Doctor Verified

क्या जोड़ों में दर्द और सूजन हो सकता है बढ़ा हुआ यूरिक एसिड संकेत? डॉक्टर से जानें

Uric Acid: कभी-कभार हमारे जोड़ों में दर्द होने लगता है। यह यूरिक एसिड का एक संकेत हो सकता है। इसलिए इस लक्षण को बिल्कुल नजरअंदाज न करें।

Monika Agarwal
अन्य़ बीमारियांWritten by: Monika AgarwalPublished at: Sep 15, 2022Updated at: Sep 15, 2022
क्या जोड़ों में दर्द और सूजन हो सकता है बढ़ा हुआ यूरिक एसिड संकेत? डॉक्टर से जानें

यूरिक एसिड हमारे मेटाबॉलिज्म फंक्शन का एक भाग है। बदलते खानपान और दवाइयों का ज्यादा उपयोग करने से शरीर में यूरिक एसिड का लेवल बढ़ जाता है। पारस हॉस्पिटल चीफ ऑफ यूरोलॉजी डॉक्टर अनुराग खैतान बताते हैं कि ब्लड में बढ़े हुए यूरिक एसिड को हाइपरयूरिसीमिया कहा जाता है। जब ब्लड में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है, तो जोड़ों में दर्द होने लगता है। ऐसे में अगर आपको जोड़ों में दर्द रहता है, तो आप एक बार यूरिक एसिड की जांच करवा सकते हैं। यूरिक एसिड के स्तर का पता लगाने के लिए डायग्नोस्टिक टेस्ट किया जा सकता है।

दरअसल, जब हम अधिक मात्रा में मछली, कॉफी, चॉकलेट और मांस का सेवन करते हैं, तो शरीर में यूरिक एसिड बढ़ सकता है। किडनी रोग वाले रोगियों में भी यूरिक एसिड अधिक होता है। यह कहना गलत नहीं होगा कि यूरिक एसिड किडनी को खराब करने के लिए जिम्मेदार हो सकता है। इतना ही नहीं यूरिक एसिड जोड़ों में दर्द का कारण भी बन सकता है। यूरिक एसिड बढ़ने पर जोड़ों में सूजन भी आ सकती है। जोड़ों के दर्द और सूजन को गठिया के रूप में जाना जाता है। आइए, जानते हैं यूरिक एसिड बढ़ने पर जोड़ों में दर्द और सूजन क्यों होता है?

यूरिक एसिड बढ़ने पर कौन सी बीमारी हो सकती है?

यूरिक एसिड बढ़ने पर यूरिक एसिड स्टोन की समस्या हो सकती है। यूरिक एसिड स्टोन का पता लगाने के लिए डॉक्टर अल्ट्रासाउंड या सीटी स्कैन करने वाली सलाह दे सकते हैं। इसे आम भाषा में पथरी कहा जाता है। अगर इसका साइज कम है, तो यह मूत्र मार्ग से बाहर आ सकती है। लेकिन इसका साइज बड़ा होने पर यह हमारे पेशाब करने के रास्ते को बंद कर देती है। जिससे हमारे गुर्दे खराब हो सकते हैं। इसलिए कहा जा सकता है यूरिक एसिड पथरी और किडनी रोग का कारण बन सकता है।

इसे भी पढ़ें- Exercises for Varicose Veins: वैरिकोज वेन्स (नीली नसें) में कौन सी एक्सरसाइज करनी चाहिए?

यूरिक एसिड बढ़ने के जोखिम कारक 

  • यूरिक एसिड का लेवल बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं- जैसे अस्वस्थ खानपान या फिर दवाइयों।
  • लिवर की पुरानी बीमारी के कारण भी शरीर में यूरिक एसिड बढ़ सकता है।
  • अगर आपको डायबटीज की बीमारी या फिर हाई ब्लड प्रेशर की बीमारी है, तो आपको यूरिक एसिड के लेवल का टेस्ट करा लेना चाहिए।
  • कुछ एंजाइम की कमी से भी आपको हाइपरयू रिसीमिया हो सकता है। यूरिक एसिड के स्तर की जांच ब्लड टेस्ट के द्वारा की जाती है।

यूरिक एसिड का उपचार

  • जब शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा ज्यादा हो जाती है, तो मांस, मछली, चॉकलेट, कॉफी आदि का सेवन बिल्कुल बंद कर देना चाहिए। 
  • यूरिक एसिड को कंट्रोल में रखने के लिए वजन को नियंत्रण में रखना बहुत जरूरी होता है।
  • डायबटीज के स्तर को नियंत्रण में रखना जरूरी होता है। इसके लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।  
  • अपनी डाइट में साबुत दालें, गोभी, पालक आदि शामिल ना करें। 
  • विटामिन सी जैसे आंवला, नींबू पानी मौसमी का जूस पीना चाहिए।
  • यूरिक एसिड एक प्रकार का न्यूलिक एसिड होता है, जो रेड ब्लड सेल्स और व्हाइट ब्लड सेल्स के टूटने से बनता है। 
  • यूरिक एसिड की वजह से जोड़ो में दर्द और सूजन हो सकता है।

यूरिक एसिड लेवल धीरे-धीरे करके कब बढ़ जाता है, इसका पता नहीं चलता है। लेकिन जब यह बढ़ने लगता है, तब जोड़ों में दर्द और किडनी से जुड़ी कई बीमारियां देखने को मिल सकती हैं। इसलिए इसके संकेतों पर हमेशा नजर रखनी चाहिए और जब भी कोई संकेत दिखे, तो तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

Disclaimer