ब्रेस्टफीडिंग के समय स्तनों में आ रहा है कम दूध तो हो सकते हैं ये कारण

बच्चे को जन्म देने के बाद मां को कम दूध बनने की परेशानी हो सकती है जिसकी वजह से बच्चा भूखा रहता है। जानें इस समस्या के क्या कारण हो सकते हैं।

Monika Agarwal
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: Monika AgarwalPublished at: May 29, 2022Updated at: May 29, 2022
ब्रेस्टफीडिंग के समय स्तनों में आ रहा है कम दूध तो हो सकते हैं ये कारण

कई बार अगर आपका बच्चा जल्दी-जल्दी भूखा हो जाता है और आप उसे दूध पिलाने लगती हैं, तो पर्याप्त दूध नहीं आ पाता है। नवीन हॉस्पिटल के सीनियर गायनोकोलॉजिस्ट एंड इनफर्टिलिटी स्पेशलिस्ट, डॉ. डी डी वर्मा के मुताबिक अगर बच्चा दिन में 9 या 10 बार पेशाब नहीं कर रहा या 6-7 बार मल नहीं त्याग रहा और हर समय रोता रहता है, तो इसका मतलब है कि बच्चा भूखा है। यानी मां का दूध पूरी तरह से नहीं बन रहा और इसकी बहुत सी वजह हो सकती हैं जैसे कि खून की कमी या थायराइड इंबैलेंस। भूखे रहने से बच्चे का वजन भी बढ़ नहीं पाता। ऐसा होने से आपके बच्चे का शारीरिक विकास बाधित हो सकता है। इसलिए आपको दूध कम आने के कारणों का पता होना चाहिए। तो आइए जानते हैं किन कारणों की वजह से दूध कम उत्पादित हो पाता है।

1. हार्मोनल दिक्कतें

अगर आपको पीसीओएस, डायबिटीज या हाई ब्लड प्रेशर जैसी स्थिति है तो इससे कंसीव करना भी मुश्किल लग सकता है। इन कारणों की वजह से भी आपकी ब्रेस्ट में मिल्क सप्लाई अधूरी रह सकती है क्योंकि दूध बनाने के लिए हार्मोन्स का संतुलित होना और इनका सिग्नल पास करना भी काफी जरूरी  होता है। इस स्थिति में आपने डॉक्टर से इलाज करवाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें- क्या किसी एक स्तन (ब्रेस्ट) में ज्यादा और दूसरे में कम दूध कम आना सामान्य है? जानें इसे ठीक करने के उपाय

2. कुछ दवाइयों का सेवन करना

अगर ऐसी दवाइयों का सेवन करते हैं जिनमें सेज, पार्सले, पिपरमिंट जैसी इंग्रेडिएंट्स की मात्रा ज्यादा होती है तो इनसे भी ब्रेस्ट मिल्क प्रभावित हो सकता है। अगर आप इनका सेवन कर रही हैं और आपको लग रहा है कि आप का ब्रेस्ट मिल्क कम मात्रा में उत्पादित हो रहा है तो आपको अपने डॉक्टर से बात करके किसी अन्य दवाई का विकल्प चुनना चाहिए।

3. ग्लैंडुलर टिश्यू का अपर्याप्त होना

कुछ महिलाओं की ब्रेस्ट प्राकृतिक रूप से पूरी तरह विकसित नहीं हो पाती हैं और उनमें इतने डक्ट्स नहीं होते हैं कि पर्याप्त दूध बन सके और बच्चे का पेट भर सके। ऐसी स्थिति में हर प्रेग्नेंसी के साथ यह डक्ट्स बढ़ तो जाते हैं लेकिन बच्चे का पेट भरने के लिए आपको फार्मूला दूध पिलाना पड़ता है ताकि वह भूखा न रह जाए। हालांकि आपको ब्रेस्ट फीडिंग भी जारी रखनी चाहिए।

breastfeeding mom

4. हार्मोनल बर्थ कंट्रोल का प्रयोग करना

कुछ महिलाओं को हार्मोनल बर्थ कंट्रोल दवाओं का सेवन करने की वजह से हार्मोन्स में असंतुलन और दूध का कम उत्पादन होने जैसी स्थितियों का सामना करना पड़ता है। अगर आप बच्चे के चार महीने के होने से पहले ही इन पिल्स का सेवन करना जारी रखती हैं तो ऐसा ज्यादा होता है। इस स्थिति में आप किसी अन्य बर्थ कंट्रोल तरीके का प्रयोग कर सकती हैं।

5. ब्रेस्ट सर्जरी

अगर आपने पहले कॉस्मेटिक या फिर मेडिकल कारणों की वजह से ब्रेस्ट सर्जरी करवाई है तो इस कारण निपल्स में मिल्क डक्ट डेमेज हो सकते हैं। कई बार सर्जरी के कारण ब्रेस्ट में भी नुकसान पहुंच सकता है। हालांकि इस कारण की वजह से बहुत ही कम महिलाओं को दूध से जुड़ी दिक्कत महसूस करने को मिलती हैं और अगर आप उनमें से एक हैं तो बच्चे को फॉर्मूला दूध पिला कर खुद की स्थिति के बारे में डॉक्टर को बताएं।

इसे भी पढ़ें- डिलीवरी के बाद ब्रेस्ट मिल्क ना होने के क्या हैं कारण? जानिए क्या है एक्सपर्ट की राय

6. रात में दूध न पिलाना

जो महिलाएं अपने बच्चे को रात के समय दूध नहीं पिलाती हैं उनका मिल्क लेवल कम होना शुरू हो जाता है। ऐसा करने से प्रो लेक्टिन लेवल कम होने लगता है जोकि रात के समय ज्यादा मात्रा में उत्पादित होता है। इस हार्मोन से ब्रेस्ट को और दूध बनाने का सिग्नल मिलता है। इसलिए अगर आप रात में बच्चे को दूध नहीं पिला रही हैं तो यह भी लो ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई का कारण बन सकता है।

दूध कम आने के काफी सारे कारण हो सकते हैं और हर महिला में दूध उत्पादन होने की अलग अलग क्षमता होती है। इसलिए आपको इस सब के बारे में अपने डॉक्टर से भी जरूर बात करनी चाहिए।

Disclaimer