कान में खुजली की आयुर्वेदिक दवा: इन 5 जड़ी बूटियों से कान की खुजली से जल्द मिल सकती है राहत

कान में खुजली की परेशानी होने पर आप आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल कर सकते हैं। आइए जानते हैं कुछ जड़ी-बूटियों के बारे में-

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jan 18, 2022Updated at: Jan 18, 2022
कान में खुजली की आयुर्वेदिक दवा: इन 5 जड़ी बूटियों से कान की खुजली से जल्द मिल सकती है राहत

सर्दियों के सीजन में कान में खुजली की परेशानी होना काफी आम है। कान में खुजली की परेशानी कान में इंफेक्शन की वजह से हो सकती है। बड़ों की तुलना में बच्चों को कान का संक्रमण होने का खतरा अधिक रहता है। हालांकि, कान में खुजली की परेशानी  वयस्कों को भी हो सकती है। बैक्टीरियल इंफेक्शन की वजह से कान में खुजली होने पर आपको कान में दर्द की परेशानी भी हो सकती बै। इसके अलावा कान में खुजली सर्दी, फ्लू, एलर्जी और धूम्रपान के अधिक सेवन से भी हो सकती है। इसके अलावा सोरायसिस या डर्माटाइटिस जैसे स्किन रोगों की वजह से भी कान में खुजली हो सकती है। कान में खुजली की परेशानी होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करने की आवश्यकता होती है। इसके साथ ही आप कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों के इस्तेमाल से भी कान में खुजली से राहत पा सकते हैं। आइए जानते हैं कान में खुजली की आयुर्वेदिक दवा (How do you get rid of itchy ears ) के बारे में- 

कान में खुजली की आयुर्वेदिक दवा ( Ayurvedic Herbs for Itchy ears  )

कान में खुजली की परेशानी को दूर करने के लिए आप अदरक, तुलसी और लौंग जैसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल कर सकते हैं। आइए विस्तार से जानते हैं इन जड़ी-बूटियों के बारे में-

1. लहसुन

आयुर्वेद में लहसुन का खास महत्व होता है। इसके इस्तेमाल से कान में संक्रमण को दूर किया जा सकता है। दरअसल, लहसुन में  एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाया जाता है, जो न सिर्फ कान में खुजली की परेशानी को दूर करने में प्रभावी है। बल्कि इसके इस्तेमाल से कान के आसपास सूजन और कान बहने की परेशानी को भी दूर किया जा सकता है। इसके अलावा कान में दर्द और जकड़न को भी इसके इस्तेमाल से दूर किया जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें - बच्चों के कान में क्यों होती है खुजली ? जानें इसके कारण और बचाव के उपाय

कैसे करें लहसुन का इस्तेमाल (How to Use Garlic for ears Problem)

कान में खुलजी और दर्द की परेशानी को प्राकृतिक रूप से दूर करने के लिए आप रोजाना दो से तीन लहसुन की कलियां खाएं। इसके अलावा आप इसका इस्तेमाल पीसकर भी कर सकते हैं। इसके लिए लहसुन की कलियों को हल्का का गर्म कर लें। अब इसमें 1 चुटकी नमक मिक्स कर लें। अब इसे अच्छे से मैश करें। इसके बाद इस मिश्रण को किसी कपड़े में लपेट लें और कान के आसपास लगाएं। इससे कान में दर्द और खुजली से राहत मिल सकता है। इसके अलावा आप लहसुन के तेल (garlic oil Benefits) का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। 

2. लौंग

कान में खुजली और दर्द की परेशानी होने पर आप लौंग का इस्तेमाल कर सकते हैं। लौंग में एनाल्जेसिक (analgesic) और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पाया जाता है, जो कान की परेशानियों को कम करने में प्रभावी होता है। लौंग के इस्तेमाल से आप कान में संक्रमण की परेशानी को दूर कर सकते हैं। 

लौंग का कैसे करें इस्तेमाल (How to Use Clove for Ears Problem)

