आपकी इन 5 गलतियों से होता है हाथ-पैर और जोड़ों में दर्द, पांचवी है सबसे खतरनाक

वैसे तो चोट, उम्र, मोटापा, संरचनात्मक असामान्यताएं, मांसपेशियों में लचीलेपन की कमी आदि जिम्‍मेदार कारक होते हैं। लेकिन कुछ बीमारियों गठिया, बर्साइटिस और मांसपेशियों के दर्द आदि भी जोड़ों के दर्द का कारण होते

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Aug 02, 2018
आपकी इन 5 गलतियों से होता है हाथ-पैर और जोड़ों में दर्द, पांचवी है सबसे खतरनाक

कई कारणों से जोड़ों में दर्द होने लगता है। वैसे तो चोट, उम्र, मोटापा, संरचनात्मक असामान्यताएं, मांसपेशियों में लचीलेपन की कमी आदि जिम्‍मेदार कारक होते हैं। लेकिन कुछ बीमारियों गठिया, बर्साइटिस और मांसपेशियों के दर्द आदि भी जोड़ों के दर्द का कारण होते हैं। आइए ऐसी ही कुछ कारणों के बारे में जानते हैं।

 

वजन बढ़ने से 

आपके जोड़, जो आपकी हड्डियों को एक साथ जोड़ते हैं, भारी भार के प्रति संवेदनशील होते हैं। यह घुटनों के फ्रेम पर तनाव डालता है। यह आपकी पीठ, कूल्हों और पैरों को भी दबा देता है। जिससे कई तरह नुकसान, अत्‍यधिक दर्द हो सकता है। शरीर का वजन बढ़ने से या वजन जोंड़ों पर दबाव पड़ने से सूजन होने की संभावना बढ़ जाती है। यह आपके हाथों और सभी जोड़ों को कठोर दर्द और सूजन दे सकता है। 

टेक्‍सटिंग 

'टेक्स्टिंग थम्‍ब' यानी हर समय उंगलियों से मैसेज टेक्‍ट करते रहना। यह एक गंभीर समस्‍या का कारण है। यह जोड़ों में दर्द दे सकता है। यह जितना आपकी उंगलियों, कलाईयों में दर्द देगा उससे कहीं ज्‍यादा आपकी गर्दन और कंधों के लिए बुरा है। प्रत्येक इंच आपका सिर आगे बढ़ता है आपकी मांसपेशियों पर भार बढ़ाता है। यदि आप अपनी गर्दन को अब तक झुकाते हैं कि आपकी ठोड़ी आपकी छाती को छूती है, तो ऐसा लगता है कि आपकी गर्दन को केवल एक के बजाय 5 सिर के वजन का समर्थन करना है। 

जूतों का गलत साइज 

जूते हमेशा कंफर्टेबल होने चाहिए। गलत साइज के जुते आपके पैरों और एड़ियों के लिए सही नहीं होते हैं। यह आपके घुटनों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। अगर आप स्‍पोर्ट्स मैन हैं तो सुनिश्चित करें कि आपके स्नीकर्स आपके खेल के लिए सही हैं। 

इसे भी पढ़ें: पोटेशियम की कमी का संकेत हैं ये 5 बदलाव, बीमारी बनने से पहले बरतें सावधानी

पेट के बल सोना 

यह खर्राटे के लिए मदद कर सकता है, लेकिन आपके शरीर के बाकी हिस्सों के साथ यह ज्‍यादती है। अपने पेट के बल सोने से रीढ़ की हड्डी संपी‍डित होती है। 

इसे भी पढ़ें: ये 6 जानलेवा बीमारी, जो सिर्फ मच्‍छर के काटने से होती है!

पीठ पर भारी बैग 

चाहे वह एक पर्स, बैकपैक, या मैसेंजर बैग है, बहुत अधिक पैकिंग गर्दन और कंधे के दर्द का कारण बन सकती है। कंधे पर भारी वजन आपके संतुलन को बिगाड़ देता है। पीठ पर लगातर वजन लादकर चलने से मांसपेशियों में खिंचाव उत्‍पन्‍न होने लगता है। इसलिए पीठ पर ज्‍यादा वजन लेकर नहीं चलना चाहिए। इससे जोड़ों और मांसपेशियों में तेज दर्द हो सकता है। 

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer