कोरोना के बीच अब मारबर्ग वायरस ने दी दस्तक, 2 पॉजिटिव मरीजों की मौत, WHO ने जारी की चेतावनी

पश्चिमी अफ्रीका के घाना में खतरनाक मारबर्ग वायरस से संक्रमित मरीज पाए जाने के बाद WHO अलर्ट पर है।

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasPublished at: Jul 08, 2022Updated at: Jul 11, 2022
कोरोना के बीच अब मारबर्ग वायरस ने दी दस्तक, 2 पॉजिटिव मरीजों की मौत, WHO ने जारी की चेतावनी

कोरोना महामारी (Corona Pandemic) से लोग अभी पूरी तरह से उबर भी नहीं पाए हैं और अब एक और वायरस ने दुनिया में दस्तक दे दी है।  पश्चिमी अफ्रीका के घाना में 2 लोग मारबर्ग वायरस (Marburg Virus) से संक्रमित मरीज पाए गए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया है कि घाना में जिन 2 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है, उनकी मौत हो चुकी है। घाना के स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक जिन दो लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है उनमें  दस्त, उल्टी, बुखार और घबराहट के लक्षण दिखाई दिए हैं।

पश्चिमी अफ्रीका के घाना में खतरनाक मारबर्ग वायरस से संक्रमित मरीज पाए जाने के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन अलर्ट पर आ गया है। मारबर्ग वायरस (Marburg Virus) के बारे में वायरोलॉजी एक्सपर्ट का कहना है कि ये इबोला वायरस से भी तेजी से फैलता है। WHO ने जोर देकर कहा कि सैंपल के परिणामों की पूरी तरह पुष्टि के लिए सेनेगल के डकार में पाश्चर संस्थान भेजा गया है। यह प्रयोगशाला संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी के साथ काम करती है। गौर करने वाली बात ये है कि मारबर्ग वायरस की वैक्सीन अब तक विकसित नहीं हुई है। अगर ये बीमारी फैलती है तो इसे कंट्रोल करना काफी मुश्किल होगा।

WHO का कहना है कि इस वायरस की मृत्यु दर 88 प्रतिशत तक होती है। अफ्रीका के डब्ल्यूएचओ के क्षेत्रीय निदेशक डॉ मात्शिदिसो मोएती की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया है कि मारबर्ग में तेजी से दूर-दूर तक फैलने की क्षमता है, इसलिए इस पर जल्द से जल्द रोक लगाने की जरूरत है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक मारबर्ग वायरस इंसानों के चमगादड़ों के संपर्क में आने से फैलता है। एक बार जब एक व्यक्ति मारबर्ग वायरस से संक्रमित होता है, तो यह दूसरे को कोरोना की तरह ही संक्रमित कर सकता है।

इसे भी पढ़ेंः मानसून में संक्रमण से बचना है, तो इन चीजों को छूने के बाद जरूर धोएं हाथ

Marburg Virus

क्या है मारबर्ग वायरस के लक्षण- Symptoms of Marburg virus

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक मारबर्ग वायरस से संक्रमित मरीज में रक्तस्रावी बुखार के लक्षण दिखाई देते हैं। रक्तस्रावी बुखार के लक्षण 2 से 21 दिनों के बीच नजर आ सकते हैं।
  • इस वायरस के लक्षण में तेज बुखार, तेज सिर दर्द
  • मांसपेशियों में दर्द
  • पेट में दर्द और ऐंठन
  • मतली और उल्टी (संक्रमण से ग्रसित होने के तीसरे सप्ताह में)
  • आंखों का कमजोर
  • संक्रमित होने वाले कुछ मरीजों में 7 दिन के अंदर नाक और मसूड़ों से ब्लीडिंग की समस्या भी हो सकती हैं।

मारबर्ग वायरस का इलाज क्या है?- Treatment for Marburg virus?

मारबर्ग वायरस के लिए वर्तमान में किसी तरह की कोई वैक्सीन या 100 प्रतिशत कारगार इलाज उपलब्ध नहीं है।

वर्तमान में दुनियाभर के वैज्ञानिक इस पर शोध करने में जुटे हुए हैं। वैज्ञानिक इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि यह वायरस मानव शरीर में कैसे प्रवेश करता है और इससे कौन-कौन से अंग प्रभावित हो सकते हैं।

दक्षिण अफ्रीका में इस वायरस की पुष्टि होने के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से लोगों को शरीर को हाइड्रेट रखने की सलाह दी गई है।

Disclaimer