लौंग के तेल का इस्तेमाल कान की परेशानी को दूर करने के लिए किया जा सकता है। आयुर्वेद में लौंग का काफी महत्व होता है। कान में डालने के लिए लौंग का तेल बनाने के लिए लौंग की कुछ कलियां लें। अब इसे एक चम्मच तिल के तेल में भूनें इसके बाद तेल को ठंडा होने दें। बाद में इसे छानकर अपने कान में 2 से 3 बूंदें डालें। दिन में तीन से 4 बार लौंग के तेल को कान में डालने से  कान से जुड़ी परेशानी दूर हो सकती है।

इसे भी पढ़ें - कान से पानी निकलने के होने सकते हैं ये 4 कारण, जानें समस्या से राहत पाने के घरेलू उपाय

3. तुलसी

आयुर्वेद चिकित्सा में तुलसी की पत्तियों का इस्तेमाल काफी लंबे समय से किया जा रहा है। यह कान की परेशानी को दूर करने में भी काफी प्रभावी है। तुलसी की पत्तियों में एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सिडेंट, एंटीमाइक्रोबियल और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गुणों (immunomodulatory properties) गुण पाया जाता है, जो न सिर्फ कान के दर्द को दूर करने में प्रभावी होता है, बल्कि यह कान के संक्रमण के अन्य लक्षणों जैसे कान में खुजली, कान बहना जैसी समस्या को सुधार सकता है। 

कैसे करें तुलसी की पत्तियों का इस्तेमाल (How to Use Basil Leave for Itchy Ears)

कान में दर्द या खुजली की परेशानी होने पर तुलसी की पत्तियों को अच्छे से पीस लें। अब इसके रस को छानकर अलग रख लें। जब कान में दर्द या खुजली हो, तो इस रस की कुछ बूंदे अपने कान में डालें। हालांकि, ध्यान रखें कि अगर आपके कान में समस्या बढ़ रही है, तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें। 

4. अदरक

अदरक में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पाया जाता है, जो कान के सूजन और दर्द को दूर करने में प्रभावी होता है। इसके अलावा अदरक में स्किन से जुड़ी परेशानी को दूर करने का भी गुण होता है। अगर आपको कान में किसी कारण से खुजली या दर्द की परेशानी हो रही है, तो अदरक आपके लिए प्रभावी हो सकता है। अदरक के रस को कान के आसपास लगाने से कान की खुजली दूर हो सकती है। 

कैसे करें इस्तेमाल (How to use Ginger )

कान में खुजली या फिर दर्द से राहत पाने के लिए अदरक का रस या फिर तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए एक अदरक का टुकड़ा लें। अब इसे अच्छे से कुचलकर इससे रस निकाल लें। अब इसे कान के पास की त्वचा पर लगाएं। इसका इस्तेमाल आप तेल के रूप में भी कर सकते हैं। इसके लिए तेल तैयार करने के लिए 1 चम्मच तिल के तेल में अदरक का टुकड़ा डालकर उबालें। इससे आप कान में दर्द और कान की अन्य परेशानी से निजात पा सकते हैं।

5. टी ट्री ऑयल

 टी ट्री ऑयल स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा माना जाता है। इस तेल के इस्तेमाल से प्राकृतिक रूप से दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है। इसमें शक्तिशाली एंटीफंगल, जीवाणुरोधी, एंटीसेप्टिक और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पाया जाता है, जो कान के संक्रमण और इसके लक्षणों को दूर करने में प्रभावी होता है। 

कैसे करें इस्तेमाल ( Use Tea Tree oil for Ears Itching)

टी ट्री ऑयल का कहीं भी आसानी से खरीद सकते हैं। इसे आप किसी भी तेल जैसे - ऑलिव ऑयल, तिल का तेल,  नारियल का तेल के साथ मिक्स करके कान के आस पास लगा सकते हैं। इससे कान में खुजली से आराम पाया जा सकता है। 

कान में खुलजी या फिर दर्द की समस्या होने पर आप आयुर्वेद की इन ज़ड़ी-बूटियों का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे आपको काफी लाभ होगा। लेकिन ध्यान रखें कि अगर आपकी परेशानी कुछ दिनों में ठीक नहीं हो रही है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। ताकि किसी भी गंभीर परेशानी से बचा जा सके।

Disclaimer