किडनी, हृदय, पेट और सांस की तकलीफ को दूर करती है 'पहाड़ी इलायची', बालों और त्‍वचा के लिए भी है लाभदायक

भारतीय घरों में मसाले के तौर पर उपयोग की जाने वाली काली इलायची (पहाड़ी इलायची) के कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ हैं। यह कई रोगों को दूर करने में मददगार है। 

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Feb 24, 2020Updated at: Feb 25, 2020
किडनी, हृदय, पेट और सांस की तकलीफ को दूर करती है 'पहाड़ी इलायची', बालों और त्‍वचा के लिए भी है लाभदायक

इलायची (Cardamom) दो किस्‍म की होती है- हरी इलायची (Green Cardamom) जिसे छोटी इलायची के नाम से भी जाना जाता है। दूसरी है काली इलायची (Black cardamom) जिसे लोग बड़ी इलायची या पहाड़ी इलायची (Hill Cardamom) भी कहते हैं। इन दोनों में काली इलायची सबसे लोकप्रिय प्रजाति है। यह अपने अद्वितीय स्वाद और लाभ के लिए खाना पकाने में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है, तो हम यहां काली इलायची के बारे (Know about Black cardamom) में बात कर रहे हैं। काली इलायची एक छोटी जड़ी-बूटी है जो अपने तीक्ष्‍ण सुगंध और औषधीय लाभों के लिए जानी जाती है। काली इलायची का उपयोग मसाले, औषधि के रूप में किया जाता है, जिससे कई प्रकार की शारीरिक समस्‍याओं को दूर किया जा सकता है। 

इलाचयी के बीजों से निकाले गए तेल को सबसे प्रभावी एसेंशियल ऑयल (Cardamom Essential Oil) के तौर पर जाना जाता है, जिसे व्‍यापक रूप से अरोमाथेरेपी (Aromatherapy) में उपयोग किया जाता है। काली इलायची का प्रयोग कर हम अपने स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बना सकते हैं, साथ ही इससे हम अपनी त्‍वचा और बालों को भी लाभ पहुंचा सकते हैं। आइए, इस लेख में विस्‍तार से जानते हैं:

black-cardamom

काली इलायची के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ: Advantage of Black Cardamom For Health

1. हृदय स्‍वास्‍थ्‍य

काली इलायची हृदय स्वास्थ्य (Cardiac health) को भी काफी हद तक प्रभावित करती है। हृदय की लय को नियंत्रित करना इसके सबसे महत्वपूर्ण लाभों में से एक है, जो अंततः आपके रक्तचाप को नियंत्रित रखता है। काली इलायची के नियमित सेवन से आपका हृदय स्वस्थ रहता है। यह रक्त के थक्के की संभावनाओं को कम करता है। चिलचिलाती गर्मी के दौरान हीट स्ट्रोक से बचाने में भी यह मसाला बहुत कारगर है।

2. पेट को रखे स्‍वस्‍थ

काली इलायची पेट के लिए (Gastrointestinal) काफी फायदेमंद होती है। यह पेट के एसिड की मात्रा को नियंत्रण में रखने के लिए रस स्राव की प्रक्रिया को विनियमित करने में भी मदद करता है। नतीजतन, गैस्ट्रिक अल्सर या अन्य पाचन विकारों के विकास की संभावना काफी कम हो जाती है। यह पुरानी कब्ज को ठीक करने और भूख में सुधार करता है। 

3. श्‍वसन प्रणाली

यदि आप गंभीर सांस की तकलीफ (Serious Respiratory Troubles) से पीड़ित हैं, तो काली इलायची आपके लिए एक बेहतरीन औषधि है। अस्थमा, काली खांसी, फेफड़े की जकड़न, ब्रोंकाइटिस, पल्‍मोनरी ट्यूबरकुलोसिस आदि सहित कई श्वसन विकारों का इस छोटे से मसाले से सफलतापूर्वक इलाज किया जा सकता है। यह आपके श्वसन पथ को गर्म करता है जिससे फेफड़ों के माध्यम से हवा का संचार आसान हो जाता है।

4. मुख स्‍वास्‍थ्‍य

कई दंत रोगों, जैसे दांतों का संक्रमण, मसूड़ों के संक्रमण आदि का इलाज काली इलायची से किया जा सकता है। इसके अलावा, इसकी तीक्ष्‍ण सुगंध मुंह के दुर्गंध या खराब सांस को ठीक करने में मदद कर सकती है।

5. मूत्र संबंधी रोग

काली इलायची एक प्रभावी मूत्रवर्धक (Diuretic) होने के कारण, पेशाब की समस्‍या और गुर्दे की गंदगी को साफ करने में मदद करती है। यह आपके गुर्दे की प्रणाली को स्वस्थ रखती है।

इसे भी पढ़ें: "बिना ऑपरेशन के 9 से 10 mm के किडनी स्‍टोन को आसानी से निकाला जा सकता है" पढ़ें आयुर्वेदिक एक्‍सपर्ट की सलाह

त्‍वचा के लिए फायदेमंद है काली इलायची: Advantage of Black Cardamom for Skin

काली इलायची एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन सी और जरूरी खनिज- पोटेशियम से भरी होती है। इसलिए, मसाले का नियमित सेवन आपके आंतरिक तंत्र को विषाक्त पदार्थों से दूर रखता है, जिससे त्वचा की सतह पर रक्त के परिसंचरण में सुधार होता है, जिससे आपकी त्‍वचा हरदम स्‍वस्‍थ रह सकती है। काली इलायची न केवल आपकी बढ़ती उम्र को रोकती है, बल्कि यह आपको त्वचा की रंगत निखारने में भी मदद करती है।

इसे भी पढ़ें: हरी या काली इलायची... कौन सी है ज्‍यादा फायदेमंद? जानें इनके बीच का अंतर

बालों के लिए फायदेमंद है काली इलायची: Advantage of Black Cardamom for Hair

चाहे आप खाना पकाने में काली इलायची का उपयोग करें या इलायची के तेल का उपयोग करें। आप अपने बालों को दोनों तरीकों से लाभान्वित कर सकते हैं। काली इलायची के एंटी-ऑक्सीडेटिव गुण आपके स्कैल्प और बालों को पोषण प्रदान करने में सहायक होते हैं। नतीजतन, आप मजबूत, मोटे और चमकदार बाल प्राप्त करते हैं। यह प्रकृतिक रूप से एंटीसेप्टिक और जीवाणुरोधी होती है, इसलिए इसका सेवन खोपड़ी पर जलन और संक्रमण को रोकने के लिए भी अच्छा है।

Read More Articles On Ayurveda In Hindi

Disclaimer