शरीर में एंडॉर्फिन हार्मोन का संतुलन क्यों जरूरी है? डॉक्टर से जानें इसे बढ़ाने के 5 तरीके

शरीर में एंडॉर्फिन हार्मोन का संतुलन बेहद जरूरी है। यहां डॉक्टर से जानें इसे बढ़ाने के तरीके। 

 
Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: Jul 08, 2021Updated at: Jul 08, 2021
शरीर में एंडॉर्फिन हार्मोन का संतुलन क्यों जरूरी है? डॉक्टर से जानें इसे बढ़ाने के 5 तरीके

सेहतमंद रहने के लिए खुश और स्ट्रेस फ्री रहना बेहद जरूरी है। क्या आपने कभी सोचा है कि हम खुश कैसे रहते हैं? या खुश या दुखी होने के पीछे क्या वजह हो सकती है? क्या आप जानते हैं शरीर में 4 प्रकार के हैप्पी हार्मोन्स होते हैं? जो हमें खुश रहने में मदद करते हैं। डोपामाइन, ऑक्सीटॉक्सीन, सिरोटोनिन और एंडॉर्फिन हार्मोन। यह चारों हार्मोन्स हमारी शरीर में रिलीज होते हैं, जिनके संतुलन से हम खुश रहते हैं। स्ट्रेस फ्री रहने के लिए एंडोर्फिन हार्मोन का संतुलित रहना जरूरी होता है। आज हम इसी विषय पर बात करेंगे कि एंडोर्फिन का संतुलन जरूरी क्यों है? और इसे बढ़ाने के कुछ तरीकों के बारे में। कई लोग इसे प्राकृतिक परिवर्तन मानते हैं तो कुछ लोग हार्मोन के घालमेल को ठीक तरह से समझ ही नहीं पाते हैं। इसी विषय पर विस्तार से जानने के लिए हमने दिल्ली के अपोलो हॉस्पिटल के इंटर्नल मेडिसिन के डायरेक्टर डॉक्टर तरुण साहनी (Dr. Tarun Sahni, Internal Medicine, Apollo Hospital, Delhi) से बातचीत की। चलिए जानते हैं एंडॉर्फिन हार्मोन के बारे में। 

happiness

क्या है एंडॉर्फिन हार्मोन (What Is Happy Hormone)

डॉ. तरुण साहनी के अनुसार एंडॉर्फिन एक हेप्पी हार्मोन है, जो शरीर को गुड फील या फिर अच्छा महसूस कराता है। यह आपके मन को खुशी देने का काम करता है। यह ब्रेन में पाए जाने वाला एक प्रकार का कैमिकल है, जो आपको रिलैक्स महसूस कराता है। यह एक पेप्टीसाइड्स का समूह है, जिसका उत्पादन आपके पिट्यूटरी ग्लैंड से होता है नर्वस सिस्टम के साथ संतुलित रहता है। यह शरीर के लिए प्राकृतिक दर्द निवारक के तौर पर कार्य करता है। इसे बढ़ाकर स्ट्रेस फ्री रहना आप ही के हाथ में है। दिनचर्या में बदलाव लाकर भी इसे जनरेट किया जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें - पीठ में जकड़न की समस्या क्यों होती है? जानें इससे बचाव के लिए 5 टिप्स

एंडॉर्फिन का संतुलन क्यों है जरूरी  (Why Balance of Endorphin Is Important)

डॉ. तरुण साहनी ने बताया कि एंडॉर्फिन एक प्रकार का हेप्पी हार्मोन है। यह आपको खुश और तनाव मुक्त रहने के लिए प्रेरित करता है। यदि इसका संतुलन बिगड़ जाए या फिर यह हार्मोन शरीर में कम होने लगे तो कुछ डिप्रेसिव हार्मोन इसपर ओवटेक कर सकते हैं। जिससे आप खुश रहने की बजाय अकेला और डिप्रेस्ड महसूस करने लगते हैं। यही नहीं यह हार्मोन कम हो जाने से व्यक्ति को दर्द, एंग्जाइटी, अनिद्रा और गलत आदतों की लत भी लग सकती है। इसलिए शरीर में एंडॉर्फिन हार्मोन का संतुलन हमेशा बरकरार रहना चाहिए। इसे बढ़ाना व संतुलित रखना बेहद आसान होता है। डिप्रेशन या तनाव से जूझ रहे व्यक्तियों को तो खासतौर पर अपने हार्मोन को बढ़ाने पर ध्यान देना चाहिए। 

एंडॉर्फिन हार्मोन बढ़ाने के तरीके (Ways to Increase Endorphin Hormone)

exercise

1. योग और एक्सरसाइज (Yoga and Exercise)

