Monkeypox Case in India: भारत में आया मंकीपॉक्स का पहला मामला, UAE से केरल लौटा शख्स पॉजिटिव

Monkeypox Case in India: केरल में यूएई से लौटे एक 35 वर्षीय व्यक्ति में मंकीपॉक्स संक्रमण की पुष्टि हुई है।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Jul 15, 2022Updated at: Jul 15, 2022
Monkeypox Case in India: भारत में आया मंकीपॉक्स का पहला मामला, UAE से केरल लौटा शख्स पॉजिटिव

First Monkeypox Case in Kerala: दुनिया के लगभग 50 देशों में फैल चुके मंकीपॉक्स वायरस का संक्रमण भारत में भी आ चुका है। भारत में मंकीपॉक्स का पहला मामला केरल के कोल्लम जिले में मिला है। राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग द्वारा मिली जानकारी के मुताबिक केरल में यूएई से लौटे एक व्यक्ति में मंकीपॉक्स संक्रमण की पुष्टि हुई है। 35 वर्षीय व्यक्ति में मंकीपॉक्स के लक्षण देखे गए थे, जिसके बाद उसे स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया था। व्यक्ति का सैंपल जांच के लिए नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ वायरोलॉजी भेजा गया था, जिसके बाद जांच रिपोर्ट में व्यक्ति के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। केरल में मंकीपॉक्स संक्रमण की पुष्टि होने के बाद मरीज के संपर्क में आए उसके माता-पिता, टैक्सी ड्राईवर और फ्लाइट में साथ आए सभी लोगों की भी जांच की जाएगी।

केंद्र सरकार ने जारी की गाइडलाइन- Monkeypox Guidelines India in Hindi

First Monkeypox Case in India Kerala

केरल में मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति की पुष्टि होने के बाद स्वास्थ्य विभाग एक्शन मोड में आ गया है। इससे पहले गुरुवार को केंद्र सरकार की तरफ से सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को चिट्ठी लिखकर मंकीपॉक्स वायरस के खिलाफ सतर्कता बरतने की सलाह दी गयी है। केंद्र सरकार ने राज्यों को मंकीपॉक्स वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के लिए राज्यों की एंट्री पॉइंट पर चौकसी बरतने की सलाह दी है। सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक इन जगहों पर डॉक्टर्स और अन्य स्वास्थ्यकर्मियों को तैनात किया जाएगा। गाइडलाइन में कहा गया है कि सभी राज्य सरकारें मंकीपॉक्स संक्रमण के लिए अलग से अस्पताल भी निर्धारित करें, जहां पर मंकीपॉक्स के मरीजों का इलाज किया जाएगा। इसके अलावा मंकीपॉक्स का लक्षण दिखने पर इलाज और जांच जरूर की जानी चाहिए।

मंकीपॉक्स के लक्षण- Monkeypox Virus Symptoms in Hindi

मंकीपॉक्स वायरस का संक्रमण एक दुर्लभ संक्रमण है और यह इंसानों में आसानी से नहीं फैलता है। इस बीमारी से प्रभावित व्यक्ति सामान्यतः एक हफ्ते में ठीक हो जाता है लेकिन कुछ लोगों में यह बीमारी बहुत गंभीर और जानलेवा भी हो सकती है। मंकीपॉक्स संक्रमण होने पर मरीज में ये लक्षण दिखाई देते हैं-

  • शरीर पर गहरे लाल रंग के दानें।
  • स्किन पर लाल रंग के रैशेज।
  • फ्लू के लक्षण।
  • निमोनिया की बीमारी के लक्षण।
  • बुखार और सिरदर्द।
  • मांसपेशियों में दर्द।
  • ठंड लगना।
  • अत्यधिक थकान।
  • लिम्फ नोड्स में सूजन।

विश्व स्वस्थ्य संगठन के मुताबिक मंकीपॉक्स की बीमारी का फिलहाल कोई सटीक इलाज नहीं मौजूद है। इस बीमारी से संक्रमित होने पर मरीज के लक्षणों को कम करने के लिए इलाज किया जाता है। यह बीमारी दक्षिण अफ्रीका जैसे देशों में आम है, लेकिन बीते कुछ महीनों में मंकीपॉक्स का संक्रमण यूरोप और अमेरिका में तेजी से बढ़ा है।

(Image Courtesy: Freepik.com)

Disclaimer