हम क्यों करते हैं 'शेयरिंग'? जानें ब्रेन के उन दो भागों के बारे में, जो सिखाते हैं हमें शेयरिंग करना

एमीगडाला या एमीगडेल और मेडियल प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स दो संरचनाएं हैं, जो ब्रेन में 'शेयरिंग' जैसे सामाजिक गतिविधियों के लिए कार्य करते हैं।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Feb 27, 2020
हम क्यों करते हैं 'शेयरिंग'? जानें ब्रेन के उन दो भागों के बारे में, जो सिखाते हैं हमें शेयरिंग करना

शेयरिंग यानी कि किसी के भी साथ अपनी चीजों को बांट कर इस्तेमाल करना, एक सामाजिक भावना है। हमें बचपन से लगता है कि इस सीख के पीछ हमारे माता-पिता या घरवालों का हाथ है, जिन्होंने हमें शुरू से मिल-बांट कर चीजों को करना सिखाया है। पर ऐसा नहीं है। हाल ही में आया शोध बताता है कि जो लोग उदार व्यवहार के होते हैं या चीजों को बांटना जानते हैं उनके पीछे उनके ब्रेन का एक हिस्सा काम कर रहा होता है। अध्ययन बताता है कि क्यों कुछ लोग उदार होते हैं और कुछ स्वार्थी? दरअसल हमारे ब्रेन के दो विशिष्ट मस्तिष्क क्षेत्रों का इसमें सबसे बड़ा हाथ होता है, जिसमें से एक हैृ एमीगडेल (amygdala)और दूसरा है ब्रेन का प्रीफ्रोंटल एरिया (medial frontal cortex)। आइए विस्तार से जानते हैं इस शोध और ब्रेन के इन दो क्षेत्रों के कार्यशैली के बारे में।

inside_letsshare

बंदरों पर किया गया है ये शोध

येल विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा बंदरों पर किए गए इस पशु अध्ययन के निष्कर्षों को नेचर न्यूरोसाइंस पत्रिका में प्रकाशित किया गया है। शोध में बताया गया है कि कैसे उदारता और स्वार्थ की जैविक जड़ें हामरे न्यूरोसाइंटिस्टों से जुड़ी हुई हैं। बंदरों पर ये शोध इसलिए भी किया गया क्योंकि सामाजिक जानवरों के रूप में, प्राइमेट्स सहयोग पर निर्भर करते हैं। वहीं इनके ब्रेन की स्थितियां और मनुष्य ब्रेन की स्थितियां लगभग एक समान होती हैं। प्राइमेट्स में बिखराव के समय बांटाना की स्थिति में स्वार्थी हो जाते हैं और फिर शेयरिंग भूल जाते हैं।

शोध में क्या हुआ 

मनुष्यों में वैश्विक इमेजिंग अध्ययनों से पता चला है कि कई मस्तिष्क क्षेत्र साझा करने के बारे में निर्णय लेने में शामिल हैं। येल के स्टीव चांग और सहकर्मियों ने बंदरों के दो विशिष्ट मस्तिष्क क्षेत्रों के बीच न्यूरोनल गतिविधि पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया, जो एक अन्य बंदर के साथ फलों के रस को साझा करने या न करने के बारे में एक निर्णय के साथ सामना किया। एक परिदृश्य में, बंदर एक साथी को एक पेय देने या इसे बाहर फेंकने का फैसला कर सकता था। एक वैकल्पिक परिदृश्य में, वे अकेले फलों का रस पी सकते थे या एक साथ दूसरे बंदर के साथ एक पेय साझा कर सकते थे। लेकिन बंदरों ने इसे अकेले पीना पसंद किया। 

इसे भी पढ़ें : मिड ब्रेन एक्टिव कर अपने बच्‍चे को बनाएं ऑलराउंडर!

