अखरोट ही नहीं उसकी पत्तियां भी हैं गुणकारी, जानें अखरोट की पत्तियों के आयुर्वेदिक फायदे

अखरोट की पत्तियों में च‍िकित्‍सा गुण होते हैं, इसका इस्‍तेमाल कई बीमार‍ियों और त्‍वचा रोग में क‍िया जाता है, आप भी जानें इसके आर्युवेदिक फायदे

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jul 01, 2021Updated at: Jul 01, 2021
अखरोट ही नहीं उसकी पत्तियां भी हैं गुणकारी, जानें अखरोट की पत्तियों के आयुर्वेदिक फायदे

अखरोट के पेड़ की पत्‍त‍ियों का इस्‍तेमाल लंबे समय से आर्युवेद और घरेलू नुस्‍खों में क‍िया जाता है। ऐसा माना जाता है क‍ि अखरोट की पत्‍त‍ियों में चिक‍ित्‍सा गुण होते हैं। अखरोट की पत्‍त‍ियों के लाभ क्‍या हैं? अखरोट की पत्‍तियों से दर्द, सूजन दूर होती है। अगर आपको जोड़ों में दर्द होता है तो अखरोट की पत्‍त‍ियों का लेप फायदेमंद है। वहीं अखरोट की पत्‍त‍ियों का सेवन डायब‍िटीज रोग‍ियों के ल‍िए भी फायदेमंद है क्‍योंक‍ि इससे ब्‍लड शुगर लेवल कंट्रोल होता है। अगर आपको त्‍वचा संबंधी रोग जैसे एग्‍ज‍िमा के लक्षण नजर आ रहे हैं तो भी आप अखरोटी की पत्‍त‍ियों का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। बालों से जूं हटाने के ल‍िए अखरोट की पत्‍त‍ियों का इस्‍तेमाल क‍िया जा सकता है। अखरोट की पत्‍त‍ियों के अन्‍य फायदे जानने के ल‍िए लेख व‍िस्‍तार से पढ़ें। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में स्‍थित प्रांजल आयुर्वेद‍िक क्‍लीन‍िक के डॉ मनीष स‍िंह से बात की। 

walnut leaves benefits

1. अर्थराइट‍िस में जोड़ों का दर्द दूर करती हैं अखरोट की पत्‍त‍ियां (Walnut leaves for arthritis)

अगर आपको घुटने या जोड़ों में दर्द है तो आप अखरोट की पत्‍त‍ियों (walnut leaves) को पीसकर उसका लेप प्रभाव‍ित ह‍िस्‍से में लगाएं। अखरोट की पत्‍त‍ियों में दर्द खींचने की क्षमता होती है। इससे आपका दर्द दूर हो जाएगा।

2. डायब‍िटीज में फायदेमंद है अखरोट के पेड़ की पत्‍त‍ियां (Walnut leaves for diabetes)

अखरोट के पेड़ की पत्‍त‍ियों से ब्‍लड शुगर कंट्रोल रहता है। आप अखरोट की पत्‍तियों को पानी में उबालकर, पानी को छान लें और सुबह खाली पेट उसका सेवन करें। अखरोट की पत्‍त‍ियों से रोग प्रत‍िरोधक क्षमता यानी इम्‍यून‍िटी बढ़ाने के तरीके में भी उपयोगी है।

इसे भी पढ़ें- मिश्री से ठीक होती हैं कई बीमारियां, जानें मिश्री के आयुर्वेदिक फायदे

3. पेट में कीड़े हैं तो इस्‍तेमाल करें अखरोट की पत्‍त‍ियां (Walnut leaves for stomach bacteria)

कीड़ों को शरीर से भगाने के ल‍िए अखरोट की पत्‍त‍ियों का इस्‍तेमाल क‍िया जाता है। अगर आपके बच्‍चे के पेट में कीड़े हैं तो आप अखरोट की पत्‍त‍ियों के पानी को बच्‍चे को सुबह शाम प‍िलाएं, इससे कीड़े साफ हो जाएंगे। इस नुस्‍खे को बड़े भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

4. स्‍क‍िन इंफेक्‍शन दूर करती हैं अखरोट की पत्‍त‍ियां (Walnut leaves for skin problems)

walnut leaves

आर्युवेद के मुताब‍िक अखरोट की पत्‍त‍ियों में एंटी-बैक्‍टीर‍ियल गुण होते हैं। ज‍िन लोगों को स्‍क‍िन इंफेक्‍शन जैसे एग्‍ज‍िमा के लक्षण हों उनके ल‍िए अखरोट की पत्‍त‍ियों का सेवन फायदेमंद है। अखरोट की पत्‍त‍ियों को सुखाकर उनका पाउडर बनाकर भी पानी या चाय में डालकर पी सकते हैं। अखरोट की पत्‍त‍ियों की चाय बनाने के ल‍िए एक कप पानी में अखरोट की पत्‍त‍ियों को उबालें और उस पानी को छानकर उसमें अपने फ्लेवर एड करें जैसे शहद, नींबू और कप में न‍िकालकर प‍िएं।

इसे भी पढ़ें- अडूसा (vasaka) जड़ी-बूटी से ठीक होती हैं कई बीमारियां, जानें इसके फायदे

5. गर्म‍ियों में सनर्बन, ज्‍यादा पसीना आए तो इस्‍तेमाल करें अखरोट की पत्‍त‍ियां (Walnut leaves for sunburn)

अखरोट की पत्‍त‍ियों से सनबर्न की समस्‍या भी दूर होती है। आप अखरोट की पत्‍त‍ियों का लेप हाथ-पैर में लगा लें और आधे घंटे बाद साफ पानी से धो लें। अगर आपको बहुत ज्‍यादा पसीना आना है तो आप अखरोट की पत्‍तियों को नहाने के पानी में डालकर नहाएं। अगर स्‍क‍िन में सूरज के संपर्क में आने के कारण खुजली या जलन है तो अखरोट की पत्‍त‍ियों को प्रभाव‍ित जगह पर रखें आपको आराम म‍िलेगा।

6. जूं होने पर करें अखरोट की पत्‍त‍ियों का इस्‍तेमाल (Walnut leaves for hair problems)

साल 1999 में इटली के एक जर्नल में छपा था क‍ि अखरोट की पत्‍त‍ियों से स्‍किन में पैरासाइट इंफेक्‍शन की समस्‍या ठीक हो सकती है जैसे स्‍कैल्‍प में जूं होना। अखरोट की पत्‍त‍ियों को नहाने के पानी में डालकर आप नहा सकते हैं। इससे जूं अपने आप न‍िकल जाएंगी या आप अपने शैम्‍पू में अखरोट की पत्‍तियों का पेस्‍ट बनाकर लगा सकते हैं।

अगर आपको अखरोट की पत्‍त‍ियों के इस्‍तेमाल से जलन या रैशेज जैसी समस्‍या हो तो प्रयोग बंद कर दें और डॉक्‍टर से सलाह लें, या आपको पहले से कोई एलर्जी या बीमारी है तो डॉक्‍टर से सलाह लेकर इन नुस्‍खों को आजमाएं। 

Read more on Ayurveda in Hindi 

Disclaimer