नवरात्रि व्रत में कैसा होना चाहिए आपका आहार? डायटीशियन स्वाती बाथवाल से जानें क्या खाएं, क्या नहीं

नवरात्रि उपवास में हमें सात्विक आहार का सेवन करना चाहिए। डायटीशियन से जानते हैं व्रत के डाइट के बारे में विस्तर से -

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Oct 07, 2021
नवरात्रि व्रत में कैसा होना चाहिए आपका आहार? डायटीशियन स्वाती बाथवाल से जानें क्या खाएं, क्या नहीं

नवरात्रि उत्सव शुरू होते ही त्यौहारों का शिलशिला शुरू हो जाता है। यह एक ऐसा समय है, जहां हर तरह की खुशियां मनाने का मौका मिलता है। नवरात्रि का नाम सुनते ही हमें चारों ओर डांस, गाने, तरह-तरह के डिशेज और पॉजिटिव उर्जा जैसा महसूस होने लगता है। इस उत्सव के साथ-साथ हमें मां दुर्गा का आशीर्वाद मिलता है और हम आगे एक बेहतर भविष्य की कामना करते हैं। यह एक ऐसा उत्सव है, जो दिल और दिमाग को शांत करके मन में उल्लास लाता है। हम में से कई लोग नवरात्रों में व्रत रखते हैं। लोगों की यह मान्यता है कि व्रत रखने से मां दुर्गा हमें आशीर्वाद देती हैं और हमारी मनोकामना पूर्ण करती हैं। इसका वैज्ञानिक महत्व भी है। अगर हम इस महनी में सही तरीके से उपवास करते हैं, तो हमारा स्वास्थ्य बेहतर हो सकता है।

इस महीने में हमें सात्विक आहार का सेवन (navratri fasting 2021) करना चाहिए, तो स्वास्थ्य के लिए लाभकारी हो सकते हैं। वहीं, आयुर्वेद में सदियों से सात्विक भोजन को बढ़ावा दिया जा रहा है। दरअसल, शरद शरद ऋतु से सर्दियों तक का संक्रमण काल होता है। शरद नवरात्रि (अक्टूबर-नवंबर में मनाया जाने वाला दुर्गा पूजा) के समय मौसम में कई तरह के उतार-चढ़ाव देखने को मिलते हैं, जिसकी वजह से हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है और पाचन तंत्र खराब होने की संभावना होती है। इसलिए इस व्रत में सात्विक भोजन करने से हमारा शरीर स्वस्थ रह सकता है। साथ ही इम्यूनिटी पर विपरीत असर (How can I stay healthy during Navratri fast) नहीं पड़ता है। आइए डायटीशियन स्वाती बाथवाल से जानते हैं कि शरद नवरात्रि में कैसा होना चाहिए हमारा आहार और किन चीजों से करें परहेज?

नवरात्रि व्रत में कैसा होना चाहिए डाइट?

घर पर बना चिप्स है बेहतर ऑप्शन

हम में से कई लोग व्रत के दौरान बाहर से फलाहार चिप्स या फिर भोजन खरीद कर खाते हैं। लेकिन यह चिप्स या भोजन किस तरह के तेलों से तैयार किया जाता है, इससे हम बिल्कुल अनजान होते हैं। डायटीशियन स्वाती बाथवाल बताती हैं कि बाहर के फलाहार वरस्पति तेलों से तैयार किया जा सकता है, जो हमारी आंतों की दीवारों के लिए विषाक्त (toxic) हो सकते हैं। ऐसे में अगर आप उपवास के दौरान इन चिप्स या फिर भोजन का सेवन करते हैं, तो आपको एसिडिटी की शिकायत हो सकती है। इसलिए बाहर के पैकेड के चिप्स से बेहतर है आप घर पर आलू के चिप्स या फिर बेक्ड आलू का सेवन करें। यह आपके लिए बेहतर ऑप्शन हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें - Navratri Special 2021: नवरात्रि में पहली बार रख रहे हैं 9 दिनों का व्रत, तो इन बातों का रखें ध्यान

खाएं उबले आलू

उबले आलू में नैचुरल अल्काइन (alkaline) मौजूद होता है, जो आंतों की दीवारों के लिए काफी अच्छा माना जाता है। साथ ही यह आंतों को खनित तत्व प्रदान करता है, जिससे हमारी इम्यूनिटी बूस्ट हो सकती है। वहीं, उबले आलू में जीआई वैल्यू (Glycemic index) कम होती है। ऐसे में जब आप उबले आलू खाते हैं, तो इससे आपका शुगर नहीं बढ़ता है और भूख भी कम लगती है। हालांकि, अगर आप इसे फ्राई करके खाते हैं, तो इसमें जीआई वैल्यू की संचरना बदल जाती है, जो आपके भूख को बढ़ाने के साथ-साथ ब्लड शुगर को भी बढ़ा सकता है। जिससे आपका वजन बढ़ सकता है। इसलिए व्रत में उबले आलू का सेवन करना चाहिए।