नेचर न्यूरोसाइंस पेपर के वरिष्ठ लेखक और मनोविज्ञान और तंत्रिका विज्ञान के सहायक प्रोफेसर चांग की मानें, तो "हमें न्यूरल सिंक्रोनाइजेशन का एक अनूठी चीज के बारे में पता चला है, जो दर्शाता है कि क्या कोई प्रो-सोशल या असामाजिक निर्णय कैसे लिया गया था।'' उन्होंने और उनकी टीम ने निर्णय लेने के दौरान मस्तिष्क में अन्य महत्वपूर्ण अंतर विशेषताओं को भी पाया। मिसाल के तौर पर, जब जानवरों को प्रो-सोशल किया जा रहा था, तब  न्यूरोनल इंटरैक्शन की बार-बार आवृत्ति हो रही थी और जब दूसरी आवृत्ति असामाजिक थी, तो ये मस्तिष्क क्षेत्र के द्वारा निर्धारित की गई थी जिसमें न्यूरॉन्स की भूमिका कम दिखी।

inside_sharingbrain

एमीगडेल (Amygdala) की भूमिका

मेमल्स में, एमीगडाला और मेडियल प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स दो संरचनाएं हैं, जो ब्रेन में डर की स्मृति के अधिग्रहण, समेकन और पुनर्प्राप्ति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं, साथ ही साथ ये शेयरिंग में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे तंत्र में एक रुचि साझा करते हैं, जो डर कंडीशनिंग या सीखने और स्मृति के गठन को रेखांकित करते है।दोनों परिदृश्यों में, शोधकर्ताओं ने एमीगडेल के इस्तेमाल को देखा गया, जहां अधिक विचारशील विचार उत्पन्न होते हैं और यही विचार न्यूरोनल गतिविधि में बातचीत के अलग-अलग पैटर्न पाए गए। जब बंदर उदार या सामाजिक समर्थक थे, यानी कि शेयरिंग कर रहे थे तो इन मस्तिष्क क्षेत्रों के बीच की बातचीत अत्यधिक सिंक्रनाइज थी, जो एक ही दर पर होती थी। जब वे असामाजिक थे, तब इस समानता को स्पष्ट रूप से नहीं होते हुए पाया गया।

इसे भी पढ़ें : इस न्‍यूट्रिस क्रीम से बच्‍चों के ब्रेन का होगा विकास

मिडियल फ्रोंटल कॉर्टेक्स की भूमिका (Medial Frontal Cortex)

मिडियल फ्रोंटल कोर्टेक्स के कारण हमारा ब्रेन कई तरह के सामजिक फैसले ले पाता है। इसे सामाजिक ब्रेन (Social Brain) भी कहा जाता है। हमारे मस्तिष्क का एक प्रमुख कार्य हमें सामाजिक रूप से प्रासंगिक जानकारी के संबंध में व्यवहार करने में सक्षम बनाता है। वयस्क मानव मस्तिष्क सामाजिक दुनिया को कैसे संसाधित करता है, इस पर बहुत शोध से पता चलता है कि विशिष्ट मस्तिष्क क्षेत्रों का एक नेटवर्क है, जिसे सामाजिक मस्तिष्क भी कहा जाता है। इस सामाजिक अनुभूतियों में कई सारी चीजें शामिल होती हैं। वयस्क सामाजिक मस्तिष्क में शामिल विशेष मस्तिष्क क्षेत्रों में, प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स (PFC),  औसत दर्जे का प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स (mPFC) जो कार्यात्मक गतिविधियों में मदद करता है और यही अंत में मानव सामाजिक अनुभूति और व्यवहार के लिए विशेष रूप से कार्य करता है।

ब्रेन कैंसर एक ऐसी बीमारी है, जिसमें ब्रेन में कोशिकाओं का विकास बहुत धीरे होता है। आइए इस विडियो के जरिए जानते हैं इस बीमारी को विस्तार से। देखें ये विडियो-

Source: ncbi.nlm.nih.gov

Read more articles Health-News in Hindi

Disclaimer