्रश्नों के उत्तर नोएडा स्थित न्यू हॉस्पिटल के पीडियाट्रिशियन डॉक्टर विकास कुमार अग्रवाल (Neo Hospital Pediatrician Doctor Vikas Kumar Aggarwal) से जानेंगे। चलिए जानते हैं बच्चों के लिए कैसे करें गैस ड्रॉप्स का इस्तेमाल और यह कितना है सुरक्षित-

क्या है गैस ड्रॉप्स? (What is gas Drops)

गैस ड्रॉप्स एक दवा है। यह दवाई बच्चों को तब दी जाती है, जब उन्हें अपच, गैस, पेट दर्द या फिर पेट से जुड़ी कोई अन्य समस्या होती है। डॉक्टर विकास कुमार बताते हैं कि कुछ पेरेंट्स डॉक्टर की सलाह के बिना इस दवाई का इस्तेमाल बच्चों की पाचन से जुड़ी समस्याओं को ठीक करने के लिए करते हैं, जो बिल्कुल गलत है। बच्चों के मामले में बिना डॉक्टरी सलाह के किसी भी दवाई का इस्तेमाल करना घातक साबित हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें - सोते समय शिशुओं को ज्यादा पसीना आने के हो सकते हैं कई कारण, जानें इससे बचाव के लिए आसा टिप्स

क्या शिशुओं के लिए गैस ड्रॉप्स सुरक्षित है?

डॉक्टर बताते हैं कि गैस ड्रॉप्स का इस्तेमाल शिशुओं के लिए सुरक्षित माना जाता है। इसके इस्तेमाल से पेट की समस्याओं को दूर किया जा सकता है। लेकिन डॉक्टर की सलाह पर ही इसका इस्तेमाल करें। क्योंकि कुछ गैस ड्रॉप्स में सिमेथीकॉन होता है, जिसमें आर्टिफिशियन फ्लेवर होता है। यह केमिकल बच्चों के लिए सुरक्षित नहीं माना जाता है। इसलिए किसी भी गैस ड्रॉप्स को बच्चों को देने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लें। इसके अलावा आप खुद भी दवाई के इंग्रीडिएंट चेक करें, ताकि आप उसमें मौजूद चीजों को बारे में जान सकें। कहीं इसमें ऐसी चीज तो नहीं, जिससे आपके बच्चे को एलर्जी हो। इसलिए गैस ड्रॉप्स का इस्तेमाल करने से पहले सावधानी बरतें। 

कैसे दें शिशुओं को गैस ड्रॉप्स?

डॉक्टर बताते हैं कि शिशुओं या बड़े बच्चों को गैस ड्रॉप्स उनके आयु के अनुसार दी जाती है। इसलिए गैस ड्रॉप्स देने से पहले डॉक्टर से सुनिश्चिक करें कि आपके बच्चे को 1 दिन में कितनी खुराक देनी है। इसके अलावा डॉक्टर द्वारा बताए गए खुराक को सही से फॉलो करें। कभी भी शिशु या बच्चे को ओवरडोज न दें। क्योंकि इससे उनकी मस्या बढ़ सकती है। 

गैस ड्रॉप्स का साइड-इफेक्ट?

डॉक्टर का कहना है कि अगर आप बच्चों को उचित मात्रा में गैस ड्रॉप्स देती हैं, तो इससे उन्हें कोई साइड-इफेक्ट नहीं होता है। हालांकि, कुछ मामलों में गैस ड्रॉप्स के कुछ एलर्जिक रिएक्शन हो सकता है। जैसे-

बच्चों में इस तरह के साइड-इफेक्ट नजर आने पर तुरंत डॉक्टर से सलाह जरूर लें। ताकि डॉक्टर इसका सही समय पर इलाज कर सके।

इसे भी पढ़ें - शिशु की छाती (ब्रेस्ट) में गांठ के क्या कारण हो सकते हैं? डॉक्टर से जानें इससे छेड़छाड़ करने पर होने वाले खतरे

गैस ड्रॉप्स के अन्य विकल्प

अगर आप अपने बच्चे की पाचन शक्ति को मजबूत करना चाहते हैं, तो गैस ड्रॉप्स देने के बजाय कुछ अन्य चीजें भी दे सकते हैं। जैसे-

प्रोबायोटिक्स

प्रोबायोटिक्स एक गुड बैक्टीरिया होता है, जो आपको मार्केट में लिक्विड फॉर्म में भी उपलब्ध हो सकता है। शिशुओं को प्रोबायोटिक्स देने से इम्यूनिटी मजबूत होती है। इससे शिशुओं को होने वाली गैस, ब्लोटिंग की समस्या से छुटकारा दिलाया जा ससकता है। 

ग्राइप वाटर

अधिकतर लोग शिशु को ग्राइप वॉटर तब देते हैं, जब उनके दांत निकलने लगते हैं। दांत निकलने के दौरान शिशुओं को दस्त की शिकायत ज्यादा होती है। ऐसे में बच्चों को बड़े-बुजुर्ग ग्राइप-वॉटर देने की सलाह देते हैं। इसके अलावा ग्राइप वॉटर का इस्तेमाल आप गैस ड्रॉप्स के विकल्प के तौर पर कर सकते हैं। इससे शिशुओं की इम्यूनिटी मजबूत होती है।

ध्यान रखें कि शिशुओं को किसी भी तरह की दवाई देने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लें। ताकि उन्हें उस दवाई से होने वाले साइड-इफेक्ट से बचाया जा सके। 

Image Credit - Pixabay

Read More Articles on Newborn Care in Hindi

 

Disclaimer