4 बजे के बाद खिलने वाले खास फूल ‘गुलब्बास’ (कृष्णकली) से सेहत को मिल सकते हैं ये 7 फायदे, जानें इनके बारे में

गुलब्बास का पौधा एक आयुर्वेदक औषधी है। इसके उपयोग से कई बीमारियां ठीक होती हैं। इसके प्रयोग के बारे में यहां बताया गया है।

Meena Prajapati
Written by: Meena PrajapatiUpdated at: Apr 13, 2021 17:47 IST
4 बजे के बाद खिलने वाले खास फूल ‘गुलब्बास’ (कृष्णकली) से सेहत को मिल सकते हैं ये 7 फायदे, जानें इनके बारे में

गुलब्बास के पौधे की खासियत यह है कि यह शाम चार बजे के बाद खिलता है। इसलिए इसे अंग्रेजी में फॉर ओ क्लॉक पौधा कहा जाता है। इसके फूल, लाल, पीले, बैंगनी और धब्बेदार रंग के होते हैं। यह फूल देखने में जितने सुंदर लगते हैं उतने ही स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हैं। इन फूलों का सेवन करने से कब्ज, फूंसी, मोच, डायबिटीज जैसी परेशानियां दूर होती हैं। इसका जड़ और बीज अधिक उपयोग में लाया जाता है। यह पौधा अक्सर घरों और बगीचों में लगाया जाता है। इस पौधे के संस्कृत में संध्याकाली, कृष्णकाली, हिंदी में गुलब्बास या गुलाबास और ऊर्दू में गुलब्बास कहा जाता है। आज के इस लेख में हम जानें कि गुलाबास या कृष्णकली का प्रयोग कैसे करना है। इसके प्रयोग से किन बीमारियों से बचा सकता है।

गुलब्बास के फायदे और प्रयोग (Benefits of gulabbas in hindi)

Inside2_gulabbasbenefits

फोड़े-फुंसी को करे ठीक

गुलब्बास को गुलाबास भी कहा जाता है। यह एक प्राचीन पौधा है। इस पौधे के बीज, पत्ते और फूल उपयोग में लाए जाते हैं। प्राचीन समय से फोड़े-फुंसी को ठीक करने के लिए गुलब्बास या कृष्णकली का प्रयोग किया जा रहा है। गर्मी के मौसम में अगर फोड़े हो गए हैं तो इसके पत्तों का प्रयोग किया जा सकता है। इसके पत्तों को पीसकर बांधने से फोड़े जल्दी पक जाते हैं, फिर ठीक हो जाते हैं।

यौन शक्ति को बढ़ाए

गुलब्बास का पौधा यौन शक्ति को बढाने में कारगर है। आजकल के बढ़ते तनाव और खराब होते लाइफस्टाइल के कारण सेक्स लाइफ पर सबसे ज्यादा असर पड़ता है। युवा उम्र में ही यह परेशानियां आजकल लोगों को देखने को मिल रही हैं। यौन रोगों से संबंधित कई बीमारियों गुलाबास फायदेमंद (Uses of gulabbas) है। इसमें गुलब्बास के कंद को काटकर सुखा लें और सूखने के बाद इसमें घी मिला दें। अब इसमें सूखे मेवे और चाशनी मिलाकर लड्डू बना लें। इन लड्डुओं का सेवन दूध के साथ कर सकते हैं। इसके उपयोग के लिए अधिक बेहतरी के लिए नजदीकी आयुर्वेद चिकित्सक से मिलें।

इसे भी पढ़ें : मुस्कदाना (कस्तूरी भिंडी) से सेहत को मिलने वाले 7 फायदे और प्रयोग करने का तरीका

Inside1_gulabbasbenefits

पेट की कब्ज भगाए

बिगड़ते लाइफस्टाइल की वजह से हमारे शरीर में बीमारियां बढ़ी हैं। संतुलित भोजन करने पर कब्ज जैसी परेशानियां कम होती हैं। आजकल लोगों के पास पोषक तत्त्वों से भरपूर खाना खाने का भी समय नहीं है। यही वजह है कि अपच, कब्ज जैसी परेशानियां होती हैं। गुलाबास का पौधा इस परेशानी को दूर करने में बहुत कारगर है। अगर आपको कब्ज बन रही है तो गुलाबास के पत्ते के रस को पेट पर लगा लें। उससे पेट की मालिश कर लें, इससे परेशानी में आराम मिलेगा।

खुजली से दिलाए राहत

गर्मी के मौसम में त्वचा संबंधी कई रोग हो  जाते हैं, जिनमें से खुजली भी एक है। इस खुजली से निजात दिलाने में गुलब्बास का पौधा कारगर है। इसके लिए आपको गुलब्बास के पौधों के पत्तों के रस का प्रयोग करना है। इस रस को खुजली वाली जगह पर लगाने से खुजली से निजात मिलती है। खुजली होने पर आपका मूड भी चिड़चिड़ा हो जाता है। इस चिड़चिड़ेपन से भी यह पौधा राहत दिलाएगा। क्योंकि जब खुलजी खत्म हो जाएगी तो आप राहत महसूस करेंगे।

Inside3_gulabbasbenefits

सूजन में उपयोगी

सूजन किसी भी वजह से हो सकती है। पर जब होती है तो कष्टकारी होती है। इस सूजन को खत्म करने में भी गुलब्बास का पौधा (Benefits of krishnakali) फायदा पहुंचाता है। सूजन को खत्म करने का यह घरेलू उपाय है। इसके लिए आपको गुलब्बास की जड़ को पीसकर सूजन वाली जगह पर लगाना है। इससे कुछ ही समय में आपको परेशानी से आराम मिल जाएगा।

इसे भी पढ़ें : खांसी से लेकर शारीरिक सूजन तक कई समस्याओं को ठीक करता है सत्यानाशी, जानें इस आयुर्वेदिक वनस्पति के 7 फायदे

डायबिटिज के घाव को सुखाए

डायबिटीज के घाव जल्दी नहीं भरते हैं। लेकिन कृष्णकली का पौधा यह कमाल कर सकता है। डायबिटीज का घाव सुखाने के लिए गुलब्बास के कंद को पीसकर सूजन वाली जगह पर लगाने पर फायदा मिलता है। ज्यादा जानकारी के लिए अपने पास के आयुर्वेदिक चिकित्सक से मिलें।

मोच को ठीक करे

मोच का दर्द असहनीय होता है। चलना फिरना भी मुश्किल हो जाता है। अगर आपको इस दर्द से बचना है तो गुलाबास के पत्तों को पीसकर मोच पर लगाएं। इससे मोच के दर्द से राहत मिलेगी।

गुलब्बास का पौधा एक औषधीय पौधा है। यह कई रोगों में कारगर है। डायबिटीज से लेकर फोड़ा-फुंसी तक को ठीक करता है। गुलब्बास पौधे का प्रयोग प्राचीन समय से बीमारियों को ठीक करने में किया जा रहा है। गंभीर बीमारी होने पर नजदीकी चिकित्सक से मिलें। यहां जो उपाय बताए गए हैं वे घरेलू हैं। 

Read More Article on Ayurveda in Hindi

Disclaimer