Fatty Acid Benefits & Side Effects: 3 तरह के होते हैं फैटी एसिड्स, जानिए कौन है फायदेमंद और किसके हैं नुकसान

फैटी एसिड हमारे स्वास्थ्य पर कई तरह के प्रभाव डालता है, जिसमें वो हमे कई स्वास्थ्य लाभ देता है तो कई हानिकारक प्रभाव। जानें कैसे।

Vishal Singh
स्वस्थ आहारWritten by: Vishal SinghPublished at: Aug 04, 2020Updated at: Aug 04, 2020
Fatty Acid Benefits & Side Effects: 3 तरह के होते हैं फैटी एसिड्स, जानिए कौन है फायदेमंद और किसके हैं नुकसान

फैट यानी वसा हमारे शरीर में एक ऊर्जा का एक केंद्रित स्रोत है, ये हमारे लिए बहुत जरूरी मैक्रोन्यूट्रीएंट्स है जो शरीर में अलग-अलग काम करते हैं। यह जरूरी फैटी एसिड का एक स्रोत है जो वसा में घुलनशील के लिए एक वाहन के रूप में काम करता है, विटामिन (विटामिन ए, डी, ई, के) और कोशिका संरचना और झिल्ली के कामों में अहम भूमिका निभाता है। फैटी एसिड को 3 अलग-अलग समूहों में बांटा गया है। 

healthy diet

संतृप्त फैटी एसिड (Saturated Fatty Acid)

यह आमतौर पर कमरे के तापमान पर ठोस होते हैं और उनकी वृद्धि होती है, नियमित रूप से इसका सेवन करने पर खराब कोलेस्ट्रॉल और दिल की समस्याएं बढ़ सकती है। आपको बता दें कि मक्खन, पनीर, रेड मीट, बेकरी उत्पाद और अन्य पशु खाद्य पदार्थों में संतृप्त वसा पाए जाते हैं। इसके अलावा कई ऐसे व्यावसायिक स्नैक्स होते हैं जिनमें काफी मात्रा में संतृप्त वसा होता है, क्योंकि यह उत्पादों के शेल्फ जीवन को बढ़ाता है। इसलिए जरूरी है कि आप किसी भी स्नैक्स जैसी उत्पादों को लेने से पहले उस पर लगे लेबल को जरूर पढ़ें। 

मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड (Monounsaturated Fatty Acids)

मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड कमरे में तरल होते हैं और सभी वसा में से स्वास्थ्यप्रद हैं। ये आपके शरीर में से खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में आपकी मदद करता है, जो हृदय रोग के खतरे में भी कमी लाने का काम करता है। मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड शरीर की कोशिकाओं को बनाए रखने में बहुत जरूरी होता है और विटामिन ई के स्तर में भी काफी योगदान देता है। मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड आपको जैतून का तेल, कैनोला तेल, मूंगफली का तेल, तिल का तेल, एवोकैडो, नट और बीज में भरपूर मात्रा में मिलता है। 

इसे भी पढ़ें: कैंसर रोगी बीमारी से बचने के लिए न करें फिश ऑयल वाले ओमेगा-3 सप्लीमेंट का सेवन, खतरा घटेगा नहीं बल्कि बढ़ेगा

पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड (Polyunsaturated Fatty Acids) 

पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड भी आपके शरीर से खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने के साथ ही आपके हृदय रोग के खतरे को कम करने का काम करता है। आपको बता दें कि पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड को ओमेगा-3 और ओमेगा -6 नाम से 2 जगह में बांटा जा सकता है, लेकिन ये उनकी संरचना पर निर्भर करता है। शरीर और भोजन स्रोतों से दिया जाना चाहिए, क्योंकि वे हमारे कई शारीरिक कामों में अहम भूमिका निभाने का काम करते हैं। 

ट्रांस वसा (Trans Fats)

ट्रांस वसा, ,ये असंतृप्त वसा होते हैं और प्राकृतिक और आर्टिफिशियल दोनों रूपों में होते हैं। आर्टिफिशियल ट्रांस वसा कई स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म देने का काम करता है, इसमें सबसे गंभीर है कोरोनरी हृदय रोग। ये वसा तब पैदा या उत्पन होते हैं जब आप तेल को बार-बार गर्म करने का काम करते हैं। इसलिए बताया जाता है कि तलने के लिए इस्तेमाल होने वाले तेल को फिर से कभी इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। आपको ये वसा बेकरी प्रोडक्ट्स में आसानी से मिल सकते हैं जैसे: कुकीज, केक आदि बाजार से खाद्य उत्पाद। इन्हें खरीदते समय आप इस पर लगे लेबल पर जरूर नजर डालें। 

इसे भी पढ़ें: हमेशा स्वस्थ रहने के लिए जरूरी है ओमेगा-3 फैटी एसिड की पूर्ति, कई बीमारियों के खतरे को करता है कम

कुछ संतृप्त वसा और उनके स्वास्थ्य फायदे

नारियल तेल

नारियल के तेल में एंटीमाइक्रोबियल गुण पाए जाते हैं जो आपकी त्वचा, बाल, मौखिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के साथ उनकी सुरक्षा करते हैं और एक प्राकृतिक मॉइस्चराइजर के रूप में काम करते हैं। इसके साथ ही ये आपके पेट की चर्बी को कम करने का काम करते हैं। ये उन लोगों के लिए ज्यादा फायदेमंद होते हैं जो चयापचय दर, मोटापे, थायराइड विकारों, अल्जाइमर, पार्किंसंस रोग और यहां तक कि कैंसर से पीड़ित रोगी होते हैं। भारतीय खाना पकाने भी। इसमें मध्यम श्रृंखला ट्राइग्लिसराइड्स होते हैं जो आसानी से यकृत द्वारा पच जाते हैं। इसे आप रोजाना की डाइट में आसानी से शामिल कर सकते हैं। 

शुद्ध घी 

शुद्ध घी आपकी सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है जो आपको कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। देसी घी याददाश्त बढ़ाने, उम्र बढ़ने में देरी करने, बूस्ट करने जैसे कई फायदेमंद तरीकों से आपकी सेहत पर प्रभाव डालता है। इसके साथ ही ये आपके मूड, एकाग्रता में सुधार, प्रतिरक्षा में बढ़ोतरी और वजन घटाने को बढ़ाने में मदद करता है। 

With inputs from Nutritionist Kavita Rastogi, Founder - Nutriremedy. 

Read More Article On Healthy Diet in Hindi 

Disclaimer