बच्‍चों के विकास के लिए क्यों जरूरी है जिंक? जानें किन फूड्स से मिलेगा ये पोषक तत्व

बच्‍चों के विकास के लिए जिंक महत्‍वपूर्ण तत्व है। लेकिन जिंक सप्लीमेंट्स देते समय कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Nov 06, 2022 09:00 IST
बच्‍चों के विकास के लिए क्यों जरूरी है जिंक? जानें किन फूड्स से मिलेगा ये पोषक तत्व

बच्‍चों को अच्छे विकास के लिए पर्याप्‍त मात्रा में विटामिन्स और मिनरल्स की आवश्‍यकता होती है। ऐसा ही एक आवश्‍यक पोषक तत्‍व है जिंक। बच्‍चों के लिए जिंक रिच फूड टिशू डेवलपमेंट और इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत बनाने का काम करते हैं। जिंक की कमी से बच्‍चों में कमजोर इम्‍यू‍न सिस्‍टम, इंफेक्‍शन और अन्‍य बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है। इससे बच्‍चों में मृत्‍यु दर भी बढ़ सकती है। हेल्‍थ एक्‍सपर्ट्स के अनुसार 4 से 13 वर्ष तक के बच्‍चों को प्रतिदिन 5 से 8 मिलीग्राम जिंक की आवश्‍यकता होती है। इसलिए बच्‍चों की डाइट में जिंक की मात्रा को बढ़ाना जरूरी होता है। 

क्या बच्‍चों के लिए जिंक सप्‍लीमेंट्स जरूरी है

यदि बच्‍चे के शरीर में जिंक की कमी है तो एक्‍सपर्ट्स जिंक सप्‍लीमेंट्स खाने की सलाह देते हैं। कई बार प्रॉपर डाइट लेने के बावजूद जिंक की कमी को पूरा नहीं किया जा सकता। ऐसे में मार्केट में उपलब्‍ध सप्‍लीमेंट्स की मदद ली जा सकती है। 

इसे भी पढ़ें- शरीर में जिंक की कमी होने पर दिखते हैं ये 7 लक्षण, जानें जिंक से भरपूर फूड्स जो करेंगे कमी पूरी

जिंक के हेल्‍थ बेनिफिट्स

  • जिंक शरीर में प्रजनन अंगों के विकास के लिए महत्‍वपूर्ण है। 
  • जिंक आपके शरीर के इम्‍यून सिस्‍टम को बेहतर बनाने में मदद करता है। साथ ही कई बीमारियों से भी बचाता है। 
  • जिंक की कमी से बच्‍चों की याददाश्‍त कम हो सकती है। जिंक का सेवन करने से याददाश्‍त को बढ़ाने से मदद मिल सकती है। 
  • डायरिया होने पर जिंक का सेवन फायदेमंद हो सकता है। 
  • जिंक खांसी, जुकाम और कान के इंफेक्‍शन जैसी सामान्‍य बीमारियों से लड़ने में भी मदद करता है। इसके अलावा ये मलेरिया में भी फायदेमंद हो सकता है। 
  • जिंक एडीएचडी (अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर), टिनिटस के ट्रीटमेंट में भी महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है जो कानों में घंटी जैसी आवाज, सिर में गंभीर चोट, एनोरेक्सिया नर्वोसा, डाउन सिंड्रोम और अल्‍जाइमर जैसी समस्‍याओं का कारण बनता है। 
  • जिंक नेत्र रोग, एड्स, अस्‍थमा, मधुमेह व हाई बीपी के इलाज में मदद कर सकता है। 

जिंक देते समय बरतें सावधानी

कई वैज्ञानिकों का मानना है कि जब जिंक आवश्‍यकता से अधिक लिया जाता है तो ये शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है। जिंक की डोज और कंटेंट का ध्‍यान रखना जरूरी है। 

  • सप्‍लीमेंट्स में जिंक के साथ कैडमियम नामक धातु को मिलाया जाता है। कैडि‍मयम का अधिक मात्रा में सेवन करने से किडनी फेल होने की संभावना बढ़ जाती है। 
  • जिंक की पूर्ति के लिए जिंक ग्‍लूकोनेट का सेवन करें। इसमें कैडमियम का लेवल सबसे कम होता है। 

जिंक के लिए बच्‍चों की डाइट में शामिल करें ये फूड आइटम्‍स

  • रेड मीट
  • शैल फिश
  • आलू
  • बीन्‍स
  • नट्स
  • मशरूम
  • साबुत अनाज
  • ब्रेस्‍ट मिल्‍‍क

बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए जिंक का सेवन जरूरी है लेकिन किसी भी डाइट में बदलाव से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Disclaimer