कच्चा केला

कच्चा केला नवरात्र में खाने से स्वास्थ्य को लाभ हो सकते हैं। कच्चे केलों को प्लांटैन ग्रीन (Plantain Green) के नाम से भी जाना जाता है। महिलाओं को इसे अपने डाइट में शामिल करना चाहिए। यह आयरन, जिंक और फॉस्फोरस और प्रीबायोटिक्स ( prebiotics) से भरपूर होता है, जो हमारी आंत को मजबूत करने में मददगार साबित हो सकता है। कच्चे केले का इस्तेमाल आप चीला या चपाती बनाने में या फिर कच्चे केले के आटे का इस्तेमाल कर सकते हैं। इतना ही नहीं कच्चे केलों से कोफ्टा भी तैयार किया जा सकता है। 

मीठे में क्या लें?

अगर आप व्रत के दौरान कुछ मीठे की तलाश कर रहे हैं, तो इस दौरान आइक्रीम या फिर तली हुई मिठाइयों के बजाय नारियल की बर्फी, अखरोट के गोले (घर पर बने मेवे के लड्डू) और राजगिरा के लड्डू तैयार करके खा सकते हैं। आप राजगिरा या अमरनाथ को दलिया के रूप में व्रत के दौरान नाश्ते में भी ले सकते हैं। इसे दूध और गुड़ के साथ मिलाकर तैयार किया जाता है। यह सात्त्विक प्रकृति का होता है, जिसे आप व्रत के दौरान खा सकते हैं। वहीं, कुछ लोग व्रत के दौरान कढ़ी बनाने में भी अमरनाथ के आटे का इस्तेमाल करते हैं, यह आपके स्वास्थ्य के लिए हेल्दी भी होता है। 

इसे भी पढ़ें - Navratri Special 2021: इन 5 चीजों के सेवन से व्रत को बनाएं हेल्दी, नहीं लगेगी भूख

सैमक या बार्नयार्ड मिलेट (Samac or Barnyard millet)

यह चावल का एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है। सैमक आयरन, विटामिन बी, जिंक और प्रोटीन से भरपूर होता है। इसके सेवन से उपवास के दौरान आपको काफी एनर्जी मिल सकती है। इसके अलावा आप अपने डाइट में सिंघाड़े का आटा भी शामिल कर सकते हैं।

शरीर को हाइट्रेट रखना भी है जरूरी

व्रत के दौरान नमक का सेवन नहीं करते हैं, इस वजह से हमारे  शरीर में नमक की मात्रा कम हो जाती है। जिसके कारण लो बीपी की संभावना हो सकती है। इस स्थिति शरीर को हाइड्रेट रखना बहुत ही जरूरी होता है। शरीर को हाइड्रेट रखने के लिए आप अपने डाइट में चिया सीड्स वाटर, शिकंजी, नारियल पानी, ताजे फलों और सब्जियों का जूस, छाछ इत्यादि को शामिल कर सकते हैं। इसके साथ ही पर्याप्त नींद लें और हर 1 घंटे के बाद 2 गिलास पानी का सेवन करें। 

व्रत में किन चीजों से करें परहेज?

व्रत के दौरान कुछ चीजों से परहेज किया जाता है। जैसे- गेहूं का आटा, चावल, दाल इत्यादि अनाज का सेवन नहीं करना चाहिए। वहीं, सामान्य नमक और काला नमक के बजाय सेंधा नमक का सेवन करें। इसके अलावा व्रत में हल्दी, हींग, राई, मेथी दाना, धनिया पाउडर जैसे मसालों से भी परहेज करना चाहिए। शराब, मांसाहारी भोजन, अंडे और धूम्रपान से भी उपवास के दौरान दूरी बनानी चाहिए।

व्रत में शरीर को डिटॉक्स कैसे करें?

डायटीशियन स्वाती बाथवाल बताती हैं कि शरीर के दौरान शरीर को डिटॉक्स करना बहुत ही जरूरी होता है। शरीर को डिटॉक्स करने के लिए आप सुबह-सुबह 100 मिलीलीटर पानी में 1 चम्मच त्रिफला चूर्ण का सेवन करें। इसके अलावा आप 1/2 चम्मच त्रिफला चूर्ण थोड़ा सा घी मिलाकर भी सेवन कर सकते हैं, इससे आपकी बॉडी डिटॉक्सीफाई हो सकती है।

ध्यान रखें कि उपवास के दौरान तनाव न लें। इस दौरान आपको गहरी और अच्छी नींद की जरूरत होती है। वहीं, आप उपवास में एक्सरसाइज कम कर सकते हैं, इससे आपको कोई परेशानी नहीं होगी। याद रखें कि व्रत के दौरान उदास न रहें। उपवास के 2 दिन बाद आपका शरीर एंडोर्फिन नामक हैप्पी हार्मोन रिलीज करता है। इसलिए अपने उपवास में खुश रहें।

Disclaimer