World Bicycle Day 2019 : रोजाना 30 मिनट साइकिल चलाने से कम होगा उम्र का प्रभाव, मिलेंगे ये 5 फायदे

रोजाना 30 मिनट साइकिल चलाकर आप खुद को फिट रख सकते हैं साथ ही पर्यावरण को भी दुषित होने से बचा सकते हैं। आज विश्‍व साइकिल दिवस जानें क्‍या है साइकिल चलाने के फायदे।   

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: May 04, 2018Updated at: Jun 03, 2019
World Bicycle Day 2019 : रोजाना 30 मिनट साइकिल चलाने से कम होगा उम्र का प्रभाव, मिलेंगे ये 5 फायदे

संयुक्त राष्ट्र महासभा (The United Nations General Assembly) ने 3 जून 2018 को विश्व साइकिल दिवस (World Bicycle Day 2019) के रूप में घोषित किया है। विश्व साइकिल दिवस "साइकिल अपनी विशिष्टता, लंबी उम्र और बहुमुखी विकास को मान्यता देता है। साइकिल पिछले दो शताब्दियों से उपयोग में है, और यह एक सरल और सस्ता साधन है। इसके अलावा यह विश्वसनीय, स्वच्छ और पर्यावरण के अनुकूल एक  स्‍थायी परिवहन (transportation) है" आज दुनियाभर में साइकिल के प्रति जागरूकता बढ़ रही है। आज विश्‍व साइकल दिवस के मौके पर हम आपको साइकिल चलाने के फायदों के बारे में बता रहे हैं।

अपनी फिटनेस के लिए आपके पास समय नहीं है और आप बहुत व्यस्त रहते हैं, तो साइकिलिंग आपको चुस्त और तंदरुस्त रखने का सबसे अच्छा विकल्प है। जिम नहीं जा पाते हैं तो कोई बात नहीं, साइकिल चलाकर आपको ऐसे बहुत से शारीरिक लाभ मिल जाएंगे, जो आमतौर पर लोगों को जिम में घंटों पसीना और पैसा बहाने के बाद मिलते हैं। आजकल लोगों में साइकिलिंग का शौक बहुत कम रह गया है लेकिन आपको बता दें कि रोज केवल 30 मिनट साइकिल चलाकर आप अपने बॉडी को तो फिट रख ही सकते हैं, बल्कि इससे आप पर उम्र का प्रभाव भी बहुत धीरे होता है। यानि साइकिल चलाकर आप ज्यादा समय तक जवान बने रह सकते हैं। आइये आपको बताते हैं कैसे साइकिल चलाना आपको बना सकता है सेहतमंद।

कैसे कम होता है उम्र का प्रभाव

उम्र का असर सबसे पहले आपकी त्वचा पर दिखना शुरू होता है फिर आपकी हड्डियों और अन्य अंगों पर और फिर आपकी क्षमता पर। मगर साइकिलिंग के द्वारा आपकी तेजी से बढ़ती हुई उम्र पर ब्रेक लगता है। दरअसल साइकिलिंग के द्वारा आपके पूरे शरीर का अच्छा व्यायाम हो जाता है। इससे हड्डियां मजबूत होती हैं और आपकी शारीरिक क्षमता बढ़ती है। साथ ही साइकिलिंग के समय आप तेजी से सांस लेते हैं जिससे त्वचा को भरपूर ऑक्सीजन मिलती है और वो लंबे समय तक जवां रहती है।

नहीं होंगे दिल के रोग

साइकिलिंग एक एरोबिक व्यायाम है, जिसके कई फायदे हैं। इससे दिल के रोगों का खतरा कम होता है। इस गतिविधि से सिरोटोनिन, डोपामाइन व फेनिलइथिलामीन जैसे रसायनों का दिमाग में उत्पादन बढ़ता है, जिससे हम दुख को भूल जाते हैं और हर वक्त खुशी महसूस करते हैं।

मोटापा रहेगा दूर

लोगों में आजकल मोटापे की समस्या तेजी से बढ़ रही है। मोटापा कई तरह के रोगों जैसे डायबिटीज, दिल के रोग और लिवर के रोगों का कारण बनता है। इसलिए लंबी जिंदगी जीना है तो मोटापे से दूर रहना बहुत जरूरी है। रोज 30 मिनट साइकिल चलाने से आप मोटापे से दूर रह सकते हैं। दरअसल साइकिल चलाने से आपके पूरे शरीर का व्यायाम हो जाता है और ढेर सारी कैलोरीज बर्न होती हैं। इसलिए साइकिलिंग आपको फिट और हेल्दी रखने के लिए आसान उपाय है।

डायबिटीज से मिलेगा छुटकारा

डायबिटीज के रोगी यदि नियमित तौर पर लंबी दूरी साइकिल से तय करते हैं तो उन्हें व्यायाम के पहले व बाद में ब्लड सुगर की जांच करानी चाहिए। मधुमेह के रोगियों को भी साइकिल चलाने से काफी आराम मिलता है। लेकिन डायबिटीज के रोगी ध्यान रखें कि साइकिल चलाने से पहले खूब पानी पी लें। टाइप-1 श्रेणी वाले मधुमेह रोगी यदि एक घंटे से ज्यादा साइकिल चलाते हैं तो उन्हें कुछ कार्बोहाइड्रेट युक्त आहार साथ में रखना चाहिए।

इसे भी पढ़ें:- सुबह उठने के बाद आप भी करते हैं ये 5 काम, तो बीमारियों के लिए रहिए तैयार

तनाव होगा कम

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी, दूषित खानपान और बिजी दिनचर्या के चलते आजकल लोगों में तनाव और अवसाद की समस्या बहुत ही आम हो गई है। तनाव के चलते कई समस्याएं होती हैं। हाल ही में हुई एक रिसर्च में सामने आया है कि साइकिल चलाने से तनाव होने का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है।

इसे भी पढ़ें:- इन 5 कारणों से सोने से पहले पैरों के नीचे प्याज रखना सेहत के लिए है फायदेमंद

हड्डियां होती हैं मजबूत

बुढ़ापे की ज्यादातर समस्याओं का कारण हड्डियों की कमजोरी है। कमजोर हड्डियों के कारण शरीर में दर्द बना रहता है और आप ठीक से उठ बैठ भी नहीं पाते हैं। साइकिल चलाने से स्वास्थ्य संबंधी कई लाभ मिलते हैं। इससे पैरों की अच्छी एक्सरसाइज होती है। जिसके चलते घुटनों के जोड़ों का दर्द दूर होता है। दौड़ने की तुलना में साइकिल चलाने से आपके घुटनों पर बहुत कम दबाव पड़ता है।

Read More Articles On Healthy Living In Hindi

Disclaimer