Expert

डाइटिंग के कारण मसल्स और ताकत न हो जाएं कम? एक्सपर्ट से जानें वजन घटाने का सही तरीका

Dieting Tips In Hindi: डाइटिंग के दौरान मसल लॉस से बचने के लिए आपको कुछ बातों का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है, यहां जानें ऐसी 5 बातें।

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: May 30, 2022Updated at: May 30, 2022
डाइटिंग के कारण मसल्स और ताकत न हो जाएं कम? एक्सपर्ट से जानें वजन घटाने का सही तरीका

Dieting Tips In Hindi: हम सभी चाहते हैं कि हम फिट रहे हैं और हमारे पास एक मजबूत और आकर्षक बॉडी हो। इसके लिए हम तरह-तरह की डाइट से लेकर एक्सरसाइज तक सब कुछ फॉलो करते हैं। साथ ही वजन घटाने के लिए हम में से बहुत से लोग डाइटिंग भी करते हैं। अक्सर यह देखा जाता है कि जब लोग डाइटिंग करते हैं तो वजन कम होने के बजाए उनकी मांसपेशियां कम होने लगती हैं, साथ ही शरीर की ताकत भी कम होने लगती है। डाइटिंग करने के दौरान आपको कुछ बातों का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है।तो फिटनेस एक्सपर्ट और न्यूट्रीशनिस्ट अक्षय एस. शेट्टी बताते हैं कि अगर आप गलत तरीके से डाइटिंग कर रहे हैं तो भले ही आपको लग सकता है कि आपका वजन कम हो रहा है, लेकिन वास्तव यह वेट लॉस नहीं बल्कि मसल लॉस है। इस तरह वजन कम करना सिर्फ आपकी सेहत को नुकसान पहुंचाता है।

अब सवाल यह है कि आपको डाइटिंग के दौरान किन बातों का ध्यान रखना चाहिए कि जिससे कि आपका मसल लॉस और स्ट्रेंथ लॉस ना हो? चिंता न करें, इस लेख में हम आपको डाइटिंग के दौरान मसल लॉस और स्ट्रेंथ लॉस बचने के उपाय (Tips To Prevent Muscle Strength Loss While Dieting In Hindi) बता रहे हैं।

डाइटिंग के दौरान मसल लॉस और स्ट्रेंथ लॉस बचने के उपाय (How To Prevent Muscle Strength Loss While Dieting In Hindi)

1. कैलोरी का सेवन बहुत कम न करें

डाइटिंग के दौरान हम से ज्यादातर लोग जो सबसे आम गलती करते हैं वह है बहुत कम कैलोरी का सेवन करना। हम शुरुआत से ही बहुत कम कैलोरी वाला आहार लेना शुरू कर देते हैं। लेकिन ऐसा करना सही नहीं है। आपको अपने नियमित कैलोरी के सेवन से बहुत ज्यादा कम कैलोरी का एक साथ कम सेवन करना शुरू नहीं करना चाहिए। आदर्श रूप से आपको सिर्फ अपनी नियमित कैलोरी से 300-500 कैलोरी कम वाला आहार लेना चाहिए। साप्ताहिक आधार पर शरीर के कुल वजन का 0.5-1% कम करना बेहतर होता है। अगर आपके शरीर में फैट की मात्रा ज्यादा है तो आप अपनी कैलोरी का सेवन थोड़ा ज्यादा कम कर सकते हैं। लेकिन अगर आप पतले हैं तो कोशिश करें कि आप धीरे-धीरे फैट या वेट लॉस करें।

how to prevent muscle loss while dieting

2. प्रोटीन का पर्याप्त सेवन

हम सभी जानते हैं संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए प्रोटीन बहुत जरूरी है। मांसपेशियों और हड्डियों को मजबूत बनाने में भी प्रोटीन अहम भूमिका निभाता है। अगर आप डाइटिंग करते हैं तो आपको प्रोटीन का पर्याप्त सेवन जरूर करना चाहिए। एक्सपर्ट सुझाव देते हैं कि अपनी मांसपेशियों को बनाए रखने के लिए अपने शरीर के वजन के प्रति किलो 1.6 से 2 ग्राम प्रोटीन का सेवन जरूर करना चाहिए।  डाइटिंग के दौरान जब आप कैलोरी का कम सेवन करते हैं तो कैलोरी की कमी मांसपेशियों के प्रोटीन संश्लेषण को कम करती है, जिससे मांसपेशियों के प्रोटीन के टूटने की दर बढ़ती है। इसके परिणामस्वरूप शरीर में प्रोटीन संतुलन बिगड़ता है जिससे मसल लॉस होता है।

इसे भी पढें: वजन घटाना चाहता हैं तो बदलें खानपान की आदत, इन 8 अनहेल्दी चीजों के जगह खाएं ये हेल्दी चीजें

3. रेजिस्टेंस ट्रेनिंग करें

एक हाई प्रोटीन डाइट आपकी मसल बिल्डिंग या मांसपेशियों को बनाए रखने में सिर्फ तभी मददगार है जब आप रेजिस्टेंस ट्रेनिंग करते हैं। अगर आप डाइटिंग के दौरान हाई प्रोटीन डाइट के साथ रेजिस्टेंस ट्रेनिंग नहीं करते हैं तो इससे मसल लॉस का खतरा बढ़ जाता है।  रेजिस्टेंस ट्रेनिंग के कई लाभ हैं और यह डाइटिंग के दौरान आपकी मांसपेशियों को बनाए रखने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक है।

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Aksshaye S Shetty (@aksshayesshetty)

4. एक्सरसाइज के दौरान धीरे-धीरे वजन बढ़ाते रहें

रेजिस्टेंस ट्रेनिंग से जुड़ा एक अन्य महत्वपूर्ण कारक एक्सरसाइज के दौरान धीरे-धीरे वजन बढ़ाना। सुनिश्चित करें कि जब अलग-अलग एक्सरसाइज करें और आपके द्वारा उठाए जाने वाले वजन की बात आए तो आप वजन बढ़ाना सुनिश्चित करें और दिन-प्रतिदिन इसके साथ बेहतर हों। आप भारी वजन ज्यादा देर तक उठाकर भी रख सकते हैं, या फिर रेप्स के दौरान वजन बढ़ाना सुनिश्चित कर सकते हैं।

इसे भी पढें: क्या दूध पीने से वजन बढ़ता है? जानें एक्सपर्ट की राय

5. बहुत ज्यादा कार्डियो करने से बचें

अगर आप सिर्फ कार्डियो कर रहे हैं तो यह सिर्फ आपकी मांसपेशियों को नुकसान पहुंचाएगा।  जैसा कि हम पहले भी पढ़ चुके हैं डाइटिंग करते समय मांसपेशियों के निर्माण के लिए रेजिस्टेंस ट्रेनिंग बहुत महत्वपूर्ण है। कार्डियो और रेजिस्टेंस ट्रेनिंग का कॉम्बिनेशन फायदेमंद होता है। कार्डियो को ज़्यादा न करें क्योंकि इसका ज्यादा अभ्यास आपको डाइटिंग के पूर्ण लाभ लेने से रोकेगा। अपने कार्डियो और रेजिस्टेंस ट्रेनिंग के बीच उचित संतुलन बनाने का प्रयास करें।

All Image Source: Freepik.com

(With Inputs: Aksshaye S Shetty - Nutritionist, Certified Fitness Consultant And Trainer, Mumbai)

Disclaimer