अगर आपके बच्चे का स्वभाव है विद्रोही या गुस्से और चिड़चिड़ेपन की है आदत, तो इन तरीकों से रखें उसे शांत

अगर आपका बच्चा बात-बात पर विद्रोही हो जाता है और आप की बातें नहीं मानता या अक्सर गुस्से में चिड़चिड़ा रहता है, तो इन तरीकों से आप उसे समझा सकते हैं।

 
Monika Agarwal
परवरिश के तरीकेWritten by: Monika AgarwalPublished at: Oct 15, 2021
अगर आपके बच्चे का स्वभाव है विद्रोही या गुस्से और चिड़चिड़ेपन की है आदत, तो इन तरीकों से रखें उसे शांत

एक बच्चे को बड़ा करना बहुत मुश्किल काम है। शुरू में आपको उन्हें पूरी-पूरी रात जाग कर दूध पिलाना पड़ता है और उनकी देखरेख करनी पड़ती है। लेकिन जैसे ही वह बड़े होते जाते हैं उनमें समझ आने लगती है और हम समझने लगते हैं कि अब हमें उनकी परवरिश को लेकर कोई चिंता नहीं रही और हमारा काम एक तरह से पूरा हो गया है। लेकिन बच्चा जैसे ही अपनी युवावस्था में पहुंचता है वैसे ही उसके शरीर में बहुत सारे बदलाव आते हैं। यह बदलाव शारीरिक होने के साथ साथ मानसिक भी होते हैं। अब आपका बच्चा आपसे असहमति जतानी शुरू कर देता है। आपकी सभी बातें उसे बुरी और चुभने वाली लगने लगती हैं। वह आपके खिलाफ एक विद्रोही किस्म का बन जाता है। लेकिन अचानक से ऐसा होते देख आपको भी धक्का लग सकता है। आप यह आश्चर्य कर सकते हैं कि ऐसा किन कारणों की वजह से हुआ। तो आइए कुछ कारणों के बारे में जानते हैं।

InsideRebellionChild2

Inside image: Quickanddirtytips.com

आपके सब्र की परीक्षा लेना

बच्चों को अपने मां बाप पर एक्सपेरिमेंट करना बहुत पसंद होता है। वह यह जानना चाहते हैं कि अगर वह कभी गुस्सा करते हैं या अपने मां बाप से असहमति जताते हैं तो उनके माता पिता कितने शांत रहते हैं या इन को उन्हीं की भाषा में जवाब देते हैं। तो यह भी उनके चिड़चिड़े और विद्रोही स्वभाव का एक कारण हो सकता है।

उनको रोक टोक नहीं, स्वतंत्रता है पसंद

जब आपके बच्चे बड़े होते हैं तो उन्हें अपने हर काम में स्वतंत्रता चाहिए होती है। वह ऐसा मानते हैं कि उनकी जिंदगी से जुड़े निर्णय वह खुद ले सकते हैं। जैसे ही आप उन पर सख्ती बरतती हैं या फिर उनको किसी बात से मना कर देती हैं तो केवल यही नियंत्रण उन्हें पसंद नहीं आता है। वह इस किस्म का व्यवहार करना शुरू कर देते हैं।

इसे भी पढ़ें : एक्ट्रेस नीना गुप्ता से जानें सिंगल मॉम के लिए पेरेंटिंग टिप्स

अधिक अटेंशन पाने की चाहत रखना

बच्चे के लिए अटेंशन की ओर लोभित होना काफी आम होता है। जब आप अपने कामों में व्यस्त रहते हैं या फिर उनकी तरफ ज्यादा ध्यान नहीं दे पाते हैं तो उनकी नजरों में आपके लिए वह इज्जत नहीं रह जाती है। वह आपको गुस्से भरी निगाहों से देखते है। इसलिए अपने बच्चे को पूर्ण अटेंशन दें।

वह अपनी पहचान ढूंढ रहे होते हैं

जैसे जैसे बच्चे बड़े होते हैं उन्हें अपने भविष्य की चिंता होने लगती है और वह अक्सर आपसे इस प्रकार के प्रश्न पूछ सकते हैं कि मैं क्या करूं? मैं किस करियर को चुनूं और मुझे जिंदगी में क्या चाहिए इत्यादि। अगर आप इन सब सवालों के जवाब देने में असमर्थ हो जाते हैं तो वह चिड़चिड़े हो जाते हैं। गुस्से में आ कर आप पर सभी चीजों का दोष लगा सकते हैं।

InsideRebellionChild

Inside image 2: Forthefamily.com

इस स्थिति से बच्चे को बाहर निकालने के लिए क्या करें?

हर बात पर न लड़ें

आपको यह समझना चाहिए कि उनसे किस बात पर बहस करनी चाहिए और किस पर नहीं। अगर वह अपनी मर्जी के कपड़े पहनना चाहते हैं तो इसमें बहस न करें और कई बार उन्हें भी उनके मन की करने दें।

इसे भी पढ़ें : बच्चों की इन 9 समस्याओं को दूर करने में मददगार है आर्ट थेरेपी, एक्सपर्ट से जानें इसके फायदे और जरूरी बातें

उनकी अपेक्षाओं पर सीमा लगाएं

बच्चे को घर के नियमों के बारे में समझा दें और उन्हें एक सीमा दें ताकि वह उस सीमा को लांघ कर कुछ अधिक आशा न लगाएं। उनके सोने खाने और खेलने के समय की सीमा बना दें।

अपने आप को उनकी जगह रख कर देखें

आपको एक बार अपने आप को बच्चे की जगह पर रख कर सोचना चाहिए कि क्या यह निर्णय सच में होना चाहिए या यह फैसला बच्चे के हक में देना चाहिए।

अगर आप उन्हें प्यार से कोई बात समझाएं और घर में नियम सेट करेंगे। वह समय रहते ही इन सब बातों को समझना शुरू कर देंगे।

Mian image: Pura Vida Moms 

Disclaimer