सफर में बच्चों के उल्टी या जी मिचलाने से हैं परेशान तो, इसे दूर करने के लिए अपनाएं ये 5 टिप्स

सफर के दौरान अक्सर लोगों को जी मिचलाने और उल्टी जैसी समस्या होने लगती है। ऐसे में बच्चों को ये समस्या होने पर आप इन टिप्स की मदद ले सकते हैं।  

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Jan 26, 2022Updated at: Jan 26, 2022
सफर में बच्चों के उल्टी या जी मिचलाने से हैं परेशान तो, इसे दूर करने के लिए अपनाएं ये 5 टिप्स

आपने देखा होगा कई बार जब हम सफर में होते हैं तो, थोड़ी ही देर बाद हमारा जी मिचलाने लगता है। दरअसल, इसे मोशन सिकनेस कहते हैं। ये किसी भी उम्र में और किसी को भी हो सकता है। दरअसल, मोशन सिकनेस भीतरी कान की एक बहुत ही सामान्य गड़बड़ी है। ये सफर के दौरान गाड़ी की गति के कारण महसूस होने वाली समस्या है। इसके कारण पेट में हलचल होती है और जी मिचलाने लगता है। ऐसे में बच्चों को जब मॉशन सिकनेस होती है तो, उन्हें ट्रेवलिंग के दौरान वोमिटिंग होने लगती है। इस दौरान बच्चों की इस परेशानी से सबसे ज्यादा माता-पिता परेशान होते हैं। तो, आज हम आपको ऐसे कुछ टिप्स बताते हैं जो कि ट्रेवलिंग के दौरान आपको वोमिटिंग से बचा सकते हैं। 

Inside1travelsickness

1. पानी या कार्बोनेटेड ड्रिंक पिलाएं

सफर के दौरान जी मिचलाने या उल्टी होने पर पानी या कार्बोनेटेड ड्रिंक पीना बेहद ही फायदेमंद है। ये मतली और उल्टी को रोक सकता है। इसके अलावा ये शरीर में हाइड्रेशन बहाल करने में भी मदद करते हैं। साथ ही शरीर में इलेक्ट्रोलाइट बैलेंस करने में भी मदद करते हैं। इसलिए जब आपके बच्चे को उल्टी और मतली हो तो उन्हें ये ड्रिंक पीने को कहें। साथ ही उन्हें बताएं कि ये तरल पदार्थ धीरे-धीरे पिएं। इस दौरान ध्यान रहे कि सबसे पहले उन्हें पानी पीने को कहें। फिर कार्बोनेडेट ड्रिंक पीने को कहें। 

2. हींग गोली खिलाएं

हींग गोली पेट को आराम देने के साथ जी मिचलाने को भी शांत करता है। ऐसे में आपको सफर के दौरान अपने साथ हींग की कुछ गोलियों को साथ रखना चाहिए। ताकि जब आपके बच्चों को मतली और उल्टी महसूस हो तो उन्हें ये गोलियां खाने को दें। हींग पाचन तंत्र के लिए बहुत फायदेमंद है और ये पेट में बनने वाले गैस को शांत करता है। 

इसे भी पढ़ें : बच्चों के पूरे दांत कब निकलते हैं? जानें दांत निकलने के दौरान दर्द से छुटकारा दिलाने के उपाय और सावधानियां

3. अदरक खिलाएं

मतली आने पर बच्चों को एक कप गर्म अदरक की चाय पिलाएं या फिर उनको ताजा अदरक नमक में लगा कर चबाने दें। दरअसल, उल्टी को रोकने और इलाज के लिए अदरक सुरक्षित और प्रभावी है। दरअसल, अदरक में एंटी एसिडिक गुण होता है जो कि एसिडिटी को कम करता है। इसके अलावा ये पेट के अस्तर को भी शांत करता है और मतली को कम करता है। इस तरह ये अदरक सफर के दौरान के मॉशन सिकनेस को कम कर सकता है।

4. सौंफ चबाने को दें

माना जाता है कि सौंफ के बीज पाचन तंत्र को शांत करने में मदद करते हैं। लेकिन उल्टी के लिए सौंफ बहुत ही असरदार तरीके से काम करता है। ऐसे में सफर के दौरान अपने पास सौंफ जरूर रखें। फिर जैसे ही मतली या उल्टी महसूस होने लगे तो इसे खाएं और चबाएं। ये पेट को शांत करने के साथ मूड फ्रेशनर की तरह काम करता है। 

इसे भी पढ़ें : बच्चों के विकास और किशोरावस्था पर कैसे पड़ता है मेलाटोनिन का असर? डॉक्टर से जानें जरूरी बातें

5. लौंग या इलायची खिलाएं

मोशन सिकनेस के कारण होने वाली मतली और उल्टी के लिए लौंग और इलायची एक गजब का उपचार है। इसमें यूजेनॉल भी होता है,  जो कि एंटीबैक्टीरियल की तरह काम करता है। आप रास्ते में मतली महसूस होने के दौरान अपने पास लौंग और इलायची रखें और अपने बच्चों को खिलाएं। या फिर सफर की शुरुआत में ही उन्हें इलायची चबाने को दे दें। 

इसके अलावा अपने बच्चे को शुरुआत से ही खिड़की से आने वाली हवा के पास बिठाएं। इससे उन्हें सफर के दौरान सिकनेस कम होगी। साथ ही कोशिश करें कि रास्ते में बात करते रहें या गाना सुनते हुए जाएं। अगर आपका बच्चा ज्यादा सिकनेस महसूस करता है तो, उसे ट्रिप के दौरान रूक-रूक कर ले जाएं। कोशिश करें कि हर कुछ किलोमीटर पर गाड़ी रोकें और बाहर निकल कर ठंडी हवा खाएं। इससे मूड सही रहने के साथ शरीर को भी आराम मिलता है। 

all images credit: freepik

Disclaimer