ये हैं कान की देखभाल के 5 जरूरी टिप्स, नजरअंदाज करने से सुनने की क्षमता पर पड़ सकता है असर

कान को स्वच्छ बनाने के लिए नियमित रूप से कान की देखभाल करनी भी जरूरी है। ऐसे में यहां दिए कुछ टिप्स आपके बेहद काम आ सकते हैं।

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Mar 06, 2022Updated at: Mar 06, 2022
ये हैं कान की देखभाल के 5 जरूरी टिप्स, नजरअंदाज करने से सुनने की क्षमता पर पड़ सकता है असर

जब-जब शरीर के नाजुक हिस्सों की बात आती है तब तब आंख, नाक के साथ-साथ कान का भी नाम शामिल होता है। लेकिन अक्सर लोग शरीर की सफाई तो भली-भांति कर लेते हैं लेकिन कान की सफाई करना भूल जाते हैं। लेकिन बता दें कि कान की बाहरी और भीतरी परत का साफ होना बेहद जरूरी है। कुछ तरीकों से आप अपने कान को न केवल साफ रख सकते हैं बल्कि उन्हें स्वस्थ भी बनाए रख सकते हैं। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि इन तरीकों को अपनाकर आप अपने कान को स्वस्थ और साफ रख सकते हैं। पढ़ते हैं आगे

1 - बाहरी परत की तरह सफाई

कान की सफाई का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है बाहर की परत को साफ करना। अक्सर लोग कान का मैल निकालते वक्त बाहरी परत को साफ करना भूल जाते हैं। जबकि बाहरी परत पर कई ऐसे बैक्टीरिया मौजूद होते हैं जो कान के पर्दे को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकते हैं। ऐसे में आप नहाने के बाद अपने कान को तौलिए या किसी कपड़े से साफ कर सकते हैं।

2 - तेज धार वाली चीज से ना करें कान साफ

कुछ लोगों की आदत होती है कि वे कान की सफाई करने के लिए तेज धारी वाली चीजों का इस्तेमाल करते हैं जैसे हेयर पिन, पिन या नुकीले नाखून का इस्तेमाल वे कान को साफ करने की कोशिश करते हैं। इसका से ना केवल कान के पर्दे पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है बल्कि कान में चोट या कान की खाल छिल भी सकती है। ऐसे में तेज धारी वाली चीजों के इस्तेमाल से बचें।

इसे भी पढ़ें- कान से पानी निकलने के होने सकते हैं ये 4 कारण, जानें समस्या से राहत पाने के घरेलू उपाय

3 - कॉटन बड्स के इस्तेमाल से बचें

कुछ लोग कान की सफाई के लिए कॉटन बड्स का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन बता दे कि कॉटन बड्स का इस्तेमाल भी कानों के लिए हानिकारक हो सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि कॉटन बड्स एवं कानों के अंदर डालते हैं तो वह काफी अंदर तक जा सकता है ऐसे में यह कान के पदों को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। वहीं कॉटन बड्स कान के बाहर हानिकारक बैक्टीरिया को कान के अंदर तक ले जा सकते हैं। ऐसे में कॉटन बड्स का इस्तेमाल करने से बचें।

4 - तेज आवाज से बचें

कुछ लोगों की आदत होती है कि वे तेज वॉल्यूम में म्यूजिक सुनते हैं लेकिन इसके कारण न केवल उनके कान के पर्दे प्रभावित हो सकते हैं बल्कि वे मानसिक तौर पर भी बीमार पड़ सकते हैं। तेज आवाज में गाने सुनने से व्यक्ति को मानसिक उलझन में पैदा हो सकती हैं। ऐसे में व्यक्ति को तेज आवाज में गाने नहीं सुनने चाहिए। वरना उनके कान के पर्दे पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

5 - कान के अंदर ना डालें कोई खुशबूदार प्रोडक्ट

कुछ लोग शरीर की बदबू दूर करने के लिए कान में खुशबूदार प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन इन प्रोडक्ट के इस्तेमाल से बचना चाहिए। इन प्रोडक्ट्स के अंदर केमिकल्स मौजूद होते हैं जो कान के पर्दे को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकते हैं। ऐसे में कान पर किसी भी प्रकार का प्रोडक्ट इस्तेमाल करने से पहले एक्सपर्ट की सलाह लेनी जरूरी होती है।

 इसे भी पढ़ें- कान में खुजली की आयुर्वेदिक दवा: इन 5 जड़ी बूटियों से कान की खुजली से जल्द मिल सकती है राहत

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि कान की देखभाल करके आप कान को न केवल स्वास्थ्य बना सकते हैं बल्कि कान के पर्दे को मजबूत भी कर सकते हैं। हालांकि यदि आपको कान से संबंधित कोई और समस्या है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी है।

Disclaimer