रात को सोने से पहले नाभि में गाय का घी लगाने से मिलते हैं ये 6 फायदे

गाय के घी की कुछ बूंदे यदि नाभि में डाली जाएं और उसके आसपास हल्के हल्के हाथों से मालिश की जाए तो कई समस्याओं से राहत मिल सकती है।

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Sep 22, 2021
रात को सोने से पहले नाभि में गाय का घी लगाने से मिलते हैं ये 6 फायदे

हमारे आसपास कुछ ऐसी चीजें मौजूद होती हैं, जिनके उपयोग से शरीर को कई लाभ होते हैं। ऐसी ही एक चीज है गाय का घी (Cow Ghee)। अगर एक चम्मच गाय के घी यानी 15 ग्राम घी की बात की जाए तो इसके अंदर कैलोरी की मात्रा 135, सैचुरेटेड फैट 9 ग्राम, 45 मिलीग्राम कोलेस्ट्रॉल, कार्बोहाइड्रेट्स, फाइबर, शुगर, प्रोटीन आदि पोषक तत्व पाए जाते हैं। ऐसे में अगर इसका उपयोग रात को सोने से पहले नाभि में डालकर किया जाए तो सेहत को कई तरीकों से फायदा पहुंचा सकता है। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि रात को सोने से पहले यदि नाभि में गाय का देसी घी डाला जाए तो सेहत को क्या-क्या फायदे होते हैं। इसके लिए हमने आयुर्वेद संजीवनी हर्बल क्लिनिक शकरपुर, लक्ष्मी नगर के आयुर्वेदाचार्य डॉ एम मुफिक (Ayurvedacharya Dr. M Mufik) से भी बात की है। पढ़ते हैं आगे...

1 - जोड़ों का दर्द करे ठीक

जोड़ों के दर्द को ठीक करने में नाभि में लगाया गया गाय का घी बेहद उपयोगी है। बता दें कि रात को सोने से पहले यदि गाय के घी से नाभि के चारो तरफ हल्के हल्के हाथों से मालिश की जाए। या गाय के घी की कुछ बुंदें नाभि में डाली जाएं तो जोड़ों का दर्द दूर होने के साथ-साथ जोड़ों की सूजन और सुन्नपन से भी आराम मिल सकता है।

2 - सर्दी-जुकाम जैसी समस्याओं से राहत

बदलते मौसम में अक्सर लोग सर्दी जुकाम आदि से परेशान रहते हैं। ऐसे में इस समस्या को दूर करने के लिए नाभि में गाय का घी डालना बेहतर विकल्प है। रात को सोने से पहले गाय के घी की कुछ बुंदें नाभि में डालें, साथ ही आसपास हल्के हल्के हाथों से गाय के घी की मालिश करें। ऐसा करने से सर्दी जुकाम के साथ-साथ सर्दी के कारण हो रहा है सिर के दर्द से भी छुटकारा मिल सकता है।

इसे भी पढ़ें- भैंस का घी या गाय का घी, कौन है ज्यादा फायदेमंद? जानें न्यूट्रीशनिस्ट से

3 - कब्ज की समस्या को दूर करें

कब्ज की समस्या को दूर करने में भी गाय का घी बेहद उपयोगी है। बता दें कि गाय के घी की कुछ बूंदें अगर रात को सोने से पहले नाभि पर डाली जाएं तो इससे ना केवल पाचन क्रिया में सुधार आता है बल्कि गैस की समस्या से भी राहत मिलती है। ऐसे में कब्ज की समस्या के लिए हम गाय के घी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

4 - मासिक धर्म में उपयोगी

पीरियड्स के दौरान अक्सर महिलाएं काफी दर्द और ऐंठन का सामना करती हैं। ऐसे में इस दर्द को दूर करने में गाय का घी बेहद उपयोगी है। रात को सोने से पहले यह महिलाएं अपनी नाभि में गाय के घी को डालें। ऐसा करने से न केवल दर्द से राहत मिलती है उनकी ऐंठन की समस्या भी दूर हो जाती है।

5 - आंखों के लिए उपयोगी

गाय के घी के उपयोग से आंखों की कई समस्याओं को दूर किया जा सकता है। ऐसे में रात को सोने से पहले तीन से चार बूंद गाय के शुद्ध घी की नाभि पर डालें और आसपास उसको अच्छे से फैलाएं। अब हल्के हल्के हाथों से नाभि के आस-पास मालिश करें। ऐसा करने से न केवल आंखों का सूखापन दूर होता है बल्कि कमजोर नजर आदि से भी छुटकारा मिल सकता है।

इसे भी पढ़ें- Cow Ghee: 'गाय के घी' से सेहत को हो सकते हैं ये 6 नुकसान, जानें अधिक घी खाने पर क्या करें

6 - त्वचा के लिए अच्छा

रात को सोने से पहले अगर नाभि पर गाय का घी लगाया जाए तो ऐसा करने से त्वचा संबंधी सभी समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है। बता दें कि नेचुरल थेरेपी में इसके उपयोग से कई समस्याओं को ठीक किया जाता है। यह चेहरे पर चमक बनाए रखने के लिए भी उपयोगी है। ऐसे में आप गाय के घी को गर्म करें और उसकी कुछ बूंदे उंगली के माध्यम से नाभि के चारो तरफ लगाएं। अब हल्के हल्के हाथों से मालिश करें। ऐसा करने से त्वचा की कई समस्याएं दूर होंगी।

एक्सपर्ट की राय

रात को सोने से पहले और दिन में एक बार यदि गाय के घी की दो बूंदें नाभि में डाली जाएं तो माइग्रेन, अनिंद्रा की सम्सया, पुराना नज़ला, मिर्गी के दौरे पड़ना, सिर का दर्द, बालों के सफेद होने की समस्या, बालों का झड़ना आदि समसयाओं से छुटकारा मिल जाता है।  

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि नाभि में गाय का घी डालने से कई समस्याओं को दूर किया जा सकता है। लेकिन ध्यान रहे गाय का घी एकदम शुद्ध होना चाहिए। साथ ही इस घी का इस्तेमाल करने से पहले आयुर्वेदाचार्य से इसकी जरूरी मात्रा की जानकारी ले लें। उसके बाद ही निश्चित मात्रा में गाय के घी को नाभि पर इस्तेमाल करें।

इस लेख में फोटोज़ FREEPIK से ली गई हैं। 

Read More Articles on home remedies in hindi

Disclaimer