डॉ. तरुण साहनी के मुताबिक एंडॉर्फिन हार्मोन को कई तरीकों से बढ़ाया जा सकता है। जिसमें से योग और एक्सरसाइज सबसे प्रभावी होता है। इसपर हुए एक शोध में यह पाया गया कि रोजाना आधे घंटे की कसरत कर आप इस हार्मोन को बढ़ा सकते हैं। इसके लिए आप हाई इंटेन्सिटी इंटर्वल ट्रेनिंग करें। यह ज्यादा प्रभावशाली होती है। वहीं इसे बढ़ाने के लिए रनिंग, स्विमिंग आदि भी की जा सकती है। जब आप एक्सरसाइज करते हैं तो आपके ब्रेन में एंडॉर्फिन रिलीज होता है, जो ब्रेन के साथ मिलकर आपके दर्द और स्ट्रेस को कम करते हैं। 

2. दोस्तों के साथ हसें (Laugh with Friends)

हंसना सेहत के लिए फायदेमंद होता है यह तो आपने सुना ही होगा। हंसना और खुश रहना हर मर्ज से बचने का रास्ता है। जब आप हंसते या फिर खुश रहते हैं तो आपकी शरीर में एंडॉर्फिन हार्मोन तेजी से रिलीज और एक्टिवेट रहते हैं। ऐसा करने से उनका स्तर नीचे नहीं आता है। शोध में भी यह पाया गया है कि ग्रुप बनाकर या दोस्तों के साथ ठहाके लगाने से एंडॉर्फिन में इजाफा होता है। यही नहीं रिसर्च यह भी कहती है कि हंसने से गुदगुदी की तरंगें उत्पन्न होती हैं, जो सीधा आपके एंडॉर्फिन को बढ़ाती हैं। 

इसे भी पढ़ें - कानों के डैमेज होने पर की जाती है ईयर रिकंस्ट्रक्शन सर्जरी, जानें इसके बारे में

3. डार्क चॉकलेट (Dark Chocolate)

डार्क चॉकलेट जहां सेहत के लिए फायदेमंद होती है वहीं यह आपके एंडॉर्फिन को भी बढाती है। दरअसल, डार्क चॉकलेट ब्रेन में ब्ल़ड सर्कुलेशन के स्तर को सुधारता है। इसे खाने से भी आपका मूड अच्छा और चेंज होता है। कई शोधकर्ताओं ने यह साबित किया है कि डॉर्क चॉकलेट में पाए जाने वाला तत्व कोकोआ ब्रेन को एंडॉर्फिन हार्मोन रिलीज करने के लिए प्रेरित करता है। वहीं चॉकलेट में भी ऐसे कुछ खास मूड लिफ्टिंग तत्व पाए जाते हैं, जो आपको अच्छी फीलिंग देते हैं। 

flaxseed

4. अलसी के बीज खाएं (Eat Flaxseeds)

डॉ. तरुण साहने ने बताया कि अलसी के बीज यानि फ्लैक्सीड खाने से भी एंडॉर्फिन हार्मोन जनरेट होता है। यह हार्मोनल इंबैलेंस के लिए भी काफी अच्छे माने जाते हैं। अलसी के बीज आपकी शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को अच्छा कर एडॉर्फिन हार्मोन को बढ़ाने में सहयोग करते हैं। अलसी के बीज शरीर तक रॉ मेटीरियल पहुंचाने का काम करते हैं, जो हार्मोन के उत्पादन के लिए महत्तवपूर्ण होता है। इसलिए डायटीशियन या डॉक्टर से इसकी मात्रा की जानकारी लें और सेवन करें। 

music

5. म्यूजिक और डांस का सहारा लें (Enjoy Music and Dance)

म्यूजिक और डांस मूड लिफ्टिंग एक्टिविटीज हैं। यह आपको फीजिकली और इमोश्नली भी सुकून पहुंचाती हैं। यह केवल एक एंटरटेनमेंट प्रक्रिया नहीं है, इससे आपका एंडॉर्फिन हार्मोन बढ़ते हैं। अगर आप खुद को अकेला महसूस कर रहे हैं या फिर आपका मन उदास है तो आपको म्यूजिक और डांस की ओर अपना ध्यान लगाना चाहिए। ऐसा करने से आपका एंडॉर्फिन बढ़ने के साथ ही सिरोटोनिन हार्मोन की भी ग्रोथ होती है। इसलिए कोशिश करें कि बोर होने पर इस प्रकार की गतिविधियों में शामिल हों। 

यह लेख चिकित्सक द्वारा प्रणामित है। एंडॉर्फिन हार्मोन का संतुलन शरीर में बेहद जरूरी है और इसे बढ़ाना काफी आसान भी है। लेख में दिए गए तरीकों से आप इसे बढ़ा सकते हैं। 

Read more Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer