सांस और त्वचा रोगों सहित कई बीमारियों में फायदेमंद होता है घोड़ी का दूध, न्यूट्रीशनिस्ट से जानें इसके 7 फायदे

गाय, भैंस व बकरी से ज्यादा फायदेमंद होता है घोड़ी का दूध। इसे पीने से कई बीमारियां ठीक होती हैं।

Meena Prajapati
Written by: Meena PrajapatiUpdated at: Mar 22, 2021 18:31 IST
सांस और त्वचा रोगों सहित कई बीमारियों में फायदेमंद होता है घोड़ी का दूध, न्यूट्रीशनिस्ट से जानें इसके 7 फायदे

कभी आपने सोचा है कि हिंदुस्तान में  गाय, भैंस या बकरी का ही दूध ज्यादातर क्यों पिया जाता है। इसके पीछे के कई कारण हो सकते हैं। एक कारण मार्केटिंग भी है। दरअसल गाय, भैंस या बकरी के दूध की जितनी मार्केटिंग हुई उतनी घोड़ी, ऊंट या किसी अन्य जानवर की नहीं हुई। दूसरी तरफ जब आप घोड़ी के दूध के बारे में इंटरनेट पर जानकारी ढूढ़ेंगे तो भारत की वेबसाइटों पर इसके बारे में कम ही जानकारी मिलेगी। लेकिन विदेशों में घोड़ी के दूध पर खूब रिसर्च हो रहे हैं। आज यहां आपको दिल्ली के अपोलो अस्पताल में न्यूट्रीशनिस्ट पुनीता श्रीवास्तव बता रही हैं कि घोड़ी का दूध स्वास्थय के लिए कितना फायदेमंद होता है। डॉ. पुनीता ने बताया कि महानगरों में लोगों ने घोड़ी का दूध इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। लेकिन इसका इस्तेमाल वही लोग कर रहे हैं जिन्हें इनके फायदे के बारे में मालूम है। डॉ. पुनीता ने घोड़ी के दूध कई फायदे बताए। जिनके बारे में हम विस्तार से इस लेख में जानेंगे।

inside3_horsemilk

घोड़ी के दूध में मौजूद पोषक तत्त्व (Nutrients in mare milk)

  • मिनरल
  • विटामिन ए
  • विटामिन बी
  • विटामिन सी
  • विटामिन डी
  • कैल्शियम
  • फोस्फोरस
  • आयरन 
  • फैट कम होता है

इसे भी पढ़ें : आए दिन बीमार होते हैं तो गर्मी में करें दूध का सेवन, पिएं मसालों और हर्ब्स वाली 5 हेल्दी मिल्क ड्रिंक

घोड़ी के दूध के फायदे (Benefits of mare (horse) milk)

1. त्वचा के लिए फायदेमंद

न्यूट्रीशनिस्ट पुनीता का कहना है कि बहुत से लोगों को घोड़ी के दूध के फायदे के बारे में मालूम नहीं है, लेकिन घोड़ी का दूध त्वचा संबंधी रोगों को दूर करने में बहुत कारगर है। न्यूट्रीशनिस्ट ने बताया कि अब गर्मियां आने वाली हैं, ऐसे में दाद, खाज, खुजली, दानें, मुहांसे, घमोरियां जैसी परेशानियां लोगों को झेलनी पड़ेंगी। इन समस्याओं से बचने के लिए रोज सुबह शाम घोड़ी का दूध पिया जा सकता है। इसके सेवन से यह रोग खत्म होने लगेंगे। न्यूट्रीशनिस्ट ने बताया कि इसे लगाया भी जा सकता है और पिया जा सकता है।

2. वजन कम करने में मददगार 

न्यूट्रीशनिस्ट पुनीता का कहना है कि घोड़ी के दूध में फोली अनसैच्यूरेटिड फैटी एसिड होते हैं यह जिस फूड में होता है वह वजन को कम करता है। इस तरह घोड़े के दूध का सुबह शाम सेवन वजन कम करने में मदद करता है।

inside2_horsemilk

3. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए

जब शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत नहीं होती है तब शरीर कई बीमारियों का शिकार बनता है। ऐसे में घोड़ी का दूध पीने से इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाया जा सकता है। इसके दूध से पाचन संबंधी परेशानियां भी दूर होती हैं।

4. खून की कमी को पूरा करे

घोड़ी के दूध में आयरन की मात्रा भरपूर होती है जिससे शरीर में रक्त की कमी पूरी होती है। हिमोग्लोबिन बढ़ता है। इसलिए घोड़ी का दूध अन्य जानवरों के मुकाबले में अधिक फायदेमंद है। 

इसे भी पढ़ें : क्या आपको बिना उबाले दूध पीना चाहिए? जानें कच्चा दूध पीने के 5 फायदे, 4 नुकसान और जरूरी सावधानियां

inside4_horsemilk

5.आसानी से पचता है दूध

कुछ लोग जिन्हें गाय, भैंस या बकरी का दूध पचता नहीं है वे घोड़ी का दूध पी सकते हैं। घोड़ी के दूध में लैक्टोफेरिन कंटेंट होता है जिनके कारण यह दूध पचने में आसान होता है। लैक्टोफेरिन एक एंटी-इनफ्लेमेंटरी प्रोटीन है, जो मां के दूध में पाया जाता है।  यह दूध एंटी-फंगल भी होता है। इसे पीने से एलर्जी जैसी समस्याएं भी खत्म होती हैं। 

6. दिल के लिए फायदेमंद

घोड़ी के दूध इतने पोषक तत्त्व होते हैं कि यह दिल के मरीजों के लिए भी फायदेमंद साबित होता है। इसके दूध में कैलोरी कम होती है, वसा कम होती है जिस वजह से यह दिल के लिए फायदेमंद होता है। गाय के दूध में घोड़ी के दूध के मुकाबले ज्यादा कैलोरी होती है। लो फैट होने की वजह से इसके दूध में पानी की मात्रा अधिक होती है। 

7. सांस संबंधी रोगों से दिलाए निजात

घोड़ी का दूध अस्थमा या अन्य सांस संबंधी रोगों से निजात दिलाता है। इसका सुबह शाम सेवन फायदेमंद है। बहुत बार न्यूट्रीशनिस्ट खूब मरीज को यह दूध प्रिस्क्राइब करते हैं।

गाय, भैंस व बकरी के दूध के मुकाबले घोड़ी का दूध ज्यादा फायदेमंद होता है। यह दिल से लेकर शरीर की कई बीमारियों को ठीक करता है।  अगर आपको इसके दूध के सेवन से कोई दिक्कत हो रही हो तो अपने डॉक्टर से सलाह ले लें।

Read more on Healthy Diet in Hindi 

Disclaimer